India’s Biggest

Rural Media Platform

स्वयं प्रोजेक्ट

सोनभद्रः बेमौसम बारिश से किसान परेशान, फसलों और जानवरों के लिए नुकसानदायक

करन पाल सिंह/ भीम कुमार (स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क)

दुद्धी (सोनभद्र)। “अभी परसों ही अपने खेत से होकर गया था लाही की फसल में फूल ही फूल दिख रहे थे, लेकिन लगातार दो दिन से रुक-रुक के हो रही बारिश से फसल के अधिकतर फूल टूट गए और पौधे भी खेत में बिछ गए। अब तो लगता है लागत भी नहीं निकल पाएगी।” छाता लिए अपनी लाही की फसल को बड़े ध्यान से देखते सुजीत अहिरवार (49 वर्ष) बताते हैं।

सोनभद्र जिले में बीते दो दिनों से क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश किसानों के लिए मुश्किल बन रही है। दुद्धी के रहने वाले किसान प्रयाग (38 वर्ष) बताते हैं, “हमने गेहूं के खेत में तीन दिन पहले ही पानी लगाया था। पर बारिश से गेहूं की फसल अधिक पानी की वजह से खराब हो सकती है।”

वहीं किसान बनवारी लाल (48 वर्ष) बताते हैं, “जिसको गेहूं के खेत में पानी की जरूरत है, उसके लिए ही ये बारिश सही है लेकिन बहुत सारे किसानों के लिए ये नुकसानदायक साबित हो सकती है। गेहूं, सरसों, अरहर, मटर, टमाटर, आलू की खेती पर भी इसका खराब असर पड़ सकता है।”

बनवारी आगे बताते हैं, “इस बारिश से सर्दी के दिनों में ठण्ड बढ़ जाने से जानवरों की हालत भी खराब हो जाएगी और किसानों को नुकसान हो सकता है।”

इस ठंडक में बारिश से अपने जानवरों को बचाएं उन्हें भीगने न दें। जानवरों के बाड़े में आग जलाकर रखें जिससे उन्हें पर्याप्त मात्रा में गर्मी मिलती रहे। ठंड में बहुत कम बीमारियां होती है लेकिन जानवरों को ठंड से बचाकर रखें। अगर मवेशियों को ठंड लग जाती है तो दुधारू पशुओं का दूध कम हो जाता है।
अजय कुमार श्रीवास्तव, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, सोनभद्र
अगर बारिश हो रही है तो गेहूं को कोई नुकसान नहीं होगा। सरसों के फूल गिरने की सम्भावना होती है। अगर बारिश झोकों के साथ नहीं हो रही है तो अरहर को कोई नुकसान नहीं है। मटर में बारिश ज्यादा होने से उसकी फली दबने का डर रहता है। टमाटर में अगर ज्यादा बारिश होती है पानी की वजह से सड़ने का डर रहता है।
राजीव कुमार भारती, जिला कृषि अधिकारी, सोनभद्र

पांच बीघा खेत में टमाटर की फसल करने वाले किसान शिवकांत ओझा (56 वर्ष) बताते हैं, “टमाटर की फसल तैयार हो रही है, लेकिन मौसम की बेरुखी के कारण फसल की चिंता हो रही है। बारिश के कारण टमाटर का फल जमीन में पानी से भीग रहा है, ऐसे ही रहा तो कुछ दिन में सड़ने भी लगेगा।”

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).