India’s Biggest

Rural Media Platform

कृषि व्यापार

जमीनी हकीक़त: किसानों की आय बढ़ानी है तो मंडियों को जोड़ना होगा 

चुनाव के दौरान कई बार किसानों का कर्ज़ा माफ करने का वादा नेताओं के भाषणों में आया है, लेकिन खेती की असली समस्याओँ पर ध्यान न दिए जाने पर सवाल उठ ऱहे हैं।

उत्तर भारत में बढ़ी गाय-भैंसों की कीमतें, मुर्रा नस्ल की भैंसों की सबसे ज्यादा मांग

साहीवाल, मुर्रा जैसी नस्ल सुधारने वाली गाय-भैंसों की मांग उत्तर भारत में लगातार तेजी से बढ़ रही है लेकिन इस नस्ल के लिए प्रसिद्ध राज्य दूसरे राज्यों में भेजने पर कतरा रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में आलू बना चुनावी मुद्दा, मोदी ने आलू फैक्ट्री वाले बयान पर राहुल पर कसा तंज

जहां इस समय जिले समेत पूरे प्रदेश में आलू किसान अपने उत्पादन की अच्छी कीमत न पाकर मायूस हैं और नुकसान की मार झेल रहें हैं वहीं विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक पार्टियां अपने प्रस्ताव जनता के सामने रख रही हैं और वोट की अपील में जुटी हैं।

खेती की आउटसोर्सिंग: तेजी से बढ़ता आयात खेती को बना रहा है घाटे का सौदा, पढ़िए कैसे आयात पॉलिसी किसानों को कर रही है बर्बाद

देखा जाए तो गेहूं जैसी वस्तुओं का आयात खेती की आउटसोर्सिंग की तरह है। स्वामीनाथन खाद्य आयात को बेरोजगारी के आयात की संज्ञा दे चुके हैं। लेकिन यह किसानों की आजीविका के साथ-साथ हमारी खाद्य सुरक्षा और संप्रभुता से जुड़ा मुद्दा भी है।

जमीनी हकीकत: चुनाव आते ही जिंदा होता है कर्ज़ माफ करने का वादा

मैं कई बार सोचता हूं कि चुनाव के समय जब ये नेता और पार्टी कुछ भी करने को तैयार होते हैं तो किसान इस बात का फायदा क्यों नहीं उठा पाते?

कौड़ियों के भाव आलू- दिल्ली की मंडियों में 20 साल के निचले स्तर पर पहुंचीं कीमतें, किसानों की नहीं निकल रही लागत

प्याज़,टमाटर के बाद अब आलू के किसान परेशान हैं। दिन-रात की मेहनत और हजारों रुपये लगाकर पैदा हुए आलू के रेट इतने कम मिल रहे हैं किसानों की लागत नहीं निकल पा रही।  

मुर्गी को अलसी खिलाएं, महंगे बिकेंगे अंडे 

अलसी में भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 (अल्फा-लिनोलेनिक अम्ल) और लगभग 50 फीसदी प्रोटीन पाया जाता है। मुर्गियों को चारे के साथ अगर अलसी दी जाए तो मुर्गीपालक आसानी से ओमेगा-3 युक्त अच्छी गुणवत्ता के अंडे पा सकते हैं

‘इस साल आम आदमी की थाली से गायब नहीं होगी दाल’  

इस साल आम आदमी की थाली से दाल  गायब नहीं होगी। पिछले वर्ष दालों की खुदरा कीमतों में अनाप-शनाप उछाल ने आम आदमी की रसोई का बजट बिगाड़ दिया था। मौजूदा सत्र के दौरान देश में दलहनी फसलों की अच्छी पैदावार, सरकार द्वारा दालों का बफर स्टॉक तैयार करने और विदेशों से दालों के बड़े आयात के मद्देनजर उद्योग जगत के जानकारों को लगता है कि इस साल दालों की कीमतें नियंत्रण में बनी रहेंगी।

ट्विटर पर छाए गुजरात के ‘अनार दादा’

लोगों को एक-दूसरे से जोड़े रखने वाली सोशल वेबसाइट फेसबुक और ट्विटर पर आजकल ‘अनार दादा‘ चर्चा में हैं। अनार दादा गुजरात के एक ऐसे किसान हैं, जिन्होंने अपंगता को कभी अपनी राह का रोड़ा नहीं बनने दिया।

वैलेंटाइन डे पर किसानों के लिए खुशबू न बिखेर सकेगा गुलाब

शादी-ब्याह हो, नया साल हो या कोई भी जश्न का मौका, फूलों के साथ के बिना सब अधूरा है। फूलों का प्रचलन बढ़ता जा रहा है। वैलेंटाइऩ डे पर हर बार अच्छा कारोबार होता था लेकिन इस बार मायूसी है।

सीमैप में आयोजित मेला में किसानों को मिली औषधीय फसलों की जानकारी

प्रदेश के कई जिलों से आए हजारों किसानों को केन्द्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान (सीमैप) में आयोजित किसान मेला में औषधीय फसलों की खेती की जानकारी दी गयी।