India’s Biggest

Rural Media Platform

स्वयं प्रोजेक्ट

#स्वयंफ़ेस्टिवल: योजनाएं बताने दुम्हान गाँव में जुटा पूरा प्रशासन

स्वयं डेस्क/ कम्युनिटी जर्नलिस्ट : भीम कुमार (31 वर्ष)

दुद्धी (सोनभद्र)। सोनभद्र के दुद्धी ब्लाक के दुम्हान गाँव में मेले के चौथे दिन ब्लाक स्तर का पूरा प्रशासन ग्रामीणों को उनके हित के लिए चलाई जा रही सरकार की योजनाओं से परिचित कराने के लिए जुटा हुआ था।

देश के पहले ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर 2-8 दिसंबर तक उत्तर प्रदेश के 25 ज़िलों में स्वयं फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। आपका शहर सोनभद्र भी इन 25 जिलों में शामिल है। दुद्धी ब्लाक क्षेत्र के दुम्हान गाँव में पशुधन, स्वास्थ्य, ओडीएफ, डायल 100 और 1090 शिविर लगाए गए।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि क्षेत्राधिकारी मनमोहन पाण्डेय ने कहा, खुले में शौच करने से वातावरण दूषित होता है। आप लोग अपने गाँव को खुले में शौच से मुक्त करने का प्रयास करें। उन्होंने उपस्थित महिलाओं व छात्राओं को उत्तर प्रदेश पुलिस की कई उन योजनाओं के बारे में बताया जो सिर्फ महिलाओं की सुरक्षा के लिए ही तैयार की गई हैं। डायल 100, 1090 के बारे में ग्रामीणों से रूबरू होते हुए उन्होंने कहा कि अगर आप महिलाओं कोई भी परेशान करें तो बस 1090 डायल करे दें, आपकी गुहार सुनने की तैयारी तुरंत शुरू हो जाएगी।

कोतवाल विनय कुमार सिंह ने अपने संबोधन में साइबर क्राइम से जुड़े कई अहम् जानकारी दिए। आरआई रेडियो अशोक कुमार शर्मा ने 100,1073 सड़क हादसे के बारे में जुड़े सभी जानकारियां दी। चिन्तामड़ी सिंह, मधु पनिका ने ग्रामीण से जुड़े मजदूर, महिलाओं का कैसे उत्पीड़न हो रहे और उससे कैसे बचें इस बारे में छोटी छोटी जानाकरियां दी।

तहसीलदार कैलाश यादव ने ओडीएफ से जुड़ी खुले में शौच मुक्त के लिए विशेष जानकारी दिए।

स्वास्थ्य विभाग से आए डॉ संजय जायसवाल ने बताया कि कोई भी गर्भवती महिला अगर परेशानी में होती है तो वह 102,108 डायल कर सामुदायिक स्वास्थ्य

केंद्र पहुंच कर समय से इलाज करा सकता है। डॉ गौरव सिंह शिविर के माध्यम से बताया कि स्वच्छता से शरीर स्वस्थ रहेगा और खुले में शौच करने से क्या हानियां हो सकती हैं, इस बारे में जानकारी दी। साथ ही गाँव अपने इलाके को खुले में शौच से मुक्त बनाए इसके लिए ग्रामीणों को समझाया।

डॉ दिलीप जायसवाल, डॉ राजेश, किरन भारती, शारदा सिंह सहित स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मरीजों का परीक्षण किया और जांच के बाद जिनको दवा की जरूरत है उन्हें दवा दी। जिनकी हालात में अधिक खराबी दिखी उन्हें अस्पताल जाने को कहा।

पशुधन विभाग से इस मेले में डॉ केपी सिंह अपनी टीम के साथ आए, उन्होंने बताया कि पशु ग्रामीणों के लिए धन की तरह है, अगर वह बीमार होता है तो उसका शीघ्र इलाज कराएं। टीम ने कई गाय, भैंस, बकरी का टीकाकरण किया और कुछ बीमार मवेशियों की जांच करने के बाद उनके मलिकों को दवा भी दी।

इस मौके पर लेखपाल अरुण कुमार कनौजिया ने कृषि बीमा से सम्बंधित कई जानकारियां दी। कार्यक्रम का संचालन ग्राम प्रधान प्रतिनिधि रामसुरेश कुशवाहा ने किया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).