अतिक्रमण की चपेट में शहर के ओवरब्रिज

अतिक्रमण की चपेट में शहर के ओवरब्रिजगाँव कनेक्शन

लखनऊ। शहर में बने एक दर्जन से अधिक ओवरब्रिज के नीचे की सड़कें अवैध अतिक्रमण से पटी पड़ी हैं, जिसकी वजह से यात्रियों को पूरा दिन जाम से जूझना पड़ता है।

शहर में ट्रैफिक दबाव कम करने के लिये ओवरब्रिज तो बनाये गये हैं लेकिन इन ओवरब्रिज के नीचे की सड़क पर दुकानदारों ने कब्जा कर रखा है। इसके अलावा बहुत दुकानदारों ने इसके नीचे घर तक बना रखा है जिसकी वजह से ओवरब्रिज के नीचे गंदगी पसरी रहती है।

निशातगंज ओवरब्रिज के नीचे दुकान लगाने वाले अशोक (35 वर्ष) बताते हैं कि पुल के नीचे ठेला लगाने पर मुझे रोजाना 20 रुपए देने पड़ते है। जिन दुकनदारों की दुकान बड़ी हैं उन्हें रोजाना पचास से सौ रुपए तक देना पड़ता है। कभी-कभी पुलिस वालों को भी पैसा देना पड़ता है। 

जो ठेकेदार पैसा वसूलने आता है अगर उसको पैसा न दो तो वो दुकान नहीं लगाने देता है। यहीं ओवरब्रिज के नीचे राजाराम समेत कई दुकानदान अपनी दुकान लगाते है लेकिन इनमें से तो कुछ लोगों ने इसी के नीचे अपने घर भी बना रखे हैं। बांस के टट्टर पर तिरपाल लगाकर दीवारों के तीन लगाकर बंदनुमा घर बना रखा है।

 

डालीगंज ओवरब्रिज

डालीगंज रेलवे क्रासिंग पर बना ओवरब्रिज पूरी तहर अतिक्रमण का शिकार है। इस ओवरब्रिज के नीचे दुकानों के अलावा चार पहिया गाड़ियों की ट्रैवल एजेन्सी भी खुली है। इसके अलावा ओवरब्रिज के नीचे ही मोटरसाइकिल के अवैध स्टैन्ड का भी संचालन किया जा रहा है।  

विवेकानंद ओवरब्रिज

विवेकानंद अस्पताल के बगल में बना ओवरब्रिज के नीचे यात्रियों को बैठने की जगह तक नहीं है। सभी जगह दुकनदार और मोटरसाइकिल स्टैण्ड संचालित करने वालों का कब्जा है। दो मिनट भी अगर आप स्टेशन के नीचे गाड़ी लगाते हैं तो ये स्टैण्ड चालक आपसे अवैध तरीके से दस रुपए ले ही लेंगे। अस्पताल बगल में होने की वजह से यहां की दुकाने चौबीस घंटे चला करती है जिसकी वजह से यहा पर गंदगी भी पसरी रहती है। 

पुरनिया तिराहा ओवरब्रिज

लखनऊ सीतापुर मार्ग पर पुरनिया पर बना ओवरब्रिज भी अतिक्रमण का शिकार है। यहा पर छोलाछाप हड्डी डाक्टरों के तखत आपको ओवरब्रिज के नीचे मिल जायेंगे। इसके अलावा बाइक रिपेयरिंग, पगाड़ी पार्किंग से ओवरब्रिज के नीचे की जगह भरी पड़ी है। इससे यहां से गुजरना यात्रियों के लिये काफी मुश्किल हो जाता है।

निशातगंज ओवरब्रिज 

निशातगंज ओवरब्रिज रेलवे क्रासिंग पर बना हुआ है। इस पुल के नीचे की सड़क पर फलों के दुकानदारों का कब्जा किया हुआ है जिसकी वजह से यहा जाम हमेशा बना रहता है। दुकानें इतनी ज्यादा हैं कि सड़क गली नजर आती है।

 रिपोर्टर - अविनाश सिंह

Tags:    India 
Share it
Top