गाय समस्या नहीं समाधान है... बशर्ते

गाँव कनेक्शन की इस विशेष सीरीज की दूसरी कड़ी में बात कर रहे हैं गाय की उपयोगिता, फ़ायदे और नुकसान पर

Arvind ShuklaArvind Shukla   14 Jan 2019 6:25 AM GMT

गाय समस्या नहीं समाधान है... बशर्ते

अरविंद शुक्ला/दिति बाजपेई

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। भारत में किसान छुट्टा गाय के पीछे लाठी लेकर दौड़ रहा है, वहीं पाकिस्तान में इसी गोवंश के गोबर से बसें चलाने की तैयारी है। एक गाय औसतन रोजाना दो से तीन किलो दूध देती है, लेकिन कम से कम सात लीटर गोमूत्र और 10 किलो गोबर देती है। अगर इसका सदुपयोग हो तो ये किसानों की खेती-किसानी से जुड़ी कई समस्याओं का समाधान है।

"गाय और बछड़ों से किसान परेशान इसलिए है क्योंकि उसे लगता है, ये उसके लिए उपयोगी नहीं है। किसान गायों की उपयोगिता सिर्फ दूध से देख रहा है। एक गाय दूध कुछ समय तक ही देती है, लेकिन गोबर और गोमूत्र अंतिम सांस तक देती है। इससे कंपोस्ट, वर्मी कंपोस्ट, बॉयो इनहेंसर बनाए जाएं, जिससे अतिरिक्त कमाई, उत्पादन ज्यादा और खेती की लागत कम होगी,"डॉ. राम कृपाल पाठक 'गाँव कनेक्शन' से फोन पर बताते हैं।

गोमूत्र और गाय के दूध का काम करने वाले सुशील अवस्थी।गोमूत्र और गाय के दूध का काम करने वाले सुशील अवस्थी।

उत्तर प्रदेश कृषि विविधिकरण परियोजना (डॉस्प) के मुख्य सलाहकार रहे डॉ. पाठक सेवानिवृत्ति के बाद मुंबई में रह रहे हैं। टीवी और अख़बारों में उत्तर प्रदेश में छुट्टा गायों पर हंगामे की खबर देखकर दुखी होते हैं। डॉ. पाठक के मुताबिक, उन्होंने 1997 में ही ऐसी गायों को उपयोगी बनाने पर काम शुरू किया था, लेकिन बाद में इसे अपेक्षाकृत ज्यादा तवज्जो नहीं दी गई।

बाद में साल 2000 में डॉ. पाठक केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान (रहमान खेड़ा, लखनऊ) के निदेशक बने और बॉयो डॉयनिक (कॉस्मिक फार्मिंग) पर रिसर्च शुरू कराई। बॉयो डायनिक खेती में ब्रह्मांडीय ऊर्जा, गृह नक्षत्र की चाल और गाय का काफी महत्व होता है।

"गोवंश के गोबर और गोमूत्र से बॉयो इनहेंसर (जीवामृत, पंचगव्य, बॉयोपेस्टीसाइड जैसे एक दर्जन उत्पादन) बनाए जा सकते हैं, जो खेती में डीएपी-यूरिया की खपत कम करते है। साल 2003 में बैंकाक में हुई एक कॉन्फ्रेंस में गाय पर आधारित मेरे रिसर्च पेपर को दुनिया का सबसे अच्छा रिसर्च पेपर माना गया था," डॉ. राम कृपाल पाठक बताते हैं। उनके मुताबिक आंध्र प्रदेश के कुछ किसानों ने वैसे ही काम शुरू कर दिया था जैसे पिछले कुछ वर्षों से सुभाष पालेकर कर रहे हैं।


एक गाय दूध कुछ समय तक ही देती है, लेकिन गोबर और गोमूत्र अंतिम सांस तक देती है। गोवंश के गोबर और गोमूत्र से बॉयो इनहेंसर (जीवामृत, पंचगव्य, बॉयोपेस्टीसाइड जैसे एक दर्जन उत्पादन) बनाए जा सकते हैं, जो खेती में डीएपी-यूरिया की खपत कम करते हैं।

- डॉ. राम कृपाल पाठक, पूर्व मुख्य सलाहकार, उत्तर प्रदेश कृषि विविधिकरण परियोजना (डॉस्प)

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा समेत देश के कई राज्यों में किसान छुट्टा पशुओं से परेशान हैं। अकेले उत्तर प्रदेश में पशुपालन विभाग के मुताबिक 11 लाख छुट्टा गोवंश हैं। ये वो गाय और बछड़े हैं, जो उपयोगी न होने के चलते किसानों ने छोड़ दिए हैं। उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों पर प्रतिबंध के बाद ये समस्या विकराल हो गई है। किसान दिन-रात खेतों को बचा रहे हैं।

सीरीज की पहली खबर: छुट्टा गोवंशों से संकट में खेती, अब यह किसानों की सबसे बड़ी समस्या Part -1

किसानों के हंगामे और भारी विरोध के बाद यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने ग्राम पंचायत स्तर पर गौशाला बनवाने के आदेश दिए हैं। लेकिन जानकारों का कहना है ये समस्या तब तक दूर नहीं हो सकती, जब तक गाय को किसानों के फायदे की न बनाया जाए।

गाय और गोवंश की उपयोगिता पर भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई), बरेली के पशु अनुवांशिकी विभाग के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. रणवीर सिंह कहते हैं, "जो गाय एक भी रुपए का दूध न दो रही हो। उससे भी जैविक खाद (वर्मी कंपोस्ट आदि) बनाकर 20 हजार रुपए तक कमाए जा सकते हैं। डीएपी, यूरिया, रासायनिक कीटनाशकों से हमारी जमीन का स्वास्थ्य खराब हो गया है और इसे ठीक करने के लिए गाय, केचुएं और सूक्ष्मजीवी से अच्छा कुछ नहीं हो सकता।"

गाय या गोवंश की उपयोगिता समझने के लिए ये समझना जरूरी है कि वो किसान से लेती क्या है और बदले में उसे मिलता क्या है?

"एक देसी गाय (छुट्टा जैसी गाय या गोवंश) एक दिन में 2 से 3 लीटर दूध, 7-10 लीटर गोमूत्र और 10 किलो गोबर देती है। सांड़ का गोबर और गोमूत्र थोड़ा ज्यादा होता है। जबकि उसे खाने के लिए सिर्फ 5-6 किलो भूसा चाहिए। अगर दूध की जगह किसान गोबर-गोमूत्र का उपयोग करने लगे या फिर सरकार पंचायत स्तर पर किसानों से गोमूत्र खरीदना शुरू कर दे। डीएपी-यूरिया की तरह गोबर की खाद बनाने पर सब्सिडी मिलने लगे तो सब समस्या दूर हो जाएगी,"आईवीआरआई के न्यूट्रिशियन विभाग के डॉ. पुतान सिंह बताते हैं।

"लेकिन किसानों को इसकी समझ नहीं है और ना ही कृषि, बागवानी या फिर पशुपालन विभाग के अधिकारियों ने किसानों को इनका महत्व समझाने की कोशिश की है,"डॉ. पुतान आगे जोड़ते हैं।

एक देसी गाय (छुट्टा जैसी गाय या गोवंश) एक दिन में दो से तीन लीटर दूध, 7-10 लीटर गोमूत्र और 10 किलो गोबर देती है। अगर दूध की जगह किसान गोबर-गोमूत्र का उपयोग करने लगे या फिर सरकार पंचायत स्तर पर किसानों से गोमूत्र खरीदना शुरू कर दे। डीएपी-यूरिया की तरह गोबर की खाद बनाने पर सब्सिडी मिलने लगे तो सब समस्याएं दूर हो जाएंगी।
- डॉ. पुतान सिंह, प्रधान वैज्ञानिक, न्यूट्रिशियन विभाग, आईबीआरआई, बरेली

क्या भारत के कृषि विभाग के अधिकारी और सरकार किसानों को ये समझाने में नाकाम रहे हैं। इसका जवाब उत्तर प्रदेश कृषि विविधिकरण परियोजना (डॉस्प) में पूर्व निदेशक हर्टीकल्चर रहे डॉ. एसके पाठक की बातों से समझा जा सकता है।


सीरीज की दूसरी खबर: कमाई का जरिया और पूजनीय गाय सिरदर्द कैसे बन गई ?

"अधिकारियों के सामने सबसे बड़ी बाधा उनकी पढ़ाई है। पहले वो खेती के लिए जो पढ़ते हैं फिर 30-40 तक नौकरी में वही करते हैं। हमें पढ़ाया ही रासायनिक तरीकों के हिसाब से गया है। प्रसार को लेकर अधिकारियों में फील्ड नॉलेज (जमीनी जानकारी) की कमी बड़ी बाधा बनती है। फिर वो किसानों को क्या समझाएंगे?"

अपने दावे के समर्थन में वो कहते हैं, "भारत में आज भी 20 फीसदी यूरिया विदेशों से आती है। जबकि पोटाश और फास्फोरस के लिए हम पूरी तरह विदेशों पर निर्भर हैं। एक हेक्टेयर खेत के ऊपर 78 फीसदी नाइट्रोजन हवा में उड़ती रहती है और हम बाजार से मंगा-मंगा कर यूरिया के रूप में उसे झोंकते रहते हैँ। अगर गोबर-गोमूत्र का प्रयोग करें तो इस नाइट्रोजन से काम हो जाएगा, यूरिया की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।"

गाय भले पिछले कुछ वर्षों से राष्ट्रीय मुद्दा हो, गाय के नाम पर हत्याएं और हंगामे हो रहे हों, लेकिन आजाद भारत में इनकी दशा सुधारने की बात होगी तो सभी सरकारें कठघरे में खड़ी नजर आएंगी।

आईवीआरआई, बरेली के पशु अनुवांशिकी विभाग के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. रणवीर सिंह कहते हैं, "जो भी गाय छुट्टा हैं वो किसी खास नहीं, बल्कि मिक्स ब्रीड की हैं। जो अच्छी नस्लें (साहीवाल, थारपारकर, गिर आदि) की हैं, लेकिन भारतीय गोवंश के सुधार के लिए आनुवांशिक सुधार के लिए जो संतिति परीक्षण योजना लागू होनी थी, वो ठीक से लागू नहीं हुई। अगर शुरुआत से ही ध्यान दिया जाता तो आज ये गायें 10 लीटर दूध दे रही होतीं, फिर इन्हें भी भैंसों की तरह कौन छुट्टा छोड़ता।"

आनुवांशिक संतिति परीक्षण वो प्रक्रिया होती है, जिसमें एक सांड से कम से कम 100 गायों को (कृत्रिम) गर्भाधान कराया जाता है। उनसे पैदा होना होने वाले बछिया जो ज्यादा दूध देती है, उसे क्रमवार आगे बढ़ाया जाता है। उसके बेहतर जीन निकालकर दूसरे में डाले जाते हैं, इस तरह एक अच्छे नस्ल की गाय या भैंस तैयार होती है।

यह भी पढ़ें: सरकारें विदेशी नस्लों के पीछे भागती रहीं, हज़ारों देशी गायें मरने के लिए छोड़ दी गईं

बेसहारा गाय और गोवंश कैसे किसानों के लिए उपयोगी हों, इसे लेकर उत्तर प्रदेश में मथुरा के पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु चिकित्सा महाविद्यालय एवं गो अनुसंधान संस्थान में किसानों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। महाविद्यालय के कुलपति प्रो. केएमएल पाठक कहते हैं, "देश में हरित क्रांति के साथ व्हाइट रेव्यूलेशन (दुग्ध क्रांति) शुरू हो गई थी, लेकिन इस दौरान एक गलती हो गई। देसी गायों को संवर्धन की जगह विदेशी नस्लों (जर्सी, एचएफ) से क्रॉस ब्रीडिंग कराई गई। ये गायें हमारी जलवायु में उपयोगी नहीं साबित हुईं और देसी नस्ल बिगड़ती चली गईं।"


प्रो. केएमएल पाठक आगे कहते हैं, "लेकिन वो गुजरी बात हैं, हमें अभी पर ध्यान देना है। गाय को लेकर सबसे बड़ा फेर समझ का है। हमें गाय के उत्पाद के वैल्यू एडिशन की बात करनी होगी। गोबर की खाद बनें, दूध का पनीर और घी बनाया जाए। मेरे कई जानने वाले किसान हैं जो देसी गाय का घी 4000 रुपए किलो तक बेचते हैं।"

गाय के दूध और उसके उत्पादों के वैल्यू एडिशन (मूल्यवर्धन) का पाठ पढ़ाने वाले सबसे पहले व्यक्ति भगवान कृष्ण थे, उन्होंने गोकुल वासियों से कहा कि दूध न बेचकर मथुरा में जाकर मक्खन और छांछ बेंचे। हमें उसी राह पर चलना चाहिए।
- प्रो. केएमएल पाठक, कुलपति, पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु चिकित्सा महाविद्यालय एवं गो अनुसंधान संस्थान, मथुरा

अपनी बात को खत्म करते हुए प्रो. पाठक हंसते हुए कहते हैं, "वैल्यू एडिशन (मूल्यवर्धन) का पाठ पढ़ाने वाले सबसे पहले व्यक्ति भगवान कृष्ण थे, उन्होंने गोकुल वासियों से कहा कि दूध न बेचकर मथुरा में जाकर मक्खन और छांछ बेंचे। हमें उसी राह पर चलना चाहिए।"

भारत में गाय की उपयोगिता के सवाल आईवीआरआई-केवीके (बरेली) के संयुक्त निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ. महेश चंद्र कहते हैं, "गाय का दूध, गोमूत्र गोबर सब उपयोगी है। विदेशों में लो फैट (कम वसा) वाले दूध की मांग है। हार्ट पेशेंट के लिए यही दूध उपयोगी होता है। ये अच्छी बात है कि अब भारत में भी जागरूक लोग लो लैट और उपयोगिता के आधार पर गाय के दूध और उसके उत्पादों को महंगे कीमतों पर खरीद रहे हैं।

भारत में ज्यादातर दूध कॉपरेटिव डेयरियों को जाता है। उन्हीं की राह पर निजी डेयरी वाले भी चलते हैं और फैट के आधार पर दूध खरीदते हैं। ज्यादा फैट होने पर भैंस के दूध की कीमत ज्यादा मिलती हैं, क्योंकि यही दूध मिठाई, मावा आदि बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। गाय का दूध पतला (फैट कम) होने पर कम कीमत में बिकता है।

यह भी पढ़ें: छुट्टा जानवरों से हैं परेशान तो कराएं नि:शुल्क बधियाकरण, जानिए कैसे

गाय और बछड़ों को छुट्टा छोड़ने के पीछे एक और बड़ी वजह है, जिसको भारत में लगातार नजर अंदाज किया गया। जानकारों के मुताबिक ये छुट्टा पशु एक भयंकर बीमारी से ग्रसित हैं जिससे इनकी उत्पादकता कम हो गई।

लोग अब अपनी सेहत के प्रति जागरूक हुए हैं। विदेशों की तरह भारत में भी लोगों ने लो फैट (कम वसा) और उपयोगिता के आधार पर गाय के दूध और उसके उत्पाद महंगी कीमतों पर खरीद रहे हैं। हार्ट पेशेंट के लिए यही दूध उपयोगी होता है।
- डॉ. महेश चंद्र, संयुक्त निदेशक, प्रसार शिक्षा, आईवीआरआई-केवीके

केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान, मथुरा में पशु स्वास्थ्य विभाग के पूर्व वैज्ञानिक और वर्तमान में गलगोटिया यूनिवर्सिटी में बॉयो टेक्नॉलोजी डिपार्टमेंट के मुखिया डॉ. शूरवीर सिंह के मुताबिक छुट्टा घूम रहे ज्यादातर पशु आंत की टीबी (जॉनीज टीबी) से ग्रसित हैं।

वो बताते हैं, "कम से कम 36 फीसदी छुट्टा गोवंश आंत की टीवी से ग्रसित है। इस बीमारी से पशुओं में दूध देनी की क्षमता कम हो जाती है। धीरे-धीरे वो उनमें बच्चे पैदा करने की भी क्षमता नहीं रहती। इसलिए ये सिर्फ 2-3 बच्चे ही देती हैं। इसके बाद किसान इन्हें छुट्टा छोड़ देता है।"

डॉ. शूरवीर आगे बताते हैं, "वर्ष 2014 में इस बीमारी को निंयत्रित करने के लिए मैंने एक टीका विकसित किया था, जिसको भारत सरकार ने स्वीकार तो किया तो लेकिन बड़े पैमाने पर इसका प्रचार-प्रसार नहीं किया। महज 15-20 रुपए का ये टीका छुट्टा गायों को उपयोगी बना सकता है।"

यह भी पढ़ें: गोवंशीय पशुओं के अस्थायी आश्रय स्थलों की स्थापना व संचालन के लिए यूपी में लगेगा गो कल्याण सेस

गोवंश के बीमार होने से सिर्फ ये गैरउपयोगी ही साबित नहीं हो रही हैं, बल्कि ये आम लोगों के लिए भी नुकसानदायक है। डॉ. शूरवीर बताते हैं, "ये वायरस मिल्क पाउडर, आइसक्रीम आदि के जरिए मनुष्यों में आता है, फिर मधुमेह, कोलाइटिस, आर्थरटिस जैसी 20-21 बीमारियों की वजह बनता है। इस बीमारी को ठीक किया जाना मनुष्यों के लिए भी बहुत जरूरी है।"


डॉ. शूरवीर कहते हैं, "मैंने अंग्रेजी अखबार में पढ़ा कि यूपी में गाय की समस्या से निपटने के लिए 11 हजार करोड़ का खर्च आ सकता है। अगर मेरे प्रोजेक्ट पर एक हजार करोड़ भी खर्च किए जाएं तो पूरे देश के छुट्टा जानवरों की समस्या खत्म हो सकती है।"

गाय की उपयोगिता पर डॉ. महेश चंद्र कहते हैं, "देखिए वक्त करवट ले रहा है। लोग अपनी सेहत के प्रति जागरूक हुए हैं। पहले साहीवाल और गिर जैसी नस्लों की भी कोई पूछ नहीं थी, लेकिन अब उनके फार्म हाउस बन रहे हैं। गुजरात में गिर और पंजाब में साहीवाल नस्ल की गाय काफी बेची जा रही हैं। लेकिन ये वही गाय हैं जो अच्छी नस्ल की हैं बाकी की नस्ल सुधार और उनसे बाई प्रोडक्ट पर काम करना होगा।"

पिछले कुछ वर्षों में जैसे-जैसे गाय को लेकर हंगामा मचा है तो इन्हीं दिनों में गाय की उपयोगिता पर भी चर्चा तेज हुई है। राष्ट्रीय गोकुश मिशन और चिकित्सा के क्षेत्र में आयुश मिशन की बात हुई। आयुर्वेदिक दवाओं के प्रति लोगों में जागरुकता बढ़ी है।

दिल्ली के बुराड़ी में रहने वाले सुशील अवस्थी आदित्य पिछले कुछ वर्षों से गाय के दूध और उसके उत्पादों की बिक्री करते हैं। वो बताते हैं, "मुझे समझ नहीं आता भारत में गाय की इतनी अनदेखी क्यों है। दुनिया में गौमूत्र के 7 पेटेंट हुए हैं, जिनमें 4 अमेरिका और तीन भारत के नाम हैं। अमेरिका गौमूत्र से कैंसर की दवा बना रहा है, हम लोग गाय को सड़कों पर दौड़ा रहे। अगर दूध न भी तो भी वो उपयोगी है।"

यह भी पढ़ें: गाँव-गाँव बनेगी गौशाला, गायों की नस्ल में होगा सुधार

ऐसा कैसे के सवाल पर वो राजस्थान और हरियाणा की कुछ गोशाला का उदारहण देते हैं, जहां गोमूत्र कम से कम 10 लीटर बिकता है, नंदी का गोमूत्र 15 रुपए लीटर, जबकि अर्क 150 रुपए लीटर है।

हाल में अमेरिका में एक ऐसा शोध हुआ जो सिद्ध करता है कि गाय हमारी सोच से कहीं ज्यादा उपयोगी है। अमेरिका के रिसर्चर्स का मानना है कि एचआईवी से निपटने के लिए वैक्सीन बनाने में गाय मददगार हो सकती है। उनका मानना है कि ये मवेशी लगातार ऐसे एंटीबॉडीज प्रोड्यूस करते हैं, जिनके जरिए एचआईवी का न सिर्फ इलाज किया जा सकता, बल्कि उसे जड़ से खत्म भी कर सकता है। उनका मत है कि कॉप्लेक्स और बैक्टीरिया युक्त पाचन तंत्र की वजह से गायों में प्रतिरक्षा की क्षमता ज्यादा अच्छी और प्रभावशाली होती है। अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट्स ऑफ हेल्थ ने इस जानकारी को बहुत ही कारगार माना है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top