आसान किश्तों पर बनें ट्रैक्टर के मालिक

आसान किश्तों पर बनें ट्रैक्टर के मालिकgaonconnection

ट्रैक्टर खरीदना चाहते हैं और रुपये कम हैं तो चिंता करने की ज़रूरत नहीं, क्योंकि लगभग 75 फीसदी तक का लोन फाइनेंस हो सकता है वो भी आपके मनचाहे टै्रक्टर के लिए।

भारत खेती के उपकरणों का विश्व में दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है। देश में लगभग 15 लाख से ज्यादा टै्रक्टर खेतों में दौड़ रहे हंै। वर्तमान समय में लगभग 14 मुख्य कम्पनियों के टै्रक्टर बाज़ार में किसानों के लिए सबसे उपयोगी बनने की होड़ में हैं। 

इन कंपनियों के सबसे ज़्यादा बिकने वाले ट्रैक्टरों में 31 से 40 हॉर्स पावर के मध्य ताकत वाले ट्रैक्टरों की मांग सबसे ज्यादा है।

योग्यता

  • आवेदक की उम्र कम से कम 18 और अधिक से अधिक 60 वर्ष होनी चाहिये।
  • सालाना आय न्यूनतम एक लाख रुपए होनी चाहिए। 
  • किसान के पास तीन एकड़ या इससे ज्यादा भूमि होनी चाहिये।

किसी गैरेंटर की होगी जरूरत

  • सभी किस्म के लोन की तरह टैक्टर लोन में भी गैरेन्टर की ज़रूरत पड़ती है। पर लोन अगर भूमि या किसी वस्तु को आधार रख कर लिया जाए, तो गैरेन्टर की कोई ज़रूरत नहीं।

लोन की अदायगी

  • यह फाइनेंस करने वाली कंपनी पर निर्भर करता है लेकिन आमतौर पर 12 महीनों से लेकर 84 महीनों की अवधि के लिए फाइनेंस होते हैं। किश्तों की अदाएगी चेक या कैश के ज़रिए की जा सकती है।

 ज़रूरी दस्तावेज

  • पहचान प्रमाण- चुनाव पहचान पत्र, गाड़ी का लाइसेंस, बैंक पासबुक के पहले पन्ने की फ फोटोकॉपी, पैन कार्ड, पासपोर्ट इत्यादि। 
  • निवास प्रमाण- राशन कार्ड, बिजली का बिल, टेलीफोन का बिल, म्युनिसिपाल्टि के बिल आदि।
  • ज़मीन के दस्तावेज़- किसान अपनी खतौनी की फोटो कॉपी भी लगा सकते हैं। ज़मीन के दस्तावेज़ तीन महीने से ज्यादा पुराने नहीं होने चाहिए।  
  • बैंक स्टेटमेंट- पिछले छ: महीने के बैंक स्टेटमेंट, इनकम टैक्स रिटर्न के कागज़ात आदि।
  • दस्तखत प्रमाण- वाहन लाइसेंस, पैन कार्ड की फोटोकॉपी।

लोन के कुछ सामान्य खर्चे 

  • प्रोसेसिंग फीस : लोन की रकम का 2 प्रतिशत
  • चेक स्वेपिंग का चार्ज : 500 रुपए प्रति भुनाना
  • एनओसी : 250 रुपए
  • दस्तावेज शुल्क : 1500 रुपए
  • लोन रद्द या पुन: बुकिंग : 1000 रुपए
  • चेक बाउंस : 450 प्रति चेक 

कैसे मिलेगा लोन

  • लोन सीमा- 6 लाख रुपए तक।
  • कितना लगेगा ब्याज- बैंकों की ब्याज़ दरें अलग-अलग हो सकती हैं लेकिन सरकारी बैंक द्वारा फाइनेंस पर लगभग 9.25 प्रतिशत व प्राइवेट बैंकों से लोन पर 14 प्रतिशत तक का ब्याज़ देना पड़ सकता है। 
  • सिक्योरिटी- भूमि रखने पर लोन की रकम का सौ फीसदी, अन्य जायदाद के लिए 50 फीसदी सीमा तक, इसके अलावा फिक्सड डिपॉज़िट, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, एलआईसी की पालिसियां आदि। ट्रैक्टर के अलावा इसके अटैचमेंट जैसे हैरो, कल्टीवेटर आदि पर भी लोन मिल जाता है। कई लोगों ने गाँवों मे कोऑपरेटिव समूह बना कर लोन पर ट्रैक्टर निकलवा सकते हैं और मिल कर इसकी किश्ते भरते हैं।

ट्रैक्टर फाइनेंस कराने के लिए सम्पर्क करें

  • महिंद्रा फाइनेंस- महिंद्रा टावर, द्वितीय तल, फैज़ाबाद रोड, लखनऊ।
  • मैग्मा फिनकॉर्प लिमिटेड- राणा प्रताप मार्ग, उत्तर भारत युवक भवन, 13 राणा प्रताप मार्ग, लखनऊ।
  • श्रीराम टांसपोर्ट फाइनेंस कंपनी लिमिटेड- गुरुप्रीत हाउस, फर्स्ट ब्लॉक, 21 स्टेशन रोड।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top