अच्छी ख़बरः इस साल आपकी थाली में कम नहीं होगी दाल, बंपर हुई है बुआई

अच्छी ख़बरः इस साल आपकी थाली में कम नहीं होगी दाल, बंपर हुई है बुआईgaonconnection

नई दिल्ली (भाषा)। मानसून की बेहतर वर्षा से मौजूदा खरीफ सत्र में दलहन का बुवाई क्षेत्र अब तक 41 प्रतिशत बढ़कर 110.35 लाख हेक्टेयर तक पहुंच गया है। इससे खरीफ के दौरान दलहन उत्पादन अधिक रहने की संभावना है।

पिछले सत्र में इस अवधि के दौरान दलहन बुवाई क्षेत्र 78.25 लाख हेक्टेयर था। सरकार को उम्मीद है कि फसल वर्ष 2016-17 (जून-जुलाई) के दौरान दालों का उत्पादन बढ़कर दो करोड़ टन पर पहुंच जाएगा, जो पिछले साल 1.7 करोड़ टन रहा था। इससे दालों की ऊंची खुदरा कीमतों पर काबू पाने में मदद मिलेगी।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि राज्यों से मिली रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘29 जुलाई, 2016 तक कुल बुवाई क्षेत्र बढ़कर 799.51 लाख हेक्टेयर हो गया, जो पिछले साल इस दौरान 752.29 लाख हेक्टेयर था।

इस खरीफ सत्र में धान का बुवाई क्षेत्र बढ़कर 231.92 लाख हेक्टेयर हो गया है, जो पिछले सत्र में 225.68 लाख हेक्टेयर था। मोटे अनाजों का बुवाई क्षेत्र 144.84 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 150.76 लाख हेक्टेयर हो गया। इसी तरह तिलहन का बुवाई क्षेत्र 147.98 लाख से बढ़कर 159.78 लाख हेक्टेयर तथा गन्ने का बुवाई क्षेत्र 45.91 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 46.83 लाख हेक्टेयर हो गया।

इसी प्रकार दलहन का बुवाई क्षेत्रफल इस अवधि में 78.25 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 110.35 लाख हेक्टेयर पर पहुंच गया। हालांकि, इस दौरान कपास का बुवाई क्षेत्र 101.91 लाख हेक्टेयर से घटकर 92.33 लाख हेक्टेयर रह गया। धान और खरीफ मौसम की दूसरी फसलों की बुवाई दक्षिण पश्चिम मानसून के आने के साथ ही जून में शुरु हो जाती है और कटाई अक्टूबर के बाद शुरु होती है।

मौसम विभाग ने इस बार मानसून की वर्षा सामान्य से बेहतर रहने का अनुमान व्यक्त किया है। अच्छी वर्षा के चलते सरकार को चालू कृषि उत्पादन वर्ष के दौरान 27 करोड़ टन खाद्यान्न उत्पादन होने की उम्मीद है। इससे पिछले दो सालों में 25.20 करोड़ टन के आस-पास पैदावार रही।

Tags:    India 
Share it
Top