किसानों के लिए खुशखबरी, चने पर आयात शुल्क बढ़ा, विदेशी चना होगा महंगा

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   3 March 2018 10:10 AM GMT

किसानों के लिए खुशखबरी, चने पर आयात शुल्क बढ़ा, विदेशी चना होगा महंगाचने पर आयात शुल्क बढ़ाकर 60 फीसदी किया 

नई दिल्ली। देश में चने के रिकॉर्ड उत्पादन को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने इसके आयात पर फिर शुल्क बढ़ाकर 60 फीसदी कर दिया है।

केंद्रीय वित्त मंत्रालय के तहत आने वाले राजस्व विभाग की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक, चने पर आयात शुल्क 50 फीसदी से बढ़ाकर 60 फीसदी कर दिया गया है। इससे पहले फरवरी के पहले सप्ताह में सरकार ने चना पर आयात शुल्क 30 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी कर दिया था। बढ़ा हुआ आयात शुल्क एक मार्च 2018 से लागू है।

ये भी पढ़ें- देशभर में होली की हुडदंग इन तस्वीरों में देखें 

ये भी पढ़ें- चना में फूल आते समय सिंचाई न करें किसान

गौरतलब है कि देश में चने की बोआई में किसानों की दिलचस्पी लेने और विदेशों से सस्ता आयात होने से घरेलू कीमतों में भारी गिरावट को देखते हुए दिसंबर 2017 में भारत सरकार ने चने के आयात पर 30 फीसदी शुल्क लगा दिया था।

ये भी पढ़ें- चना और चना दाल का बढ़ा दायरा, ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में हुए शामिल

इस साल देश में चने का रकबा 1.07 करोड़ हेक्टेयर है, जोकि पिछले फसल वर्ष 2016-17 के 99.54 लाख हेक्टेयर से 8.13 फीसदी ज्यादा है।

ये भी पढ़ें- चना की ओर किसानों का झुकाव, गेहूं और सरसों का रकबा घटा

केंद्रीय कृषि मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी फसल वर्ष 2017-18 (जुलाई-जून) के दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के मुताबिक देश में चने का रिकॉर्ड उत्पादन 1.11 करोड़ टन होने का आकलन किया गया है, जोकि पिछले साल से 18.33 फीसदी अधिक है। पिछले साल देश में चने का उत्पादन 93.8 लाख टन हुआ था, जबकि पिछला रिकॉर्ड उत्पादन 2013-14 का 95.3 लाख टन है।

ये भी पढ़ें- चने के दाम में भारी गिरावट, पिछले साल के मुकाबले आधे दाम पर बिक रहा चना

भारत में चने के मुख्य उत्पादक राज्य मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब और महाराष्ट्र हैं। इन राज्यों में कुल क्षेत्रफल का 95 प्रतिशत चना उगाया जाता है। क्षेत्रफल एवं उत्पादन दोनो ही दृष्टि से दलहनों मे इसका पहला स्थान है।

मध्य प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top