93.8% महिलाओं को घर के फैसलों में बोलने का अधिकार

93.8% महिलाओं को घर के फैसलों में बोलने का अधिकारgaonconnection

पणजी (भाषा)। गोवा में महिला सशक्तीकरण की दिशा में सकारात्मक संकेत देखने को मिला है। दरअसल राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NFHS) में यह पाया गया है कि राज्य में 93.8 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी घर के फैसलों में होती है।

NFHS आर्थिक सर्वेक्षण 2015-16 का एक हिस्सा है जिसे यहां चल रहे राज्य विधानसभा सत्र के दौरान पेश किया गया।

हालिया सर्वेक्षण के आंकड़ों से यह संकेत मिलता है कि पिछले दशक से इस बार घर के फैसले लेने में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है।

वर्ष 2005-06 के दैरान 91.1 प्रतिशत महिलाओं को अपने घर के फैसलों में बोलने का अधिकार था जो NFHS 2015-16 के दौरान अब बढ़कर 93.8 प्रतिशत (94.5 प्रतिशत शहरी क्षेत्र और 92.6 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्र) हो गया है।

वैवाहिक हिंसा में आई कमी     

इसके अलावा, तटीय राज्य में वैवाहिक हिंसा में भी कमी आई है। NFHS में यह पता चला कि 12.9 प्रतिशत महिलाओं ने वैवाहिक हिंसा की सूचना दी, जबकि इससे पहले के दशक में 16.8 प्रतिशत महिलाओं ने ऐसी सूचना दी थी। इसके अतिरिक्त, राज्य में 33.9 प्रतिशत महिलाओं के पास अपना खुद का घर है या अन्य के साथ संयुक्त रुप से घर पर मालिकाना हक है। 

HIV के प्रति बढ़ी जगरूकता 

सर्वेक्षण में यह भी पता चला कि पुरुषों और महिलाओं के बीच HIV-AIDS को लेकर जागरुकता भी बढ़ी है। लोग इसके बारे में खुल कर बात करने हैं और इसके जुड़े कारणों को जानने के लिए जागरूक रहते हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top