घर बनाते समय शुद्ध पानी का करें प्रयोग, दीवारों में नहीं आएगी सफेद पपड़ी

गाँव कनेक्शन और एमपी बिरला सीमेंट ने ग्राम प्रधानों और सचिवों को सिखाया कैसे बना सकते हैं अपने गाँव की नींव मजबूत

Chandrakant MishraChandrakant Mishra   1 Jan 2019 11:17 AM GMT

घर बनाते समय शुद्ध पानी का करें प्रयोग, दीवारों में नहीं आएगी सफेद पपड़ी

रुद्रपुर (देवरिया)। " मकान बनाने के पहले जरूरत के हिसाब से अगर नक्शा बनवाना, अच्छी निर्माण सामग्री का उपयोग, समुचित तराई जैसी कुछ बेसिक बातों का ध्यान रखा जाए तो निर्माण आकर्षक और बेहतर होगा।"

ये कहना था एमपी बिरला सीमेंट के तकनीकि ऑफिसर दीपक का। ग्रामीणों को भवन निर्माण के संबंध में तकनीकी ज्ञान देने के लिए गाँव कनेक्शन और एमपी बिरला सीमेंट ने उत्तर प्रदेश से एक साझा मुहिम शुरू की है। इसके तहत गाँव और ब्लॉक स्तर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में ग्राम प्रधानों और ग्रामीणों को भवन निर्माण के संबंध में बेसिक जानकारी दी जा रही है। विकास खंड रुद्रपुर के ब्लॉक सभागार में कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें 50 प्रधान और 10 पंचायत सचिव ने भाग लिया।

ये भी पढ़ें: मकान बनाते समय इन बातों को कभी ना भूलें


दीपक ने आगे बताया," घर बनाने में पानी, बालू, मोरंग और सीमेंट की गुणवक्ता का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। बालू में मिट्टी की मात्रा तीन प्रतिशत से ज्यादा नहीं होनी चाहिए, इससे गुणवक्ता पर असर पड़ता है। सीमेंट सही से पक नहीं पाता है, जिसकी वजह से दीवारों में सफेद पपड़ी और लिंटर में दरारे आने लगती है। वहीं पानी पर भी ध्यान देना चाहिए। हमको वही पानी इस्तेमाल करना चाहिए जिसका प्रयोग हम पीने के लिए करते हैं। पोखर तालाब इत्यादि का पानी साफ नहीं होता है और सीमेंट के मसाले में यदि इसका प्रयोग किया जाता है तो कहीं न कहीं सीमेंट का मसाला उतना मजबूत नहीं रहता जितना की होना चाहिए। "


ये भी पढ़ें: घर बनाते समय कुछ बातों का रखें ध्यान, सालों-साल तक सुरक्षित रहेगा घर

घर बनाने से पहले रखें इन बातों का ख्याल

- परिवार की जरुरतों के हिसाब से घर का नक्सा बनवाएं।

- अच्छी गुणवक्ता की सीमेंट का चयन करें।

- निर्माण कार्य में शुद्ध पानी का प्रयोग करें।

- निर्माण के बाद कम से कम 10 तक तराई जरूर करें।

- निर्माण संबंधी सलाह किसी जानकार व्यक्ति से ही लें।

- सीमेंट और निर्माण सामग्री के मिश्रण का ध्यान रखें।


कार्यक्रम में मौजूद एडीओ पंचायत जोगन प्रसाद ने गाँव कनेक्शन और एमपी बिरला सीमेंट को धन्यवाद देते हुए कहा, " गाँव कनेक्शन और एमपी बिरला सीमेंट का यह साझा प्रयास काफी सराहनीय है। इस कार्यक्रम में बहुत ही अच्छी जानकारियां मिलीं। हम लोग गांव में शौचालय, नाली, आवास जैसे काम कराते हैं। निर्माण कार्य के समय होने वाली छोटी छोटी कमियों के विषय की जानकारी जो मिली है उससे भविष्य में होने वाला निर्माण कार्य प्रयोग किया जाएगा। "

ये भी पढ़ें: प्रधानों और सचिवों को सिखाया गया कैसे बना सकते हैं अपने गाँव की नींव मजबूत


कार्यक्रम में मौजूद रुद्रपुर के ब्लॉक प्रमुख जटाशंकर ने कहा, " इस कार्यक्रम में हम लोगों को बहुत सी नई जानकारी मिली। घर बनाते समय अगर हम लोग थोड़े से जागरूक रहें और बताए टिप्स का पालन करनें तो मकान बनाने की लागत कम और मजबूत घर बन सकता है। ज्यादातर ग्रामीण जानकारी के अभाव में लाखों रुपए खर्च कर देते हैं, बावजूद इसके कुछ समय बाद ही मकान में कुछ समस्याएं आने लगती हैं।"

वहीं कार्यक्रम में मौजूद ग्राम पंचायत अनुसा के ग्राम पंचायत सचिव विकास यादव ने बताया, " हमारे लिए यह कार्यक्रम बहुत लाभकारी रहा । हम लोगों को अभी तक जानकारी नहीं थी बीम डालते समय सरिया कैसे लगाते हैं, अच्छी ईंट की क्या पहचान होती है। हम लोग अभी तक सफेद बालू का प्रयोग करते थे, लेकिन आज पता चला कि सफेद बालू न के बराबर प्रयोग करना है। हम लोग ग्रामीणों को जानकारी देंगे ताकि होने वाले निर्माण कार्य सही और मजबूत हों।"

येे भी पढ़ें: प्रधानों को सिखाया गया कैसे रखें गांव की मजबूत नींव



More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top