India’s Biggest

Rural Media Platform

स्वयं प्रोजेक्ट

#स्वयंफेस्टिवल: नोटबंदी के दौरान सिद्धार्थनगर में बच्चों ने कहा, पेटीएम मतलब मोबाइल में बटुआ

स्वयं डेस्क/दीनानाथ (कम्युनिटी जर्नलिस्ट) 34 वर्ष

सिद्धार्थनगर। नोटबंदी के दौरान जब आपके पास पैसे नहीं थे तब आप अपने मोबाइल में पेटीएम के जरिये अपने खर्चों को निपटा सकते थे। अगर आप पेटीएम का इस्तेमाल करते और औरों को भी पेटीएम के इस्तेमाल के बारे में बताते हैं तो आपके खर्चे बड़ी आसानी से नोटबंदी के दौरान भी चलते रहते। पेटीएम से आप बिजली का बिल, मोबाइल रिचार्ज, दुकानों से खरीदारी जैसे कई खर्चे निपटा सकते हैं। पेटीएम के बारे में यह महत्वपूर्ण जानकारी नौगढ़ ब्लॉक के तितरी बाजार स्थित राजकीय बालिका इंटर कॉलेज के बच्चों को दी गई। यह कार्यक्रम गाँव कनेक्शन की ओर से आयोजित किया गया। बता दें कि गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर 2 से 8 दिसंबर तक 25 जिलों में मनाए जा रहे देश के सबसे बड़े ग्रामीण उत्सव स्वयं फेस्टिवल में 1000 कार्यक्रम किये जा रहे हैं।

तब बोल उठे बच्चे

कार्यक्रम में राजकीय बालिका इंटर कॉलेज के बच्चों ने पेटीएम को मोबाइल में डाउनलोड करना भी सीखा और एप्प के बारे में कई जानकारियां बटोरीं। इस दौरान जब बच्चों से पूछा गया कि क्या अब आप पेटीएम के बारे में औरों को भी बताएंगे? तो कॉलेज की छात्रा रागिनी ने उठकर कहा कि "पेटीएम मतलब मोबाइल में बटुआ।" हम पेटीएम के बारे में और लोगों को बताएंगे। रागिनी के साथ कार्यक्रम में मौजूद सभी लड़कियों ने भी सहमति जताई।

यूपी पुलिस के बारे में भी जाना

इतना ही नहीं, कॉलेज की छात्राओं ने यूपी पुलिस की नई सेवाओं के बारे में भी जाना। छात्राओं को यूपी पुलिस की आपातकालीन हेल्पलाइन यूपी 100, महिला हेल्पलाइन 1090, साइबर क्राइम, ई-एफआईआर, टिवटर सेवा आदि सेवाओं के बारे में विस्तार से बताया गया। उन्हें बताया गया कि यूपी पुलिस अब अपनी छवि बदल रही है और लोगों की मदद के लिए नई-नई सेवाएं ला रही है।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).