तृणमूल कांग्रेस ने मोदी की केदारनाथ यात्रा के कवरेज को लेकर चुनाव आयोग से की शिकायत

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने चुनाव आयोग को लिखे पत्र में कहा है कि प्रधानमंत्री ने ऐलान किया कि केदारनाथ मंदिर के लिए मास्टर प्लान तैयार है, साथ ही उन्होंने मंदिर नगरी में जनता और मीडिया को संबोधित भी किया, यह पूरी तरह अनैतिक और गलत है

तृणमूल कांग्रेस ने मोदी की केदारनाथ यात्रा के कवरेज को लेकर चुनाव आयोग से की शिकायत

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा केदारनाथ मंदिर में मीडिया को संबोधित किए जाने के बाबत चुनाव आयोग को रविवार को पत्र लिखकर शिकायत की और इसे अनैतिक बताया। साथ ही पार्टी ने मोदी की इस पवित्र तीर्थ स्थान की यात्रा को मिल रहे कवरेज को आदर्श आचार संहिता का गंभीर उल्लंघन भी करार दिया है।

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने चुनाव आयोग को लिखे पत्र में कहा है कि प्रधानमंत्री ने ऐलान किया कि केदारनाथ मंदिर के लिए मास्टर प्लान तैयार है। साथ ही उन्होंने मंदिर नगरी में जनता और मीडिया को संबोधित भी किया। यह पूरी तरह अनैतिक और गलत है। उन्होंने कहा, आखिरी चरण के लिए चुनाव प्रचार 17 मई को शाम छह बजे भले ही थम गया, लेकिन अचरज की बात है कि नरेंद्र मोदी की केदारनाथ यात्रा को पिछले दो दिनों के दौरान लगातार कवर किया जाता रहा और इसका बड़े पैमाने पर राष्ट्रीय और स्थानीय मीडिया में प्रसारण किया जा रहा है। यह आदर्श आचार संहिता का गंभीर उल्लंघन है।

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: अंतिम चरण में 59 सीटों पर मतदान जारी, सुबह 11 बजे तक 25.44 फीसदी मतदान


प्रधानमंत्री ने रविवार को सुबह हिमालयी क्षेत्र में स्थित केदारनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की। मंदिर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मोदी ने ऐसे समय पर मंदिर की यात्रा करने की इजाजत देने के लिए निर्वाचन आयोग को धन्यवाद कहा जब लोकसभा चुनाव होने की वजह से आदर्श आचार संहिता लागू है।

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता ने कहा, मतदाताओं को सीधे तौर पर या परोक्ष रूप से प्रभावित करने के मकसद से, उनकी यात्रा के दौरान हर मिनट की गतिविधि के ब्यौरे को व्यापक रूप से प्रचारित किया जा रहा है। पृष्ठभूमि से मोदी मोदी के नारे भी सुनाई दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Elections 2019: बीजेपी विरोधी मोर्चा बनाने के लिए गोलबंदी तेज, राहुल गांधी से मिले चंद्रबाबू नायडू


ओब्रायन ने कहा कि ये सारे कदम सोच समझकर उठाए गए हैं ताकि मतदान के दिन मतदाताओं को प्रभावित किया जा सके। पत्र में कहा गया है कि दुर्भाग्यपूर्ण है कि चुनाव निकाय ने प्रधानमंत्री के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। तृणमूल नेता ने कहा, चुनाव आयोग लोकतांत्रिक प्रक्रिया की आंखें और कान हैं, लेकिन यह सर्वोच्च संस्था आदर्श आचार संहिता के गंभीर उल्लंघन पर अंधी - बहरी बनी हुई है। मैं आपसे तत्काल कार्रवाई करने और ऐसे गुप्त और अनुचित प्रचार के प्रसारण को बंद कराने का अनुरोध करता हूं जो नैतिक रूप से गलत भी है।

ये भी पढ़ें: साध्वी प्रज्ञा के बयान पर मध्य प्रदेश के निर्वाचन अधिकारी ने भेजी चुनाव आयोग को रिपोर्ट


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top