India’s Biggest

Rural Media Platform

गाँव चौपाल

जगह-जगह कूड़े के ढेर, इलाके में संक्रामक बीमारियों ने पसारे पांव

शहर की मलिन बस्तियों की साफ सफाई एवं नाले-नालियों में कीटनाशक दवाओं का छिड़काव न होने से संक्रामक बीमारियों ने पांव पसारना शुरू कर दिया है।

बुंदेलखंड: सांसद आदर्श ग्राम योजना को आईना दिखाता ‘हन्ना बिनैका’ 

‘’नेता जी आए थे और उनके साथ जिले के अधिकारी भी आए थे। उस समय गांव की समस्याओं के लिए प्रस्ताव रखा गया था पर तीन साल बीत जाने के बाद भी हालत जस की तस है। मुझे तो यह विकास समझ नहीं आ रहा है।’’ यह कहना है 50 वर्षीय इंद्र मोहन शुक्ला का, जो सांसद भैरों प्रसाद मिश्र के गोद लिए गाँव के निवासी हैं।

नगर का विस्तार फाइनल, गुटबाजी से नहीं लगी आपत्तियां

नगर पंचायत शोहरतगढ़ के सीमा विस्तार को लेकर चल रही अटकलों पर विराम लग गया है। नगर विकास विभाग ने नगर का विस्तार फाइनल कर शासनादेश जारी करके 15 दिनों के भीतर आपत्तियां मांगी थी, लेकिन गुटबाजी के चलते आपत्तियां नहीं लग सकी हैं।

अयोध्या के लोग बोले, मंदिर-मस्जिद विवाद से कहीं ज्यादा बड़ी हैं राम की नगरी की समस्याएं

भाजपा ने यूपी में विधानसभा चुनावों को लेकर जारी किए गए अपने घोषणा पत्र में अयोध्या में राम मंदिर को संवैधानिक तरीके से बनवाने की बात कही है, पर अयोध्या के लोग इस राम मंदिर की राजनीति से आगे निकल चुके हैं। पढ़िए आखिर क्या चाहते हैं अयोध्या के लोग

सास-बहू, मां-बेटी सभी एक क्लास में 

ओमवती जब 52 वर्ष की उम्र में अपनी दोनों बहुओं को साथ लेकर पढ़ाई करने निकलीं तो गाँव वालों ने उनका खूब मजाक बनाया। लोगों की परवाह न करते अब तीनों एक साथ पढ़ाई तो करती ही हैं साथ ही फोन और योजनाओं को समझाने में भी सहयोग करती हैं।

काम पर वापस लौट रहे मनरेगा मजदूर

बीते साल मई से दिसम्बर तक आठ महीनों से जहां मनरेगा मजदूरों ने अपने हक की मजदूरी न मिलने पर काम छोड़ दिया था, वहीं पैसे मिलने के बाद मजदूरों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।

कानपुर इमारत हादसा: मरने वाले मजदूरों की संख्या आठ हुई, हादसे की जांच करेगी कमेटी 

जाजमऊ की केडीए कालोनी में ढही एक इमारत के मलबे से एक और मजदूर का शव निकाले जाने के साथ ही इस हादसे में मृतक संख्या बढ़कर अब आठ हो गई है।

इन्हीं तालाबों में ज़िंदा है बुंदेलखंड का भविष्य

जहां पूरा बुंदेलखंड पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस रहा है, वहीं बांदा जि़ले में एक गाँव ऐसा भी है जहां के चार तालाब लबालब हैं। गाँव के सभी 36 हैंडपंप पानी दे रहे हैं। कुओं में भी पानी 28-40 फीट पर है।

वित्त मंत्री जी, किसान चाहते हैं माफ़ हो कर्ज़ा तो महिलाएं चाहती हैं घर-घर पहुंचे सस्ती रसोई गैस

देश को आम बजट का इंतजार है। पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव और नोटबंदी के चलते ये बजट काफी महत्वपूर्ण है। देश के करोड़ों लोगों ने वित्त मंत्री से अपनी उम्मीदें बांध रखी हैं। चलिए आप को बताते हैं गांव के लोग क्या चाहते हैं इस बार बजट में।

पुत्र-पिता ने एक ही विधानसभा से ठोंकी दावेदारी

तिर्वा विधानसभा क्षेत्र से बसपा प्रत्याशी के रूप में विजय सिंह विद्रोही को टिकट दिया गया है। उन्होंने दो दिनों में चार सेट में अपने नामांकन पत्र दाखिल किए हैं। पहले तीन सेटों में और शुक्रवार को चौथा तथा अंतिम सेट भी दाखिल कर दिया।

बसपा प्रत्याशी की दो पत्नी, असलहे के भी शौकीन 

जिले में 19 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए नामांकन का दौर चल रहा है। दूसरे दिन चार नामांकन हुए। तिर्वा विधानसभा क्षेत्र से दो, कन्नौज और छिबरामऊ विधानसभा क्षेत्र से एक-एक नामांकन पत्र दाखिल किया गया।