सत्ता में वापसी कर राष्ट्रद्रोह कानून को और कड़ा बनाएंगे : राजनाथ सिंह

गृह मंत्री ने कहा, "सत्ता में लौटने पर हम देखेंगे कि क्या राष्ट्रद्रोह कानून में किसी प्रकार की खामियां हैं। हम इसे इतना कड़ा बनाएंगे ताकि राष्ट्रद्रोहियों की रूह कांप उठे।"

सत्ता में वापसी कर राष्ट्रद्रोह कानून को और कड़ा बनाएंगे : राजनाथ सिंह

लखनऊ। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि अगर उनकी पार्टी फिर से सत्ता में लौटती है तो वे राष्ट्रद्रोह कानून को और कड़ा बनाएंगे। उन्होंने कहा अगर राष्ट्रद्रोह कानून में कोई खामी हुई तो उसकी समीक्षा की जाएगी और इस कानून को अधिक सख्त बनाया जाएगा।

दिल्ली के शास्त्री पार्क में पार्टी के उम्मीदवारों मनोज तिवारी और गौतम गंभीर के समर्थन में आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए राजनाथ ने कहा कि वह महाराष्ट्र के उन पुलिसकर्मियों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं जो नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली जिले में एक आईईडी विस्फोट में मारे गए। गृह मंत्री ने कहा, "सत्ता में लौटने पर हम देखेंगे कि क्या राष्ट्रद्रोह कानून में किसी प्रकार की खामियां हैं। हम इसे इतना कड़ा बनाएंगे ताकि राष्ट्रद्रोहियों की रूह कांप उठे।"

राजनाथ सिंह ने बालाकोट हवाई हमले में मारे गए आतंकवादियों की संख्या पर सवाल उठाने वाले विपक्ष पर भी निशाना साधा। सिंह ने कहा, "हमलों के बाद क्या हमारे जवानों को शवों को गिनने के लिए रूकना चाहिए? केवल गिद्ध शवों की गिनती करते हैं, योद्धा नहीं।" सिंह ने दावा किया कि मोदी के पांच साल के शासनकाल में नक्सल और आतंक संबंधी हिंसक वारदातों में 65 प्रतिशत की कमी आई है। उन्होंने कहा कि नक्सल प्रभावित जिलों की संख्या भी 126 से घटकर 82 हो गई है।

गृह मंत्री ने महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुए नक्सली हमले को लेकर मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के इस्तीफे की कांग्रेस की मांग की आलोचना की। गृहमंत्री ने कहा कांग्रेस आतंकवादियों के खिलाफ सफलतापूर्वक की गई सर्जिकल स्ट्राइक और हवाई हमलों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा नहीं करती। बांग्लादेश के मुक्ति युद्ध के बाद 1971 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की प्रशंसा सभी लोगों ने की थी और उसमें बीजेपी के नेता अटल बिहारी वाजपेयी भी शामिल थे। आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार पर हमला बोलते हुए राजनाथ ने कहा कि 2015 में सत्ता में आने से पहले जो उन्होंने वादे किए थे उन पर अमल नहीं किया गया। आप ने दिल्ली की जनता को धोखा दिया है।

(भाषा से इनपुट के साथ)


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top