‘बदलाव का हिस्सा हैं साजिद-वाजिद’

‘बदलाव का हिस्सा हैं साजिद-वाजिद’gaonconnection

1996 में रिलीज हुआ सिंगर सोनू निगम का अलबम दिवाना काफी हिट हुआ था। इसी अलबम के साथ संगीतकार जोड़ी साजिद-वाजिद ने अपने करियर की शुरुआत की थी। आज उनके कंपोज और गाए हुए गानों पर सलमान खान परफॉर्म करते हैं। तबला वादक उस्ताद शराफत खान के बेटे साजिद-वाजिद इन दिनों सारेगामापा में जज के रूप में दिखाई दे रहे हैं। वे मानते हैं कि नब्बे से लेकर अब इंडस्ट्री में जो बदलाव आए हैं वे इसका हिस्सा हैं। लखनऊ में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने बातचीत की।  

यूपी से इस बार कम लोग आए हैं

सारेगामापा के लगातार तीसरे सीजन को जज कर रहे साजिद-वाजिद ने कहा कि इस बार यूपी से कम लोग आए हैं जबकि यहां लोगों में टैलंट बहुत है। यूपी के एकमात्र पार्टिसिपेंट  सचिन कुमार हैं जो काफी टैलंटड हैं। उम्मीद है कि वे आगे तक जाएंगे। रियलिटी शो के बारे में बात करते हुए साजिद-वाजिद ने कहा कि यहां पार्टिसिपेंट्स को काफी कुछ सीखने को मिलता है। कभी-कभी आपकी कमियां भी बताई जाती हैं जिन्हें स्वीकारना आना चाहिए क्योंकि एक ही रात में आप स्टार नहीं बन सकते। धीरे-धीरे खामियों से सीखकर ही आगे बढेंगे। फिर आजकल म्यूजिक इंडस्ट्री में स्कोप बहुत है। नब्बे के दशक में तो बस गिने-चुने सिंगर्स को ही मौके मिलते थे। 

सलमान भाई के साथ यूं ही काम मिलता रहे

सलमान खान के साथ काम करने को लेकर साजिद ने कहा कि इशांअल्लाह उनके साथ यूं ही आगे भी काम करने को मिलता रहे। वे हमारे लिए सबकुछ हैं। उनका हमारा रिश्ता बेहद खास है। आगे अभी उनके साथ दबंग-3 और जुड़वा के लिए प्लान कर रहे हैं। वहीं इंडस्ट्री में खेमेबाजी को लेकर वाजिद ने कहा कि खेमेबाजी कुछ नहीं होता। बस बात ये है कि आप किसे पसंद करते हैं और कौन आपका काम परफेक्टली कर रहा है। अगर कोई इंसान आपको तवज्जो दे रहा है तो आप उसी के साथ काम करना पसंद करेंगे।

इंडस्ट्री में बने रहने के लिए मेहनत जरूरी

बदलते म्यूजिक के दौर के बारे में वाजिद ने बताया कि हर किसी का अपना समय होता है और इंडस्ट्री में जमे रहने के लिए समय के हिसाब से चलना बहुत जरूरी है। अब देश में लगभग हर चीज को सहमति मिल रही है। जो बातें पहले हम सोच भी नहीं सकते थे वो आज छोटे शहरो में रही हैं। निश्चित रूप से बदलाव आ रहा है और मैं भी उस तब्दीली का हिस्सा हूं। आज भी लोग साजिद-वाजिद को सुनना पसंद करते हैं। 

कोई भी एक दिन में स्टार नहीं बनता

साजिद-वाजिद कहते हैं कि हमसे हर बार पूछा जाता है कि रियलिटी शोज विनर मिसिंग क्यों रहते हैं। इसका बस यही जवाब है कि कोई भी संस्थान बच्चे की पढ़ाई की जिम्मेदारी ले सकता है उसकी नौकरी की नहीं। फिर अरिजित, श्रेया, सुनिधि और कुणाल जैसे सिंगर एक दिन में नहीं बनते। वहीं रियलिटी शोज यूथ को भटकाते हैं इस बारे में वाजिद ने कहा कि हर बच्चा एक जैसा नहीं होता। कुछ लोगों की सोच ऐसी होती होगी। कुछ लोगों को उन्हें ये आखिरी पड़ाव लगता होगा। ये पार्टिसिपेंट्स पर डिपेंड करता है कि वो क्या बनना चाहते हैं। यहां बड़े स्टार आकर अगर आपको प्रोत्साहित करें तो ये समझना चाहिए कि आपने अच्छा परफॉर्म किया है इसलिए आपकी तारीफ हो रही है। इसे आगे जारी रखना चाहिए।

रिपोर्टर - शेफाली श्रीवास्तव

Tags:    India 
Share it
Top