‘मेक इन इंडिया’ जापान में एक आन्दोलन बन चुका है: नरेंद्र मोदी

‘मेक इन इंडिया’ जापान में एक आन्दोलन बन चुका है: नरेंद्र मोदी

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ जापान में एक आंदोलन बन गया है और उसने इसके लिए करीब 12 अरब डॉलर की राशि निर्धारित की है।

मोदी ने भारत-जापान व्यापारी नेता मंच को संबोधित करते हुए आज कहा, जापान में आज एक ‘मेक इन इंडिया’ आंदोलन है। मुझे बताया गया है कि इसके लिए 11 से 12 अरब डॉलर की राशि निर्धारित की गई है। यह स्पष्ट रूप से बताता है कि दोनों देश आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ मुहिम केवल भारत ही नहीं बल्कि जापान में भी ‘मिशन मोड’ में आगे बढ़ रही है।

मोदी ने कहा कि जापान पहली बार भारत से कारें आयात करेगा। उन्होंने कहा, मारुति सुजुकी यहां निर्माण करेगी.. जापानी कंपनी यहां निर्माण करेगी और जापान में इसका निर्यात करेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और जापान को केवल उच्च गति की रेलगाड़ियों के क्षेत्र में ही नहीं बल्कि उच्च गति के विकास के क्षेत्र में भी एक साथ आगे बढना चाहिए। उन्होंने जापान की अपनी पिछली यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि जापान ने 35 अरब डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता व्यक्त की थी।

आर्थिक मोर्चे पर जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा कि दोनों देश नजदीकी से काम करना चाहेंगे। इससे दोनों को फायदा होगा। उन्होंने कहा, मजबूत जापान, भारत के लिये अच्छा है और मजबूत भारत, जापान के लिये अच्छा है मुझे उम्मीद है कि हमारे दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंध हमेशा करीबी बने रहेंगे। 

भारत और जापान के बीच द्विपक्षीय व्यापार वर्ष 2014-15 में 15.51 अरब डालर रहा जबकि एक साल पहले 2013-14 में यह 16.29 अरब डॉलर रहा था। भारत को जापान से अप्रैल 2000 से लेकर सितंबर 2015 तक 19.16 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्राप्त हुआ। 

बैठक में भारती एंटरप्राइजिज के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल, आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक चंदा कोचर, एस्सार समूह के चेयरमैन शशि रइया, सीआईआई अध्यक्ष सुमित मजुमदार, फिक्की की अध्यक्ष ज्योत्सना सूरी और एसोचैम अध्यक्ष सुनील कनोरिया जैसे लोग शामिल रहे।

First Published: 2016-09-16 16:02:00.0

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top