देसी गाय से कैसे मुनाफा कमा सकते हैं इस गोशाला से सीखिए

हेस्टर और गाँव कनेक्शन के साझा प्रयास से हम आपको हर महीने ऐसे पशुपालकों से रू-ब-रू कराते हैँ जो पशुओं का उचित प्रंबधन, नियमित टीकाकरण, डीवार्मिंग कराकर कम खर्च में पशुधन से ज्यादा से ज्यादा लाभ कमा रहे हैं...

देसी गाय से कैसे मुनाफा कमा सकते हैं इस गोशाला से सीखिए

वाराणसी। जहां एक ओर पशुपालक देसी गाय पालन को घाटे को सौदा मानते हैं, वहीं बनारस स्थित रामेश्वर गोशाला एवं पशुशाला देसी गायों को पालकर सलाना लाखों की कमाई कर रही है, साथ गंगातीरी नस्ल की गायों का संरक्षण और संर्वधन भी किया जा रहा है।

यह गोशाला बनारस जिले के हरूंआ ब्लॉक के रामेश्वर गाँव में है। पिछले कई वर्षों से इस गोशाला में गायों की देखरेख कर रहे वेटनरी ऐसीसटेंट डॉ. ओम प्रकाश बताते हैं, ''हमारी गोशाला में गंगातीरी नस्ल की 800 गाय है, जिसमें से 200 गाय दूध दे रही हैं। एक गाय एक दिन में 10 से 12 लीटर दूध देती है। इस गाय का गोशाला में सरंक्षण और संवर्धन भी किया जा रहा है क्योंकि धीरे-धीरे यह विलुप्त हो रही हैं।"

यह भी पढ़ें-ये हैं भारत की देसी गाय की नस्लें, जिनके बारे में आप शायद ही जानते होंगे


गंगा किनारे खासकर पूर्वांंचल में पाई जाने वाली गंगातीरी गाय को हाल ही में राष्ट्रीय पहचान मिल गई है। देशी नस्ल की यह गाय ज्यादा दूध देने के लिए जानी जाती है। पूर्वांचल और पश्चिमी बिहार में किसान घर-घर पालते थे। मगर क्रॉस ब्रिडिंग और ज्यादा दूध लेने के लिए इस प्रजाति को भुला दिया गया था। अब गंगातीरी को 'राष्ट्रीय पशु आनुवांशिक ब्यूरो' करनाल, हरियाणा ने एक ब्रीड के रूप में स्वीकार कर रजिस्ट्रेशन करा लिया है।

पशुपालकों में देसी गाय पालन का रूझान काफी बढ़ा है। कई राज्यों में किसान देसी नस्ल की गायों के दूध, गोबर और गोमूत्र से बने उत्पादों को बेचकर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। "गाय के दूध को शहरों में 60 रूपए लीटर बेचते है अभी इनके दूध की डिमांड ज्यादा है जिसको हम पूरा नहीं कर पा रहे है। दूध को बेचने के लिए शहरों में स्टॉल भी लगाए है, "डॉ. ओम प्रकाश ने बताया।


यह भी पढ़ें-इन पशुपालकों से सीखिए कैसे देसी गायों से कमा रहे हैं मुनाफा

19वीं पशुगणना के मुताबिक देश के 51 करोड़ मवेशियों में से गोवंश (गाय-सांड, बैंड बछिया, बछड़ा) की संख्या 19 करोड़ है। उत्तर प्रदेश में दो करोड़ 95 लाख गोवंश हैं। गोशाला में साफ-सफाई के बारे में जानकारी देते हुए डॉ. ओम प्रकाश ने बताया, "गोशाला में साफ-सफाई के लिए कर्मचारी लगे हुए हैं, साथ ही पशुओं में समय पर टीकाकरण भी कराया जाता है ताकि उनको बीमारी न हो। पशुओं की यह सारी दवाई हेस्टर कंपनी से मिल जाती है।"

पशुओं को वर्ष भर हरा चारा उपलब्ध कराने के लिए गोशाला के आस-पास हरा चारा बोया हुआ है। इसके साथ ही गोशाला में गोबर की खाद से वर्मी कम्पोस्ट और गोमूत्र से अर्क तैयार किया जाता है, जिसको भी बाजार में अच्छे दामों में बेच रहे है।


Share it
Top