‘मेरे मरने के बाद बिना घूस लिए इंसाफ करना’

‘मेरे मरने के बाद बिना घूस लिए इंसाफ करना’Gaon Connection

गाँव कनेक्शन नेटवर्क

लखनऊ। परिजनों के तथाकथित तौर पर ताना मारने से परेशान रोली ने आत्महत्या कर ली। उसने पुलिस से शिकायत की थी लेकिन पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया, इसीलिए रोली ने सुसाइड नोट में लिखा, “सर, आप बिना घूस लिए मरने के बाद मेरे साथ इंसाफ करना”।

मामले की सूचना पर पहुंची पुलिस ने सुसाइड नोट मिलने पर चचेरे भाई और चचेरी भाभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जबकि अन्य आरोपी फरार हैं। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मामला विभूतिखंड थाना क्षेत्र के ग्राम कठौता का है। यहां की रहने वाली रोली (18 वर्ष) अपने भाई कमलेश कुमार के साथ रहती थी। पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक रोली का बाराबंकी निवासी एक युवक से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। पिछले वर्ष युवक की शादी हो गई थी तो इस बात पर रोली के चचेरे भाई महेश, राकेश और उसकी पत्नी पुष्पा और उसके चाचा शंकर आये दिन उसे ताना मारते और मारपीट करते थे।

भाई कमलेश ने बताया कि इस बात की शिकायत उसने कई बार स्थानीय पुलिस से की थी लेकिन पुलिस समझौता करा देती थी। पुलिस ने बताया कि गुरुवार की सुबह रोली को सभी ने फिर ताना मारते हुए मर जाने की बात कही। 

तथाकथित तौर पर तानों से परेशान रोली ने कठौता झील में कूदकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने इस मामले में चचेरे भाई महेश और राकेश की पत्नी पुष्पा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। थानाध्यक्ष विभूतिखंड सत्येंद्र कुमार राय ने बताया कि सुसाइड नोट के अनुसार रोली परिजनों के तानों से परेशान थी।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top