एथेनॉल की कीमतों में बढ़ोतरी का असर, चीनी 160 रुपए महंगा

एथेनॉल की कीमतों में बढ़ोतरी का असर, चीनी 160 रुपए महंगा

नयी दिल्ली। बाजार में सीमित आपूर्ति और मांग बढ़ने के बाद शुक्रवार को दिल्ली के थोक चीनी बाजार में चीनी कीमतों में 160 रुपए प्रति कुंतल की भारी तेजी आयी। बाजार सूत्रों ने कहा कि एथेनॉल कीमतों में करीब 25 प्रतिशत की वृद्धि के बाद स्टॉकिस्टों, आईसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक्स बनाने वाली कंपनियों की चौतरफा लिवाली के कारण चीनी कीमतों में भारी तेजी आयी। उन्होंने कहा कि इसके अतिरक्ति चीनी मिलों की तरफ से आपूर्ति रुकने के कारण भी तेजी और बढ़ी।

चीनी तैयार एम-30 और एस-30 की कीमतें 160-160 रुपए की तेजी के साथ 3,400-3,600 रुपए और 3,390-3,590 रुपए प्रति कुंतल पर बंद हुई। इसी प्रकार चीनी मिल डिलीवरी एम-30 और एस-30 की कीमतें 110-110 रुपए की तेजी के साथ क्रमश: 3,150-3,300 रुपए और 3,140-3,290 रुपए प्रति कुंतल पर बंद हुई।

ये भी पढ़ें- 'चीनी का न्यूनतम बिक्री मूल्य 36 रुपए होगा तभी मिलों के घाटे की भरपाई हो पाएगी'

चीनी मिल गेट खंड में चीनी किन्नौनी और अस्मोली की कीमतें 120-120 रुपए की तेजी के साथ 3,330 रुपए और 3,300 रुपए प्रति कुंतल पर बंद हुई। चीनी खतौली की कीमत 105 रुपए की तेजी के साथ 3,300, चीनी शामली और मोदीनगर की कीमतें 95-95 रुपए की तेजी के साथ 3,150 और 3,170 रुपए प्रति कुंतल पर बंद हुई।

चीनी मवाना, मलकपुर, दोराला, बुढ़ाना, थानाभवन और धनोरा की कीमतें 90-90 रुपए की तेजी के साथ 3,185, 3,160, 3,180, 3,175, 3,170 रुपए और 3,260 रुपए प्रति कुंतल पर बंद हुई।

ये भी पढ़ें- एथेनॉल कार्यक्रम को पीएम ने बताया किसानों की आमदनी बढ़ाने का जरिया, समझाया गणित

दुनिया के कुल चीनी उत्पादन में भारत का हिस्सा 17.1% फीसदी है। भारत ब्राजील के बाद दुनिया में चीनी का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है। भारत में उत्तर प्रदेश (36.1%), महाराष्ट्र (34.3%) और कनार्टक (11.7%), तीन सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य हैं। चित्र 1 से पता चलता है कि 2015-16 में भारत में चीनी उत्पादन 24.8 मिलियन टन हुआ था।

(एजेंसियों से इनपुट)

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top