बाराबंकी में सगंध फूलों की खेती का बढ़ेगा दायरा

बाराबंकी में सगंध फूलों की खेती का बढ़ेगा दायरागाँव कनेक्शन

बाराबंकी। किसानों को सगंध फूलों की खेती को प्रेरित करने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है इसके लिये ज़िला कृषि व उद्यान विभाग के अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने क्षेत्र के सैकड़ों किसानों को फूलो की खेती के प्रति जागरूक किया।

बाराबंकी जिला मुख्यालय से पूर्वोतर दिशा में 28 किलोमीटर दूर, ग्राम बेरिया मे 4000 वर्ग मीटर के ग्रीन हाउस मे लगे जरबेरा की खेती पर दो दिवसीय किसान मेले का आयोजन किया गया।

इस मेले में कई जिलों से आए किसानों ने खेती की नई तकनीकों के बारे मे जानकारी ली। उद्यान विभाग की ओर से आयोजित इस किसान मेले मे ग्रीन हाउस में उच्च गुणवत्ता वाले फूलों का उत्पादन व उसके प्रबंधन की जानकारी दी गई, जिसके मुख्य अतिथि ग्राम्य विकास मंत्री अरविन्द कुमार सिंह गोप व निदेशक उद्यान एसपी जोशी मौजूद। कार्यक्रम की शुरुआत में अरविन्द सिंह गोप ने कहा, '' किसान सबका पेट भरता है और किसानों के हित के लिए प्रदेश सरकार निरंतर काम कर रही है और करती रहेगी।’’

 समारोह की शुरुआत करते हुए निदेशक उद्यान एसपी जोशी ने किसानो को संबोधिक करते हुए कहा,'' बाराबंकी के किसानों ने मेंथा, आलू, केला और अब फूलों की खेती में एक कीर्तिमान स्थापित किया है। किसानों को संरक्षित खेती में और आगे आना चाहिए। इसके लिए उद्यान विभाग से ग्रीन हाउस, पोली हाउस व नेटशेड हाउस के लिए 50 फीसदी अनुदान की व्यवस्था करता है।’’

किसान मेले मे खेती से जुड़े लगभग सभी सरकारी व गैर सरकारी कम्पनियों में अपने स्टॉल लगाकर किसानों को जानकारी दी गई। किसान मेले में आए ग्राम मेढिय़ा के 32 वर्षीय युवा किसान ज्ञानेंद्र (48 वर्ष) कहते हैं, ''मेले में आकर हमने बहुत कुछ सीखा है, अब हम भी थोड़ी बहुत संरक्षित खेती करेंगे।’’ 

इससे पहले जिले के किसानों को सहायता देते हुए जिलाधिकारी अजय यादव ने बैंकों को निर्देश दिया था कि वो किसानों को कम कागजातों पे सुविधा जनक लोन देंगें। ऐसे में ज़्यादातर किसानों को पॉलीहाउस लगा कर खेती करने में मदद मिलेगी।

कार्यक्रम में मौजूद जिला उद्यान अधिकारी जयकरण सिंह ने बताया, ''बाराबंकी मे 38,000 वर्ग मीटर में पॉलीहाउस लग चुका है, जो कि प्रशंशनीय है। हमारी ये कोशिश लगातार रहेगी कि इस क्षेत्र में और भी किसानों को जोड़ा जा सके।’’

रिपोर्टर - रवींद्र वर्मा

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top