नज़रअंदाज़ न करें बच्चों का गुमसुम रहना

नज़रअंदाज़ न करें बच्चों का गुमसुम रहनाgaoconnection

डिप्रेशन में बच्चा चुप और गुमसुम रहने लगता है। उसके मन में नकरात्मक सोच आने लगती है और वो पढ़ाई, खेल में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते। समस्या बढ़ने पर बच्चा दूसरे को नुकसान भी पहंुचा सकता है। इसके लक्षण और उपचार बता रही हैं बाल मनोचिकित्सक डॉ. सविता

कारण 

  • बच्चों में डिप्रेशन या तनाव के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें सबसे बड़ा कारण पढ़ाई का तनाव होना है। सिलेबस पूरा न कर पाना, कक्षा में अच्छा प्रदर्शन न करना, अच्छे नम्बर न पाना आदि कारणों से बच्चा परेशान हो जाता है। 
  • आज के समय में सोशल साइट्स का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। बच्चों को मोबाइल, कम्प्यूटर की इतनी आदत पड़ जाती है कि जब उन्हें इसके लिए मना किया जाता है तो तनाव में आ जाते हैं।
  • मां-बाप का बच्चों को ज्यादा समय न देना भी उनके तनाव का एक कारण है।
  • जब बच्चा लगातार प्रतियोगिताओं में फेल होने लगता है तो यह भी उसके डिप्रेशन का एक कारण हो सकता है।

लक्षण

  • चिड़चिड़ापन रहना।
  • जल्दी घबरा जाना।
  • हमेशा गुमसुम रहना।
  • फालतू में बात-बात पर रोना।
  • बिना किसी कारण खुश या दुखी होना।

उपचार 

मां-बाप को बच्चों की भावनाओं को समझना चाहिए उनके साथ समय बिताना चाहिए। अगर डिप्रेशन में है तो बाल मनोचिकित्सक से जाकर मिलें और उचित कारण का पता लगाने की कोशिश करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top