India’s Biggest

Rural Media Platform

गाँव चौपाल

हर्बल घोल की गंध से खेतों के पास नहीं फटकेंगी नीलगाय, ये 10 तरीके भी आजमा सकते हैं किसान

गोमूत्र, मट्ठा और लालमिर्च समेत कई घरेलू चीजों से तैयार हर्बल घोल इस दिशा में कारगर साबित हो रहा है। हर्बल घोल की गंध से नीलगाय और दूसरे जानवर 20-30 दिन तक खेत के आसपास नहीं फटकते हैं।

साइकिल मिलने से 2017 में अखिलेश की वापसी की राह आसान हुई: ग्रामीण

पार्टी के बाद समाजवादी का चुनाव चिन्ह भी अखिलेश को मिलने पर उनके समर्थक गदगद हैं। चुनाव आयोग के फैसले को सही बताते हुए गांव के लोगों का मानना है अब 2017 में सपा की वापसी संभावनाएं बढ़ गई हैं।

केशव प्रसाद मौर्या के बिजनेस पार्टनर डॉ. बंसल के हत्यारों का अब तक सुराग नहीं, डॉक्टरों ने दिया सरकार को अल्टीमेटम

इलाहाबाद के जाने-माने अश्विनी कुमार बंसल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। अश्विनी कुमार बंसल के जीवन ज्योति अस्पताल में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्या का भी शेयर है। केशव प्रसाद मौर्या ने इसे प्रदेश में गुंडाराज का उदाहरण बताया है तो डॉक्टरों ने काम रोक दिया है

इंटरनेट साथी तोड़ रही हैं स्मार्टफोन को लेकर महिलाओं की झिझक

स्मार्टफोन और इंटरनेट को लेकर महिलाओं की झिझक तोड़ने और उन्हें जागरुक करने के लिए चलाए जा रहे गूगल इंडिया और टाटा ट्रस्ट के प्रोग्राम इंटरनेट साथी का असर दिखने लगा है। महिलाएं मोबाइल और टेबलेट से मेहंदी की डिजाइन से लेकर खाने तक की रेसिपी खोज रही हैं, कई महिलाओं ने इसी के सहारो रोजगार के जरिए तलाश लिए हैं।

ग्रामीण इलाकों की ज्यादातर लड़कियों में खून की कमी, छात्र-छात्राओं तक नहीं पहुंचती आयरन की गोलियां

छात्राएं ही नहीं बल्कि छात्र भी एनीमिया से पीड़ित हैं। एनीमिया से बच्चों को निजात दिलाने के लिए सरकार की ओर से स्कूलों में आयरन की गोलियां बांटने का प्रावधान है।

नक्सली इलाके में जहां उड़ती रहती थी बारुद की गंध, अब लहालहा रही है सब्जियों की फसलें

झारखंड से सटे यूपी के नक्सल प्रभावित जिस इलाके में बारुद की गंध आती रहती थी, वहां आजकल हरी-हरी सब्जियां लहलहा रही हैं। हिंसा और रोजगार की समस्या के चलते जो आदिवासी पलायन कर जाते थे, वो अब सब्जियां उगाकर मुनाफा कमा रहे हैं।

समय पर पैसे न मिलने और नकदी की कमी से मनरेगा सुस्त

पिछले दस वर्षों में इस योजना पर प्रदेश में पचास हजार करोड़ से अधिक रुपए खर्च किए गए और 27 करोड़ लोगों को मनरेगा के तहत रोजगार उपलब्ध कराया गया।

नोटबंदी के बाद किसानों के ज़ख्मों पर प्रधानमंत्री का मरहम, 60 दिन का कर्ज माफ़

कॉपरेटिव सेंट्रल बैंक और सोसायटी से जिन किसानों ने खरीफ और रबी की बुवाई के लिए कर्ज लिया था, उस कर्ज के 60 दिन का ब्याज सरकार वहन करेगी और किसानों के खातों में ट्रांसफर करेगी। 

बेसहारों को मिलेगा रहने का आसरा 

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उत्तर प्रदेश में 4,30,064 आवास बनेंगे। हर जनपद का लक्ष्य निर्धारित कर दिया गया है। सबसे अधिक लाभ अनुसूचित जाति के लोगों को मिलेगा।