India’s Biggest

Rural Media Platform

ललितपुर

ललितपुर के कई गांवों के ग्रामीणों में रोष, मांगें नहीं हुईं पूरी, अब करेंगे चुनाव का बहिष्कार 

गांवों में चुनाव के समय प्रत्याशी आते हैं और वादा करके चलते बनते हैं। ऐसे में ग्रामीणों ने इस बार उन्हें सबक सिखाने का फैसला किया है।

राज बब्बर ने प्रधानमंत्री पर साधा निशाना, कहा प्रधानमंत्री नहीं समझते पद की गरिमा

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर” ने भाजपा पर शब्दों का प्रहार करते हुए कहा कि “प्रधानमंत्री मन की बात करते हैं, लेकिन विकास नहीं क्योंकि बीजेपी की नियत में खोट है।”

बुंदेलखण्ड की बदहाली के लिये जिम्मेदार सपा, बसपा और कांग्रेस, सब एक ही थैली के चट्टे-बट्टे: मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज सपा, बसपा और कांग्रेस को एक ही थैली के ‘चट्टे बट्टे’ बताते हुए बुंदेलखण्ड की बदहाली के लिये इन्हीं तीनों को जिम्मेदार ठहराया।

आचार संहिता के उल्लंघन में फंसे भाजपा प्रत्याशी

जिले के सीबी गुप्ता ग्राऊंड पर आयोजित भाजपा की जनसभा में भीड़ जुटाने के लिये क्षेत्र से आये वाहनों को डीजल व पैट्रोल की पर्चियां बांटना महरौनी और ललितपुर के भाजपा प्रत्याशियों को महंगा पड़ गया।

ललितपुर में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बसपा अध्यक्ष मायावती पर साधा निशाना, कहा पत्थर वाली बुआ से बचकर रहें सभी

बुंदेलखंड में अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार हमेशा गरीबों के लिए काम करती रहेगी। भाजपा वाले बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं।

बुंदेलखंड में बोले अमित शाह, हमने महिलाओं को गैस चूल्हा दिया, सपा सरकार ने अपराधियों को बढ़ावा, बीएसपी पर भी हमला

बुंदेलखंड मे भारतीय जनता पार्टी के अमित शाह राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ललितपुर के गिनौटी बाग मे बुंदेलखंड की दिशा व दशा पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए सपा पर हमला बोला।

अब बरसात नहीं है, फिर भी पुल पर रहता है ढाई से तीन फिट पानी

बरसात मे आयदिन पानी की बाढ़ आती रहती है, उस समय बाढ़ जैसे हालातों मे जनमानस को परेशान होना आम बात है! अब बरसात का मौसम नही है

बुंदेलखंड में ग्रामीणों की छुट्टा जानवरों से बचने की अनोखी पहल, फसल भी रहेगी सुरक्षित, गाय भी नहीं मरेंगी भूखी

छुट्टा जानवरों से परेशान बुंदेलखंड के किसानों ने मिलकर उपाय निकाला है। ग्रामीणों ने मिलकर फसलों को चौपट कर रहे पशुओं को ही आसरा दे दिया है। लोग अब बारी-बारी से इन्हें चराते हैं।

बुंदेलखंड का दर्द: मुद्दे तो हैं लेकिन मुद्दों की राजनीति नहीं

विधानसभा चुनाव की सरगर्मी बढ़ गई है। सभी राजनैतिक पार्टियों के उम्मीदवार चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे हैं और विजय पाने के लिए अलग-अलग हथकंडे अपनाने की जुगत में लग गए हैं, क्योंकि यहां पर जातिगत समीकरण हावी है।

बुंदेलखंड के सैकड़ों परिवार पलायन की तैयारी में

झांसी-लखनादौन राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे बसे सिमरिया गाँव के आदिवासी परिवारों के टेकनपुर मजरा में न तो चुनावी चर्चा है और न ही यहां के लोगों में किसी नेता व उम्मीदवार के बारे में जानने की जिज्ञासा, उन्हें तो सिर्फ उस संदेशे का इंतजार है जो उन्हें देश के किसी भी हिस्से में रोजगार का इंतजाम करा सके।

ललितपुर: शहर के अंदर खुलेआम बेची जा रही कच्ची शराब

शहर के अंदर चारों ओर कच्ची शराब खुलेआम बेची जा रही है। लेकिन शासन व पुलिस प्रशासन और ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है।