India’s Biggest

Rural Media Platform

कानपुर देहात

कानपुर देहात में मतदाताओं को जागरुक करने के लिए बनाया गया तीन किलोमीटर लंबा बैनर, गिनीज बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज़

मतदाता जागरुकता को लेकर कानपुर देहात ने आज इतिहास रचा। जिला प्रशासन ने सभी विभागों और लोगों के सहयोग से 3 किलोमीटर का जागरुकता बैनर बनाया, जो एक रिकार्ड है।

नोटबंदी की वजह से मुरझाए फूल, चुनावी माहौल में भी फूलों की नहीं मिल रही अच्छी कीमत

गेंदा की जाफरी किस्म की प्रजाति दिसंबर माह में बाजार में आ जाती है, इस बार नोटबंदी की वजह से लोगों ने सजावट के खर्चों में कटौती कर दी जिससे किसानों को इस बार नुकसान उठाना पड़ा रहा है।

भरभरा कर गिरी थी स्कूल की बिल्डिंग, गांव वाले बच्चों को अब स्कूल भेजने में रहे हैं डर

लोगों का आरोप है कि इस बिल्डिंग में सीमेंट-मौरंग के नाम पर बालू इस्तेमाल की गई, जिसने आज हमारे बच्चों की जिंदगी आफत में डाल दी थी। लोग अब बच्चों को स्कूल भेजने से डर रहे हैं।

दादी की दशा देख 9वीं के बच्चे ने बना डाली पार्किंसन बीमारी में मददगार लेजर छड़ी

बचपन में खिलौने को तोड़कर कुछ नया बनाने की कोशिश करने वाले कक्षा नौवीं के छात्र पार्थ बंसल ने पार्किंसन बीमारी को मात देने के लिए छड़ी बनाई है। इस बीमारी से ग्रसित अपनी दादी को राहत देने के लिए उन्होंने इस आविष्कार को साकार किया है।

50 साल की उम्र में किसान पर चढ़ा कुछ नया करने का जुनून, अब 4 महीने में 15 हजार खर्च कर ब्रोकली से कमाते हैं एक लाख

पांच साल पहले तक वह पुराने परंपरा की तरह फसलें करते थे, लेकिन उनको कुछ नया करने का जुनून था। साथ ही अधिक लाभ कमाना भी लक्ष्य। इस लक्ष्य को आखिर पूरा करने के लिए मददगार बना रेडियो पर आने वाला कार्यक्रम और शुरु की नई तरह की खेती।

रेल हादसे के पीछे साजिश की आशंकाओं के बीच रेलवे ने बढ़ाई सुरक्षा, ट्रैक पर रखी जा रही नजर

बिहार में पकड़े गए आरोपियों के खुलासे के बाद रेलवे और सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हो गई हैं। गिरफ्तार आरोपियों ने पुखरायां हादसे के पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ होने की बात कबूली है।

दादी की दशा देख 9वीं के बच्चे ने बना डाली पार्किंसन बीमारी में मददगार लेजर छड़ी

पार्किंसन एक ऐसी बीमारी है जो मरीज की पूरी की पूरी दिनचर्या प्रभावित कर सकती है क्योंकि यह एक दिमागी विकार है जो सामान्य ढंग से जिन्दगी जीने में मुश्किल पैदा करती है, इसमें अंग कांपने लगते हैं उस पर आप का नियंत्रण नहीं रह जाता है।

21 हजार युवाओं ने देश के जवानों के नाम लिखे संदेश

नये वर्ष के आगमन पर ये ख़त माननीय प्रधानमंत्री जी और रक्षा मंत्रालय की सहायता से उन सैनिकों तक पहुँचे, ऐसी इन युवाओं की कोशिश है।

कानपुर में ट्रेन हादसे के बाद जल्द ट्रैक पर दौड़ेंगी ट्रेनें

कानपुर देहात के रूरा रेलवे स्टेशन के पास 28 दिसंबर सुबह 5:18 बजे अजमेर जा रही सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस (12987) के 15 डिब्बे पटरी से उतर गए थे।