सिद्धार्थनगर

ऐतिहासिक कदम- अब ग्रामीण खुद ही बनाएंगे अपने गाँव की योजना 
स्वयं प्रोजेक्ट

ऐतिहासिक कदम- अब ग्रामीण खुद ही बनाएंगे अपने गाँव की योजना 

14वें वित्त आयोग के निर्देश को मानते हुए सरकार ने ग्राम पंचायत विकास योजना को ज़मीन पर उतारने की शुरुआत कर दी है। इस योजना के लागू हो जाने से अब गाँव के वंचित लोग ग्राम पंचायत की कार्ययोजना में शामिल होकर अपनी समस्याओं को हल कर सकते हैं।

बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे आया टाटा ट्रस्ट,  सिद्धार्थनगर में बांटी दवाइयां और राहत सामग्री
उत्तर प्रदेश

बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे आया टाटा ट्रस्ट, सिद्धार्थनगर में बांटी दवाइयां और राहत सामग्री

टाटा ट्रस्ट और स्वाभिमान समिति की ओर से सात सितम्बर से लगातार बाढ़ पीड़ितों के लिए स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जा रहा है।

स्टेशन मार्ग जगमग, गाँव के हर कोने में पहुंची रोशनी
स्वयं प्रोजेक्ट

स्टेशन मार्ग जगमग, गाँव के हर कोने में पहुंची रोशनी

अंधेरे की मार झेल रहे शोहरतगढ़ ब्लाक क्षेत्र के गड़ाकुल ग्राम सभा में यह तब्दीली गाँव कनेक्शन अखबार में छपी खबर के बाद देखने को मिला है।

सिद्धार्थनगर में बाढ़ के बीच जाकर मुख्यमंत्री योगी  ने समझा पीड़ितों का दर्द
उत्तर प्रदेश

सिद्धार्थनगर में बाढ़ के बीच जाकर मुख्यमंत्री योगी ने समझा पीड़ितों का दर्द

तराई बेल्ट सिद्धार्थनगर में बाढ़ पीड़ितों से मिलने पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ को देख लोगों का दर्द झलक पड़ा और आंखों में आंसू आ गए



आधार कार्ड के बिना मुश्किल में नेपाली छात्र
उत्तर प्रदेश

आधार कार्ड के बिना मुश्किल में नेपाली छात्र

माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा नए सत्र में बिना आधार कार्ड के प्रवेश पर लगी रोक चलते मित्र राष्ट्र नेपाल के छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है।

सिद्धार्थनगर: रेलवे कॉलोनियों की छतों से टपक रहा पानी 
स्वयं प्रोजेक्ट

सिद्धार्थनगर: रेलवे कॉलोनियों की छतों से टपक रहा पानी 

विभागीय लापरवाही से परेशान रेलवे कर्मी अब रेलमंत्री सुरेश प्रभु से पत्राचार कर कॉलोनी की मरम्मत की गुहार लगाने की तैयारी कर रहे हैं।

बस्ती :  सैकड़ों परिवारों का कोई स्थाई पता नहीं 
स्वयं प्रोजेक्ट

बस्ती : सैकड़ों परिवारों का कोई स्थाई पता नहीं 

अजय आरा मशीन के सामने आंनदपुर धाम से लेकर मौर्या होटल तक बसे सैकड़ों घरों के लोग न बढ़नी शहरी में दर्ज हैं न बढ़नी ग्रामीण में। 

गाँव कनेक्शन की मुहिम ने यहाँ बदल दी माहवारी को लेकर ग्रामीण महिलाओं की सोच
बदलता इंडिया

गाँव कनेक्शन की मुहिम ने यहाँ बदल दी माहवारी को लेकर ग्रामीण महिलाओं की सोच

कुछ वक्त पहले तक जिन ग्रामीण महिलाओं को सैनिटरी नैपकिन ख़रीदना गैर ज़रूरी लगता था, गाँव कनेक्शन द्वारा चलाए गए माहवारी जागरूकता कार्यक्रम के बाद अब उनमें एक बदलाव आया है।

बारिश होते ही ग्रामीणों की बढ़ जाती है मुसीबत
स्वयं प्रोजेक्ट

बारिश होते ही ग्रामीणों की बढ़ जाती है मुसीबत

पिछले वर्ष आई बाढ़ को ध्यान में रखते हुए तहसील प्रशासन ने नदी-नालों पर बसे गाँवों में वर्षा व जलस्तर की रिपोर्टिंग की लेखपालों को जिम्मेदारी सौंपी है।

सैकड़ों घर मूलभूत सुविधाओं से वंचित
stories

सैकड़ों घर मूलभूत सुविधाओं से वंचित

सैकड़ों घरों के लोग न बढनी शहरी मेदर्ज हैं न बढनी ग्रामीण में। ये लोग सिर्फ मतदान से ही वंचित नहीं हैं, मूलभूत सुविधाओं से भी महरूम हैं।

शोहरतगढ़: कस्बे को मिलेंगे दो नए ट्रांसफार्मर
स्वयं प्रोजेक्ट

शोहरतगढ़: कस्बे को मिलेंगे दो नए ट्रांसफार्मर

बिजली विभाग ने क्षेत्रीय सांसद के साथ बैठक कर कस्बा शोहरतगढ़ में दो नया ट्रांसफार्मर लगाने और जर्जर तारों को बदलने की संस्तुति प्रदान कर दी है।

युवा इंजीनियर प्रधान बदल रहा अपने गाँव की तस्वीर
बदलता इंडिया

युवा इंजीनियर प्रधान बदल रहा अपने गाँव की तस्वीर

एक तरफ जहां ग्राम प्रधान के बारे में कहा जाता है, वो गाँव में विकास कार्य नहीं कराते हैं। वहीं पर सिद्धार्थनगर जिले ये गाँव सीसीटीवी कैमरा, वाईफाई जैसी सुविधाओं से लैस है।

कमीशन के लालच में मरीजों का हो रहा शोषण
स्वयं प्रोजेक्ट

कमीशन के लालच में मरीजों का हो रहा शोषण

दरअसल, कमीशन के फेर में डॉक्टर यहां आने वाले मरीजों को बाहरी दवाएं लिख रहे हैं। मरीजों की शिकायत है कि डॉक्टर दवा लिखने के बाद पर्ची वहीं केबिन में खड़े केमिस्टों को थमा देते हैं।

 ओवरलोडिंग, तेज़ हवा के चलते ग्रामीणों को नहीं मिल पा रही बिजली
स्वयं प्रोजेक्ट

ओवरलोडिंग, तेज़ हवा के चलते ग्रामीणों को नहीं मिल पा रही बिजली

तहसील मुख्यालय को 20 घंटे बिजली देने की सोच पर ओवर लोडिंग, तेज हवा और रोस्टिंग कटौती भारी पड़ रहा है। इससे शासन का आदेश हवा में उड़ने लगा है।

मानक के विपरीत बना नाला व सड़क , 17 लाख रुपए बर्बाद
उत्तर प्रदेश

मानक के विपरीत बना नाला व सड़क , 17 लाख रुपए बर्बाद

शोहरतगढ़ में नगर की जल निकासी के लिए बोर्ड ने वार्ड नम्बर दो में 17 लाख रुपए की लागत से नाला और सड़क बनवाई थी, लेकिन कमीशन के फेर में नाला गलत तरीके से बन गया।