सांवले सलोने सपनों पर गोरेपन का ग्रहण न लगाइए !

प्यारे शाहरुख खान जी ! मेरा नाम है नीलेश मिसरा कहानियाँ सुनाता हूँ। ये है मेरी ढाई साल की बेटी वैदेही, जरा सी है लेकिन बहुत सवाल पूछने लगी है। आज वैदेही और मैं साथ-साथ घूमने गये थे। उसे दुनिया के अलग-अलग चेहरों से रूबरू कराना अच्छा लगता है मुझे। हम बैठे थे कि पीछे कहीं एक गाना बजने लगा…

यशोमती मैया से बोले नंदलाला

राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला

यशोमती मैया से बोले नंदलाला

राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला

फिर मैंने वैदेही को एक कहानी सुनाई 'एक परी कथा एक फेरी टेल'

प्लीज एक कॉफ़ी का प्याला ले लीजिये और पालथी मारकर बैठ जाइए।

चलिए सुनाता हूँ कहानी..

एक बार की बात है एक राजकुमारी थी। एक सांवली, सलोनी राजकुमारी और यही सवाल उसके सामने बचपन में स्कूल से लेकर सिंगिंग क्लास तक, मम्मी की रसोई से लेकर रेडियो की मीडियम वे फ्रीक्वेंसी तक हजारों बार दुनिया से गा-गाकर पूछा गया था, बताइए भाई राधा क्यूँ गोरी मैं क्यूँ काला?

प्यारे शाहरुख खान जी, आपने भी सुना होगा ये भजन। करोड़ों लोग रेडियो पर, टीवी पर, फिल्मों में जो देखते हैं, जो सुनते हैं उससे उनकी सोच बनती है, बदलती है। अरे मैं आपको क्या बता रहा हूँ ये सब। इस देश में कम से कम तीन पीढ़ियों ने आपको अपने दिल में, अपनी सोच में बसाया हुआ है। करोड़ों लड़कों और लड़कियों के दिल-ओ-दिमाग पर आप कैसा धुआंधार, कितना गहरा असर डालते हैं, लेकिन आज किसी अलग किस्म के असर की बात कहने जा हा हूँ। थोड़ी सी गुस्ताखी कर रहा हूँ। आपको एक खत लिखने जा रहा हूँ, आपसे एक गुजारिश करने के लिए और ये बताने के लिए कि शायद आप ना जानते हों .. आप और आपके बाद आये बहुत से मशहूर एक्टरों से कैमरे के सामने विज्ञापन करवाने वाली, गोरेपन और खूबसूरती का व्यापार करने वाली कई कम्पनियां करोड़ों लड़कों और लड़कियों के सेल्फ कांफिडेंस, आत्मसम्मान पर पर गहरा आघात कर रही हैं और इनके बनाये बाजार के कारण कई और कम्पनियाँ अब सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत के साथ गोरेपन बेचने का धंधा क्रिमिनल, गैर कानूनी ढंग कर रही हैं।

गोरेपन का महिमामंडन टीवी, रेडियो और होर्डिंग के जरिए हर सांवले से कह रहा है तुम बेकार हो

आपके गोरी निखरी और बेदाग त्वचा ही आपकी खूबसूरती की सबसे बड़ी पहचान है। बेटे कल तुम्हें लड़के वाले देखने आ रहे हैं..पर मां मेरी त्वचा.. ऐसी लड़कियों को सुंदर बनाना है तो वेदों के जमाने में नहीं रह सकते.. एक मात्र ऐसा फेयरनेस ट्रीटमेंट है जो आपको गोरा बनाता है।

राजकुमारी दुनिया के तौर-तरीके नहीं जानती थी इसलिए वो खुश थी लेकिन जैसे-जैसे वो बड़ी हुई राजकुमारी को जताया जाने लगा कि वो औरों से कुछ अलग है। राजकुमारी की आँखों से सामने से जैसे एक पर्दा हट रहा था और एक नई दुनिया खुल रही थी। एक ऐसी दुनिया जिसमें दो तरह के लोग रहते थे जो धूप और साये के दो रंगों में बटे थे।

पीठ पीछे बहुत सुना कि लोग मेरे बारे में ऐसा बोलते हैं काम्प्लेक्शन को लेकर, नाम रख दिए जाते थे बोलते थे वो देखो काली माई जा रही है। एक मेरी रिलेटिव थी जो मेरी शादी ब्याह की बात होती तो बोलतीं अगर लड़की गोरी है तो शादी चुटकियों में हो जानी है अगर रंग साफ़ नहीं है तो नहीं होगी।

प्यारे शाहरुख खान जी, एक वक्त था जब सांवलेपन से जुड़ी काना-फूसी सिर्फ घर की चार दीवारी में, मोहल्ले की गलियों और छज्जों में, दूर के रिश्तेदारों के प्रपंच में, मेट्रिमोनियल कॉलम में गोरी वधुओं के जिक्र में और नानियों और दादियों की नसीहतों में ही होती थी लेकिन पांच- सात सालों में गोरेपन का महिमामंडन ग्लोरिफिकेशन अचानक काना-फूसी से बढ़कर टीवी, रेडियो और होर्डिंग पर पहुँच गया और दुनिया चीख-चीखकर हर सांवले व्यक्ति को बताने लगी, जताने लगी कि सबको पता है तुम बेकार हो, हारे हुए हो.. माफ़ कीजिएगा शाहरुख खान जी लेकिन इन आवाजों में आपकी आवाज, आपके साथी कलाकारों की आवाज सबसे बुलंद थी।

अगर आप अपने सांवले रंग से निराश हैं, तो अब सांवले रंग को कह दीजिये अलविदा और पाइए फूलों सी कोमल गहरी त्वचा।

अब आपके गोरे होने के सपने को सच करने का समय आ गया है। अब सिर्फ तीन हफ्तों में गोरा बनाएं..

छोटी सोच के लम्बे पड़ते साये थे राजकुमारी की दुनिया में। राजकुमारी देख रही थी कि बाहर की दुनिया तेजी से बदल रही है। अचानक जैसे जादू से सैकड़ों क्रीम की ब्रांड पैदा हो गई हैं। ब्यूटीपार्लर में बिना नाम की शीशियों में जहरीला गोरापन बिकने लगा। बड़ी-बड़ी कम्पनियाँ कानून तोड़ते हुए इन दवाओं को कॉस्मेटिक के नाम पर बेचने लगीं। केमिस्ट की दुकान पर ये आसानी से कानून तोड़ते हुए बिना डॉक्टर का पर्चा दिए मिलने लगी क्योंकि गोरा होना था उनको किसी भी शर्त पर, किसी भी कीमत पर।

कहीं न कहीं से आ गया था कि ये फीलिंग मेरे अंदर कि मुझे गोरा होना है.. गोरा नहीं होउंगी तब तक अच्छा नहीं दिखूंगी। अच्छी नही दिखूंगी तो मेरा लाइफ में कुछ नही होगा। ऐड आते थे न वो कि चार हफ्तों में गोरे हो जाइए। ये लगभग कक्षा आठ-नौ से शुरू हो गया। ऐड में देखते कि लड़कियाँ गोरी हो जाती तो पापा से बोलते पापा वो वाली क्रीम ले आना। पापा भी ले आते लो लगाओ वो चार हफ्ते क्या चार साल लगाते रहे लेकिन कोई फर्क तो पड़ता नहीं था।

कुछ गोरेपन की क्रीमें दिमाग पर असर करती हैं.. आपके सेल्फ एस्टीम पर, आपके कॉन्फिडेंस को, आपके आत्मविश्वास को अपना गुलाम बना लेती हैं और कुछ क्रीमें इससे भी बद्तर सीधे आपके चेहरे को बिगाड़ने लग जाती हैं।

कानून की इजाजत से, सरकार की आँखों के सामने स्किन क्रीम बनाने वाली कई-कई कम्पनियाँ एक ड्रग एडिक्ट की तरह, एक नशेड़ी की तरह लोगों को अपना गुलाम बना रही हैं और आपको शायद पता ही नहीं शाहरुख खान जी ये कहानी आपने नहीं शुरू की थी.. ये कहानी आप पे खत्म भी नहीं होगी.. लेकिन करोड़ों लड़कियों का कांफिडेंस मर चुका है क्यूंकि आपने और आपके साथी कलाकारों ने इस कहानी में अपनी आवाज जोड़ दी है।

पिछले चार-पांच सालों से बड़ी अजीब सी सिचुएशन फेस कर रहे हैं ऐसी बीमारियाँ जो छोटी- मोटी स्किन की बीमारियाँ मानी जाती थी.. जैसे आम दाद हो गई, खुजली हो गई या कोई बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो गया ये चीजें ठीक ही नहीं हो रही हैं। जो ट्रीटमेंट को रेस्पोंस करना चाहिए उसका दोगुना, तीन गुना ट्रीटमेंट दिया जा रहा है फिर भी नहीं रेस्पोंड कर रही हैं। और सिर्फ इन्फेक्शनस तक ही सीमित नहीं था, लोग आ रहे थे ऐसे-ऐसे भयानक केस को लेकर जो हम लोगों ने पहले कभी देखे ही नहीं थे, जो कि आम लोगों को होने नहीं चाहिए थे। कुछ गोरेपन की क्रीमें सब नहीं लेकिन वो कुछ गोरेपन की क्रीमें फ्रॉड होती हैं उनमें खतरनाक दवाईयां होती हैं, जिनका कि एक साइड इफ़ेक्ट होता है कि उनको लगाने पर आपकी स्किन कुछ गोरी दिखेगी लेकिन वो पांच-दस और बीमारियाँ जो पैदा करेंगी , वो डेफिनेटली होंगी अगर आपने उनको लगाया तो आपकी स्किन इतनी ज्यादा काली हो जाएगी या उसमें इतने ज्यादा मुहांसे या दाने निकलने लगेंगें या धूप में जाने पर इतनी बुरी तरह जलन होने लगेगी कि आपको मजबूरन वापस उसी क्रीम पर जाना होगा। हमारे पास ऐसे मरीज़ हैं जो जानते हैं ये क्रीम उनकी त्वचा को बर्बाद कर रही हैं लेकिन छोड़ नहीं सकते | It's like an addiction, an addiction not like an addiction.

नकली गोरेपन का जहर शरीर से ज्यादा जेहन को बर्बाद कर रहा है

कितना आसान है हिन्दुस्तान में जहर बेचना, लेकिन राजकुमारी को कहां मालूम होगा कि उसके घर तक पहुँचने वाला उसके चेहरे पर लीपा जाने वाला जहर कितनी आसानी से बनाया जा सकता है। देश के किसी भी कोने में ड्रग कंट्रोल के सरकारी दफ्तर में किसी एक आदमी को रिश्वत देकर कागज का टुकड़ा ले लीजिये फिर सारे देश में खुल्लम खुल्ला कहीं भी जहरीली दवाएं बेचिए ..सरकारी छत्र-छाया में।

प्यारे शाहरुख खाने जी, आपको पता है शेड्यूल एच नाम की एक लिस्ट होती है इसमें जो दवाएं होती हैं उनको बिना डॉक्टर का पर्चा दिए खरीदा ही नहीं जा सकता …लेकिन ये दवाएं, ये स्टीरॉइड्स गोरेपन का दावा करने वाली कई क्रीमों में धड़ल्ले से बिक रही है, खरीदी जा रही हैं...क्या लड़के, क्या लड़कियां, ये अब अपने मन से ऐसी दवाएं खरीदते हैं, क्योंकि आप जैसे किसी कामयाब सेलीब्रेटी ने उनको बता दिया है कि आप जैसा बनना है, कामयाब होना है, तो बस यही एक रास्ता है।

ये जहर उसके शरीर में उसके जहन में घुल रहा है ये बात राजकुमारी भी जानती है लेकिन वो मजबूर है आखिर आप लोगों ने ही तो सिखाया है शाहरुख खान जी कि अगर गोरे नहीं होंगें तो जियेंगे कैसे? इसलिए सबकुछ जानते हुए भी राजकुमारी क्रीम लगाना कभी बंद नही करेगी। गोरेपन का व्यापार करने वाली कम्पनियाँ ये जहर बेचती रहेंगी।

कैसी लगी ये कहानी शाहरुख खान जी, इस राजकुमारी को नहीं जानते होंगे आप, कभी नहीं मिले होंगे, लेकिन इस कहानी को लिखने में थोड़ी भूमिका आपकी भी है।

क्या कहें इस राजकुमारी से हम शाहरुख खान जी कि जब आप गोरेपन को कांफिडेंस के रूप में बेचें तो कॉफ़ी शॉप की टीवी देखते हुए,दोस्तों के साथ बैठे हुए अपनी शॉल से अनजाने में अपना चेहरा तीन सेंटीमीटर और ढक ले। क्रीम लगाने के कुछ हफ्तों बाद बाथरूम में सीसे के सामने रोज चेहरा देख के कि शायद… शायद आज रंग थोड़ा सा हल्का हो गया। हां हां दिख तो रहा है थोड़ा हल्का.. नहीं क्या कहे ढ़ाई साल की अपनी बेटी से ये कैसी दुनिया में बड़ा कर रहे हैं हम उसे क्या कहेंगें आप अपने बच्चों से शाहरुख खान जी कि कैसी दुनिया में बढ़े हो रहे हैं वो।

जब आप इन फेयरनेस प्रोडक्ट के विज्ञापन करते हैं तो पता नहीं आपके दिमाग में ये ख्याल आता होगा कि नहीं कि आप एक पूरी जेनरेशन, एक पूरे समाज के एक पूरे तबके के दिमाग में ये बायस, ये प्र्यूजिडिस, ये इन्फीरियोरिटी कॉम्प्लेक्स भर रहे हैं कि एक ख़ास रंग के दिखने वाले लोगों को ही कामयाब होने का हक़ है।

अगर इसे कोई बदल सकता है तो वो आप ही हैं।

कह दीजिये इस मुल्क से, कह दीजिये अपने करोड़ों चाहने वालों से कि अगली बार जब पापा-मम्मी अपनी बेटी से कहें कि बेटा अब लड़के वालों से बात शुरू हो रही है किसी स्किन स्पेशलिस्ट को दिखा लो न, तो बोलें उनके भाई कि नहीं करवानी है ऐसे घर में शादी जहां किसी का रंग देख कर जिंदगी का फैसला होता है।

कह दीजिये इन टीवी और रेडियो चैनल चलाने वालों से कि जाएँ पैसा सरिया और सीमेंट बनाने वालों के विज्ञापन से कमा लें.. भगवान के लिए गोरेपन की क्रीम का विज्ञापन लेना बंद कर दें और कह दीजिये इन सांवली लड़कियों और लड़कों से कि क्या बकवास है ये?

दुनिया तुम्हें हारा हुआ कहती है तो पलट कर कहो, मैं ऐसी ही हूँ, मैं ऐसा ही हूँ

दुनिया तुम्हें कम कहती है, बदसूरत कहती है, हारा हुआ कहती है और तुम मान लेते हो.. पलट कर झापड़ क्यूँ नहीं रसीद करते दुनिया को कि मैं ऐसी ही हूँ, मैं ऐसा ही हूँ .. और अपने दम पर आगे बढ़ना है ..अपने रंग के बल पर नहीं।

तो चलिए प्यारे शाहरुख खान जी, चलिए एक नई फेयरी टेल लिखते हैं...नई राजकुमारियां गढ़ते हैं...ज़िंदगी से भरी लड़कियां...ऐसे राजकुमार, ऐसी राजकुमारियां जिनका रंग गोरा नहीं है, काला भी नहीं, ना भूरा, ना गेहुंआ...जिनका वजूद, जिनका अस्तित्व, किसी रंग का मोहताज नहीं है, जिनकी ख़ूबसूरती को किसी के स्टांप, किसी के ठप्पे की ज़रूरत नहीं है। जिनकी कामयाबी या नाकामी की शर्तें कोई कम्पनी तय नहीं करती… जिनका शरीर किसी फैक्ट्री से निकला प्रॉडक्ट, किसी मशीन का पुर्ज़ा, कोई सांचे में ढाला हुआ मॉडल नहीं है, जिनके बालों की लंबाई, जिनकी कमर की गोलाई, जिनका वजन, जिनकी हाईट, जिनका रंग… दुनिया एक मुनीम बनकर अच्छे या खराब, सुन्दर या बदसूरत के कॉलम में नहीं डालती।

तो शाहरुख़ ख़ान जी, सुनाएंगे ना किसी दिन हमें ऐसे ही किसी राजकुमारी की कहानी? इंतज़ार करूंगा...मै भी और मुझ जैसे भारत के करोडों-करोड़ आम लोग भी।

अभी मैं चल पड़ा हूँ किसी और सफर पर, किसी और मंजिल की ओर कोई और कहानी तलाशने.. हिन्दुस्तान को थोड़ा और समझने।

मुझे अपनी और अपने आस-पास की कहानियों से जोड़िये, लिख भेजिए ऐसे लोगों के बारे में ऐसे मुद्दों के बारे में, जिसे आप सब के साथ शेयर करना चाहता हूँ। मुझे ईमेल करिए, मेरे फेसबुक पर जाइये, ट्विटर को टटोलिये, खत भेजिए, टेलीग्राम भेजिए मैं कहता हूँ कबूतर के पाँव में छल्ला लगा के कुछ संदेश भेजिए, लेकिन मुझसे बातें करिये, मुझे किस्से सुनाइये … वरना यही कहते रह जायेंगे कि ….'क्या ढूंढ़ता है स्टोरीटेलर?'

Share it
Share it
Share it
Top