अव्यवस्थाओं के बीच शुरू हुई परीक्षाएं

अव्यवस्थाओं के बीच शुरू हुई परीक्षाएंgaoconnection

लखनऊ। अलग-अलग कोर्सेज़ में प्रवेश के लिए जहां लखनऊ विश्वविद्यालय में अव्यवस्था के बीच परीक्षा शुरू हुई तो वहीं  दूसरी ओर बाबा भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय में प्रवेश परीक्षा को अचानक से निरस्त कर दिया गया। अव्यवस्थाओं के बीच शुरू हुई परीक्षा में परीक्षार्थियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

बाबा भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय में सोमवार से शुरू होने वाली प्रवेश परीक्षाओं को अचानक निरस्त कर दिया गया। बीबीएयू में ये प्रवेश परीक्षाएं अलग-अलग तरह के लगभग 20 कोर्सेज के लिए तीन पालियों में तीन केंद्रों पर होनी थीं लेकिन परीक्षा बिना किसी सूचना के अचानक से निरस्त कर दिया गया। परीक्षार्थी जब आजाद इंजीनियरिंग कालेज, सूर्या कालेज और श्रीराम मूर्ति मेमोरियल विश्वविद्यालय परीक्षा केन्द्र पहुंचे तो उनको एक नोटिस चस्पा मिला जिसमें परीक्षा निरस्त होने की जानकारी थी। नोटिस में अगली तिथि के बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी गयी थी, केवल यह लिखा गया था कि अगली तिथि की घोषणा विवि की वेबसाइट पर की जाएगी।

दूर-दराज के क्षेत्रों से लखनऊ स्थित परीक्षा केन्द्र पहुंचे परीक्षार्थियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ गया। राशि चतुर्वेदी जो की बीबीए की परीक्षा देने फिरोजाबाद से अपने पिता के साथ लखनऊ स्थित आजाद इंजीनियरिंग कालेज पहुंची तो उनको परीक्षा निरस्त होने की सूचना मिली। उन्होंने बताया कि हम लोग इतनी दूर से किराया खर्च करके आये हैं और यहां परीक्षा निरस्त कर दी गयी। उन्होंने कहा कि मेरे तो यहां पर रिश्तेदार रहते हैं तो हम वहां जाकर वापस फिरोजाबाद लौट जायेंगे लेकिन कइयों के तो यहां कोई नहीं रहता है। उनको कितनी परेशानी हो रही है यह देखकर बुरा लग रहा है। 

बीबीएयू प्रवेश परीक्षा को-आर्डिनेटर आर.ए. खान ने कहा कि किन्हीं आवश्यक कारणों से विवि प्रशासन को अचानक से परीक्षा निरस्त करनी पड़ी। कारण हम बताने में असमर्थ हैं। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि हम परीक्षा की तारीख मंगलवार से बुधवार के बीच घोषित कर दें। यह पूछने पर कि क्या पेपर आउट होने की संभावना के चलते परीक्षा निरस्त कर दी गयी तो उन्होंने कहा कि हमारी सुरक्षा बहुत चाक-चौबंद थी तो ऐसा होना संभव नहीं था। लेकिन कारण बताने में प्रशासन असमर्थ है। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top