India’s Biggest

Rural Media Platform

स्वयं प्रोजेक्ट

#स्वयंफ़ेस्टिवल: कोटेदार ब्लैक में नहीं बेच पाएंगे राशन, यह जान ग्रामीणों के चेहरे दमके

स्वयं डेस्क/कम्युनिटी जर्नलिस्ट : करन पाल सिंह

सोनभद्र। अब कोटेदार राशन की चोरी नहीं कर पाएगा, जिलाधिकारी सोनभद्र की यह लाइनें सुनकर चौपाल में खुसर पुसर होने लगी। ग्रामीणों के चेहरे खुशी से चमका रहे थे, एकदूसरे से पूछ रहे थे 'कइसे भाई इ चौरी बंद होगी।'

देश के पहले ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर 2-8 दिसंबर तक उत्तर प्रदेश के 25 ज़िलों में स्वयं फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। आपका शहर सोनभद्र भी इन 25 जिलों में शामिल है। स्वयं फेस्टिवल का आज पांचवा दिन है। पांच दिन तक सोनभद्र में लगे स्वयं फेस्टिवल मेले में 27,000 जनता ने इसमें हिस्सा लिया।

सोनभद्र के राबर्ट्सगंज ब्लॉक के जमुआंव गाँव में सोनभद्र के जिलाधिकारी सीबी सिंह और पुलिस अधीक्षक लल्लन सिंह ने चौपाल लगाई और ग्रामीणों की समस्या सुनी। इस चौपाल में ग्रामीणों की मांग पर जमुआंव में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के किफायती दर पर 2 रुपए गेहूं और 3 रुपए किलो चावल मुहैया करने के लिए 500 राशन की यूनिट बढ़ाने के आदेश जिलापूर्ति अधिकारी रामजतन यादव को दिया।

डीएम चौपाल में सोनभद्र के जिलाधिकारी सीबी सिंह व अन्य।

स्वयं फेस्टिवल की डीएम चौपाल में ग्रामीणों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। इस अवसर पर जिले के दोनों बड़े अफसरों ने यह आश्वासन दिया की घबराएं नहीं सभी समस्याओं की उचित सुनवाई होगी और उसका निराकरण किया जाएगा। बस थोड़ा धैर्य रखें।

जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से कहा कि अब कोटेदार राशन की चोरी नहीं कर पाएगा क्योंकि सारा सिस्टम अब आनलाइन हो गया है। जिलाधिकारी ने मौके पर कोटेदार को बुलाकर वितरण प्रणाली की जानकारी ली और हिदायत दी की हर हाल में पात्रों को किफायती दर पर खाद्यान मुहैया हो।

जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य बाल विकास, विभिन्न प्रकार की पेंशन, आवास अदि के बारे में जानकारी करते हुए मौके पर मौजूद विभागीय अधिकारिओं को सचेत किया की जमुआंव गाँव का कोई भी नागरिक सरकारी लाभ से वंचित न रहे।

पुलिस अधीक्षक ने भी लोगों के बीच जा कर उनके दुःख दर्द सुना और पुलिस विभाग से अपनी हर समस्या को बताने को कहा। साथ ही भी कहा कि उनकी सभी समस्या का निरकरण अवश्य होगा।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).