आवक बढऩे से प्याज़ के भाव में हुई गिरावट

vineet bajpaivineet bajpai   22 Dec 2015 5:30 AM GMT

आवक बढऩे से प्याज़ के भाव में हुई गिरावटगाँव कनेक्शन

लखनऊ। हाजिर मंडियों में नए प्याज़ की आवक बढऩे से इसकी कीमतों में गिरावट देखी जा रही है। दिसंबर के दौरान कई प्रमुख हाजिर मंडियों में प्याज का भाव 30-40 फीसदी तक घट चुका है।

एगमार्कनेट के मुताबिक दिसंबर की शुरुआत में महाराष्ट्र की लासलगांव मंडी में प्याज का भाव 1,940 रुपये प्रति क्विंटल था जो अब घटकर 1,100 रुपये के नीचे आ चुका है, इसी तरह मालेगांव में भाव 1,225 रुपये से घटकर 1,025 रुपये, मनमाड़ में 1,600 रुपये से घटकर 950 रुपये, पुणे में 2,200 से घटकर 1,100 रुपये, नागपुर में 1,750 रुपये से घटकर 1,375 रुपये, गुजरात की राजकोट मंडी में 925 रुपये से घटकर 600 रुपये और दिल्ली की आजादपुर मंडी में 1,539 रुपये से घटकर 1,121 रुपये प्रति क्विंटल तक आ चुका है।

दरअसल दिसंबर की शुरुआत में प्याज़ की आवक कम थी जिस वजह से भाव बढ़े हुए थे लेकिन अब आवक में जोरदार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान के मुताबिक लासलगांव मंडी में पहली दिसंबर को सिर्फ 1,259 टन प्याज की आवक हुई थी लेकिन 21 दिसंबर को आवक 2,664 दर्ज की गई है, इसी तरह मालेगांव में पहली दिसंबर को 809 टन प्याज की आवक के मुकाबले 21 दिसंबर को 1,245 टन प्याज की आवक हुई है, पुणे में पहली दिसंबर को 929 टन प्याज आया था जबकि 21 दिसंबर को 1,179 टन प्याज मंडी में पहुंचा है। इसी तरह राजकोट मंडी में भी आवक बढ़ी है।

नई फसल के प्याज़ की आवक आगे और बढऩे का अनुमान लगाया जा रहा है जिस वजह से कुछ समय के लिए प्याज़ के भाव पर दबाव बना रह सकता है। हालांकि सरकार ने हाल ही में प्याज के न्यूनतम निर्यात भाव में कटौती की है जिस वजह से प्याज के एक्सपोर्ट को बढ़ावा मिलेगा। एक्सपोर्ट बढऩे पर लंबी अवधि में कीमतों में उठाव आ सकता है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top