India’s Biggest

Rural Media Platform

विनीत बाजपेई

इंसान हूं वक़्त का पीछा करता रहता हूं,

नदी के वेग में बहती लहरों की तरह बहता रहता हूं।