अगर ऐसी ही हर ग्राम प्रधान की सोच हो तो बदल जाएगी गाँवों की तस्वीर

प्रधान की कोशिशों से बदला प्रतापगढ़ जिले के कुंडा ब्लॉक के शहाबपुर गाँव का प्राथमिक विद्यालय, ग्राम प्रधान प्रभाकर सिंह को मुख्यमंत्री से लेकर जिलाधिकारी ने भी किया है सम्मानित

अगर ऐसी ही हर ग्राम प्रधान की सोच हो तो बदल जाएगी गाँवों की तस्वीर

प्रतापगढ़। टूटी-फूटी दीवारें, रही सही दीवारों से भी गिरता प्लास्टर, चिटकी हुई फर्श, मैदान में उगी ऊंची ऊंची घास, न पानी की व्यवस्था न टॉयलेट की… कुछ ऐसी ही पहचान कुछ साल पहले तक थी प्रतापगढ़ जिले के कुंडा ब्लॉक के शहाबपुर गाँव के प्राथमिक विद्यालय की। ... और आज तस्वीर बिल्कुल बदल चुकी है।


ये भी पढ़ें : जिस बदहाल स्कूल में ग्राम प्रधान ने की थी पढ़ाई, उस स्कूल को बनाया हाईटेक

आज चमचमाती फर्श, दीवारों पर शानदार पेंटिंग, अत्याधुनिक लाइब्रेरी, कंप्यूटर लैब, साफ-सुथरे शौचालय और ढेर सारे बच्चे यहां बदलाव की कहानी कह रहे हैं। यह सब संभव हो सका है ग्राम प्रधान प्रभाकर सिंह की कोशिशों से। उन्होंने न सिर्फ बिल्डिंग संवारी बल्कि जरूरत पड़ने पर बच्चों को पढ़ाया भी। आज खूबसूरत टायल्स, पंखे, पार्क और साफ सुथरे शौचालय देख लोग यकीन नहीं कर पाते कि यह सरकारी प्राइमरी स्कूल है। इस बदलाव का ही असर है कि जहां 15 अगस्त 2016 में इस विद्यालय में 12 बच्चे थे, वहीं आज यह संख्या 250 है।

प्रभाकर बताते हैं, "2016 में उपचुनाव के बाद जब मैं ग्राम प्रधान बना तो सबसे पहले शिक्षा व्यवस्था सुधारने के बारे में सोचा और मीटिंग बुलाई। उसमें आंगनबाड़ी, आशा कार्यकत्री, सचिव, स्कूल के टीचरों से बात की। सबके साथ मिलकर कार्ययोजना बनाई। हमने स्कूल में सबसे पहले शौचालय का निर्माण करवाया। दरअसल बड़ी संख्या में छात्राएं सिर्फ टायलेट न होने की वजह से नहीं आती थीं। स्कूल में दरवाजे, खिड़कियां भी लगवाई। इतना बजट नहीं आता है कि हम मजदूर लगा पाते इसलिए मैंने खुद से श्रमदान शुरू किया। इसे देखकर गाँव के दूसरे लोग भी आगे आए हैं।"

"शुरू में स्कूल की स्थिति बहुत खराब थी, बहुत कम बच्चे आते थे लेकिन आज आपसी सहयोग से स्कूल की तस्वीर बदली है। प्रधान जी के सहयोग से आज हमारे विद्यालय की पहचान जिले ही नहीं पूरे प्रदेश में हो गई है।"
अनिल पांडेय, प्रधानाध्यापक

ये भी पढ़ें : स्कूल की पढ़ाई-लिखाई और सुविधाओं पर नजर रखते हैं राम चन्द्र चाचा

अध्यापकों की कमी पर खुद लेते हैं क्लास

250 बच्चों को पढ़ाने के लिए पर्याप्त अध्यापक न होने पर ग्राम प्रधान खुद बच्चों को पढ़ाते हैं। वो बताते हैं, "स्कूल में पर्याप्त टीचर नहीं हैं, लेकिन हम इसकी वजह से बच्चों की पढ़ाई का नुकसान तो नहीं करा सकते, इसलिए मैंने खुद से पढ़ाना शुरू किया है। अभी हमारे यहां पांच टीचर हैं लेकिन 250 बच्चों को पढ़ाना मुश्किल हो जाता था।"


मुख्यमंत्री से लेकर जिलाधिकारी तक कर चुके हैं सम्मानित

बेहतर कामों की वजह से प्रधान प्रभाकर सिंह को कई बार सम्मानित भी किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रतापगढ़ की प्रभारी मंत्री स्वाती सिंह और जिलाधिकारी शंभूनाथ ने भी इन्हें सम्मानित किया है।

ये भी पढ़ें : अनोखा स्कूल: जहां ट्रेन के डिब्बों में चलती है बच्चों की स्पेशल क्लास

विद्यालय प्रबंधन समिति का भी रहता है सहयोग

ग्राम प्रधान ही नहीं, विद्यालय प्रबंधन समिति का भी पूरा सहयोग मिलता है। विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष अखिलेश यादव विद्यालय को पूरा समय देते हैं। वो बताते हैं, "हमारे यहां के जब ग्राम प्रधान ऐसे हैं तो हम लोग तो सहयोग करेंगे ही, उनका प्रयास ही है कि कभी स्कूल में नाममात्र के बच्चे थे आज 250 हो गए हैं। समय-समय पर हमारे यहां मीटिंग भी होती है, जो भी कमी होती है मीटिंग में उस पर चर्चा होती है।"

सरकारी मदद के अलावा खर्च किए आठ लाख रुपए


सरकारी बजट इतना नहीं मिलता है कि स्कूल का कायाकल्प हो पाता, ग्राम प्रधान ने अपने पास से और लोगों के सहयोग से विद्यालय पर अब तक करीब आठ लाख रुपए खर्च किए हैं। प्रभाकर बताते हैं, "आज स्कूल ऐसा बन गया है कि जिले के अधिकारी मुझे दूसरे स्कूलों में बुलाते हैं कि मैं दूसरे ग्राम प्रधान और अध्यापकों को बताऊं कि कैसे आप भी अपने स्कूल का कायाकल्प कर सकते हैं।"

ये भी पढ़ें : जब से आदिवासी महिलाओं ने थामी बागडोर, शिक्षा के स्तर में आ रहा सुधार

प्रतापगढ़ में विद्यालयों की संख्या

प्राथमिक: 2,022

पूर्व माध्यमिक: 727

Share it
Top