India’s Biggest

Rural Media Platform

स्वयं प्रोजेक्ट

सिद्धार्थनगर जिला भी होगा खुले में शौच मुक्त

अभय श्रीवास्तव (24 वर्ष) कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

सिद्धार्थनगर। प्रदेश भर में गाँवों को स्वच्छ रखने के लिए मुहिम चलायी जा रही है। ग्राम पंचायतों को खुले से शौच मुक्त करने के लिए हाल में जिला मुख्यालय पर पांच दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

व्यवहार में परिवर्तन लाने का काम करें

कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य विकास अधिकारी अखिलेश तिवारी ने दीप प्रज्जवलन करके किया। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि हमारा जनपद भी वर्ल्ड बैंक के द्वारा खुले में शौच मुक्त करने के लिए नामित किया गया है। आप सभी लोग यहां से प्रशिक्षित होकर अपने-अपने विकास खंड में जाकर एक खुले में शौच मुक्त विकास खंड और जनपद बनाने के लिए लोगों को जागरूक करने के साथ उनके व्यवहार में परिवर्तन लाने का काम करें।

कई अधिकारी-कर्मचारी हुए शामिल

जिला पंचायत राज अधिकारी भास्कर दत्त पांडेय ने संबोधित करते हुए लोगों को बताया कि पांच दिन की इस आवसीय प्रशिक्षण में आप लोगों को समुदाय आधारित संपूर्ण स्वच्छता अभियान में खुले में शौच मुक्त जनपद बनाने के लिए भिन्न-भिन्न तरीकों को बताया जायेगा, जिसे आप लोग अनुशासन में रहकर सीखें। पांच दिवसीय कार्यशाला में जिले के सभी ब्लॉकों से आए 29 सफाईकर्मी, दस एडीओ पंचायत, छह खंड प्रेरक, एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, समाजसेवी, रोजगार सेवक, एएनएम, आशा, पंचायत सचिव, ग्राम प्रधानों को प्रशिक्षित किया गया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).