बाराबंकी में डायरिया से दो और महिलाओं की मौत

बाराबंकी में डायरिया से दो और महिलाओं की मौतगाँव कनेक्शन

बाराबंकी। जिले में डायरिया की शिकार हुई दो और महिलाओं की मौत हो गई जबकि करीब डेढ़ सौ से अधिक लोग अब भी इस संक्रामक रोग से ग्रसित हैं। इस पहले रविवार को एक महिला की मौत हो गई थी। 

डायरिया से पीड़ित लोगों को सरकारी जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड व निजी अस्पतालों में इलाज चल रहा है। पीड़ित लोगों व उनके परिजनों का आरोप है कि उनके घरों में पाइप लाइन से दूषित पानी पहुंच रहा है, जिसको पीने से सभी लोग बीमार हुए हैं। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को प्रभावित क्षेत्रों में भेजकर पीडि़तों को हर संभव मदद देने का भरोसा दिलाया है और कहा है मामले के कारणों की जांच कराई जा रही है। उन्होंने कहा, “प्रथम दृष्टया दूषित पानी ही डायरिया की मुख्य वजह बतायी जा रही है, फिलहाल जांच टीम गठित कर कार्रवाई की जा रही है।” 

जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती डेढ़ वर्ष की साजिया के नाना मो. जुबेर का कहना है उनके परिवार में दो और बच्चे बीमार चल रहे हैं। पीरबटावन की रहने वाली बच्ची लैकुननिशा पुत्री मो. रिहान की दादी नूरजहां भी अस्पताल में बच्ची के इलाज के लिए परेशान दिखीं। जिले में ऐसे बहुत से मरीज सरकारी जिला अस्पताल और निजी अस्पतालों में अपना इलाज करवाने को मजबूर हैं। वहीं जिले के डीएम अजय यादव ने बताया सभी का इलाज पीएचसी, सीएचसी और जिला अस्पताल में करवाया जा रहा है। शायरा बानो (70 वर्ष) ने बताया, ‘’घर में दूषित पानी की सप्लाई आ रही है और उसी पानी को पीने की वजह से परिवार के लोग बीमार हो रहे हैं।” 

सतरिख के मालिकाना निवासी रहमतुल निशा (25 वर्ष) व उसी क्षेत्र के पहेतिया निवासी  (65 वर्ष) कृष्णा मिश्रा और कौशल्या (60 वर्ष) की इलाज के दौरान मौत हो गयी। उनके परिजनों का कहना है कि डायरिया की चपेट में आने से इनकी मौत हुई है, जबकि अभी भी करीब डेढ़ सौ लोग इलाज करवा रहे हैं।

पूर्व चैयरमैन सतरिख रामनरेश वर्मा ने नगर पंचायत प्रशासन पर गम्भीर आरोप लगाते हुए बताया, “पानी की टंकी की सफाई पिछले कई वर्षों से नहीं हुई है। पानी में गंदगी है, जिसकी वजह से लोग बीमार हो रहे हैं। जिला सरकारी अस्पताल में भर्ती मरीजों व उनके परिजनों का आरोप है कि पिछले एक सप्ताह से उनके क्षेत्र में डायरिया का प्रकोप फैला हुआ है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सतरिख पर इलाज की उचित व्यवस्था नहीं थी, जिसके बाद मरीजों को सरकारी जिला अस्पताल में भर्ती किया गया। इलाज कर रहे डॉक्टर एसके सिंह का कहना कि ऐसे मरीज जिले के कई क्षेत्रों से आ रहे हैं। उनका इलाज करवाया जा रहा है। वहीं सतरिख इलाके में डायरिया का प्रकोप सबसे ज्यादा फैला हुआ है। चिल्ड्रन वार्ड में भर्ती जुड़वा प्रीत और प्रियांशु भी डायरिया की चपेट में हैं। 

रिपोर्टर- सतीश कश्यप

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top