अधिकारी नहीं बनवाते हैं शौचालय

अधिकारी नहीं बनवाते हैं शौचालयgaonconnection

ललितपुर। स्वच्छ भारत मिशन योजना अंर्तगत प्रत्येक परिवार को शौचालय मुहइया कराने के लिए केन्द्र सरकार प्रयासरत है कि खुले मे शौच की प्रथा समाप्त हो सके, जिसकी गति पकड़ने के लिए प्रशासन हर सम्भव गति तो देना चाहता है, लेकिन ग्राम पंचायतों के सचिव व प्रधान शौचालय निर्माण मे रुची नहीं ले रहे, जिस कारण कार्य शुरू नहीं हो पाये।

“हम जैसे अधिकतर परिवार ऐसे है, जिनके पास शौचालय नहीं है, हम लोगों को काफी परेशानी है, कभी कभार पेट खराब हो जाता है, तो रात मे भी बाहर जाना पड़ता है, अभी बरसात का समय है इस समय चारो ओर गन्दगी व कीचड़ रहता है, खेतों पर पैर रखने तक को जगह नहीं है, और साँप बिच्छू काटने का डर रहता है। जिसकी चिन्ता रहती है। क्या करे परिवार की स्थिति कमजोर हैं, नहीं तो स्वयं शौचालय बनवा लेती।” ललितपुर जनपद के पूर्व दिशा मे दूरी 24 किमी ब्लॉक बिरधा की छिल्ला पंचायत की गमेशी बाई लुहार (उम्र 45 वर्ष) ने बताया।

वो आगे बताती है, “शौचालय के लिए कई बार प्रधान व सेक्रेटरी से कहा, लेकिन किसी ने नहीं सुनी, तब जाकर हम लोगों ने विकास खण्ड पर जाकर छह माह पहले शौचालय को आवेदन किया था, तब से लेकर आज तक शौचालय नहीं बना, इसके साथ साथ पुन: एक महीने पहले 12 महिलाओं ने ब्लाँक पर आवेदन किया, इसके बाद भी शौचालय नहीं बना।”

जनपद मे स्वच्छ भारत मिशन योजना अंतर्गत जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में प्रति शौचालय निर्माण के लिए 12,000 रुपए के हिसाब से सभी ग्राम पंचायतों मे जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय से दो करोड़ 70 लाख 94 हजार रुपये पूर्व मे जारी किये थे, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में दो हजार 256 शौचालय निर्माण होना था।

शौचालय निर्माण के लिए ग्राम प्रधानों और ग्राम विकास अधिकारियों को एक माह के भीतर तैयार करने के निर्देश दिये, साथ ही साथ कार्य पूरा करा कर एसआईएस फीडिंग करने के निर्देश भी थे। लेकिन ग्राम प्रधान व सिक्रेटी की निरंकुशता के कारण शौचालयों का निर्माण नहीं हो पा रहा और लाभार्थी शौचालय बनवाने की आशा मे गमेशी बाई की तरह सैकड़ों महिलाएं ब्लॉको के चक्कर काटती है और दरदर भटकती है, लेकिन अधिकारियों की नकारात्मक रवैये के कारण उन्हे केवल निराशा ही हाथ लगती है।

ज्योति रानी कौशिक खण्ड विकास अधिकारी बिरधा बताती हैं, “शौचालय के संबंध मे पहले आवेदन आ चुका है, जल्द से जल्द कार्यवाही करके शौचालय बनवाये जाएंगे।” शौचालय बनवाने में उदासीन छह ब्लॉको ( महरौनी, बार, मडावरा, बिरधा, जखौरा, व तालबेहट) के 19 ग्राम विकास अधिकारियों की लापरवाही के कारण नोटिस जारी हुआ है।

अरविन्द्र सिंह परमार/ सुखवेन्द्र सिंह परिहार

Tags:    India 
Share it
Top