India’s Biggest

Rural Media Platform

युवा

ग्रामीण छात्रों के लिए आसान हुई शिक्षा की राह

ग्रामीण भारत में जहां आज भी बहुत सारे विद्यार्थी सुविधाओं से वंचित हैं। ऐसे में बडी फॉर स्टडी संस्था जरूरतमंद बच्चों को छात्रवृत्ति मुहैया कराने में काफी मदद कर रही है।

छात्रवृत्ति पाना है तो बडी4स्टडी करेगी पूरी मदद

ग्रामीण भारत में जहां आज भी बहुत सारे विद्यार्थी सुविधाओं से वंचित हैं। ऐसे में बडी फॉर स्टडी संस्था जरूरतमंद बच्चों को छात्रवृत्ति मुहैया कराने में काफी मदद कर रही है।

मरीन इंजीनियरिंग में भविष्य की संभावनाएं

देश-विदेश में घूमने की सहूलियत और इंजीनियरिंग की दूसरी ब्रांचेस के मुकाबले अच्छी तनख्वाह और बहुत अच्छी जि़ंदगी मिलती है। साल के छह महीने जहाज पर रहना और बाकी महीने अपनी जिंदगी जीना।

शौक नहीं, युवाओं की ज़रूरत बनता जा रहा है नशा 

राजधानी के मोहनलालगंज की 84 ग्राम पंचायतों के युवकों ने पहले तो शौक में नशा करना शुरू किया लेकिन धीरे-धीरे अब ये नशा उनकी जरूरत बन गया है। 

युवाओं के लिए सुनहरा मौका, 4 हफ्ते के फ्री ऑनलाइन कोर्स के बाद आप शुरू कर पाएंगे खुद का बिजनेस

भारत सरकार और Upgrad ने मिलकर चार हफ्ते का एक ऐसा मुफ्त ऑनलाइन प्रोग्राम तैयार किया है, जो आपको अपने बिज़नेस को शुरू करने और उसे सफल बनाने के सभी गुर और सबक समझायेगा।

मुख्यमंत्री को सुझाव : प्राथमिक शिक्षा को बेहतर बनाए बिना यूपी का भला होना संभव नहीं

उत्तर प्रदेश में प्राथमिक शिक्षा में सुधार के लिए बीजेपी से प्रदेश के लोग कई अन्य अपेक्षाएं भी करने लगे हैं। शिक्षा में सुधार के लिए कई लोगों ने अपने सुझाव भी दिए हैं।

छात्र-छात्राओं को नई सरकार से बहुत उम्मीदें 

कॉलेज जाने वाले छात्र-छात्राओं को भारतीय जनता पार्टी से बहुत उम्मीदें हैं।अपनी उम्मीदों को पूरा करने के लिए ही छात्र-छात्राओं ने भाजपा को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी।

युवाओं की टीम ने खुद के बनाए ग्रेविटी मैपर की मदद से चांद पर दफन गड्ढों की खोज की

वेस्टलाफेट, इंडियाना के पर्ड्यू यूनिवर्सिटी (अमेरिका) में पढ़ने वाले जे मेलोश और उनके सहयोगियों ने खुद के गणितीय मॉडल के साथ गुरुत्वाकर्षण-मैपिंग डेटा की मदद से, दो भूमिगत ज्वालामुखी विस्फोट के बाद बने गड्ढों की पुष्टि की है।

कला से गांव की तस्वीर बदल रहे युवा कलाकार, किसानों के लिए बनवाया तालाब, फसलों में उकेरी किसानों की व्यथा

30 वर्षीय श्वेता भट्टड़ पेशे से मूर्ती कलाकार हैं। इसी उम्र के परविंदर कोरियोग्राफर हैं तो 18 साल के युवा आर्दश ढोके सीए की पढ़ाई कर रहे हैं तो युवा किसाना गणेश ढोके ग्रेजुएशन के छात्र हैं। ग्राम आर्ट प्रोजेक्ट के तहत ये युवा किसनों के साथ-साथ महिलाओं को सफाई के प्रति जागरूक कर रहे हैं।

इन टिप्स को आजमाइए, आसानी से होंगे एग्ज़ाम

परीक्षा होने से पहले अक्सर छात्र खाना-पीना और सोना छोड़ देते हैं क्योंकि उनको बहुत घबराहट होती है। तनाव, घबराहट की एक सामान्य प्रक्रिया है। कई बार तनाव अच्छी भूमिका अदा करता है लेकिन तनाव तब हानिकारक भी हो जाता है, जब हम उन्हें हद से ज्यादा बढ़ा देते हैं।

सलाह: रणनीति अपनाकर बोर्ड परीक्षा में पा सकते हैं सफलता

बच्चों पर पाबदियां लगा दी जाती हैं कि ये करो या ना करो, एग्जाम टाइम है। इससे उनके मन एक खौफ सा बैठ जाता है और वे पढ़ाई को बोझ समझने लगते हैं। उनकी सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है।