Top

आकाशीय बिजली से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान, बच जाएगी जान

आकाश से गिरने वाली बिजली हर साल सैकड़ों लोगों की जान लेती हैं। लेकिन अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो खुले आसमान के नीचे रहकर भी आसमान से गिरने वाली बिजली से अपनी जान बचाई जा सकती है।

Arvind ShuklaArvind Shukla   26 April 2020 9:06 AM GMT

आकाशीय बिजली गिरने से 26 अप्रैल 2020 को बिहार के छपरा जिले में 9 किसानों की जान चली गई। आकाशीय बिजली, जिसे तड़ित भी कहते हैं, हर साल ग्रामीण इलाकों में हजारों लोगों की जान लेती है। लेकिन अगर कुछ बातों का ध्या रखा जाए इससे जान बचाई जा सकती है।

आकाश से गिरने वाली बिजली हर साल सैकड़ों लोगों की जान लेती हैं। लेकिन अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो खुले आसमान के नीचे रहकर भी आसमान से गिरने वाली बिजली से अपनी जान बचाई जा सकती है।

आकाशीय बिजली ज्यादातर बरसात के दिनों में गिरती है। इसकी चपेट में वो लोग आते हैं जो खुले आसमान के नीचे, हरे पेड़ के नीचे होते हैं, पानी के करीब होते हैं या फिर बिजली और मोबाइल के टॉवर के नजदीक होते हैं।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन (एनडीआरएफ) द्वारा जारी एक जागरुकता वीडियो में लोगों को इससे बचने के उपाय बताए गए हैं। जिसके मुताबिक अगर आसमान में बिजली कड़क रही है और आप घर के बाहर हैं तो सबसे पहले सुरक्षित (मजबूत छत) वाली जगह तक पहुंचने का प्रयास करें।

ये भी पढ़ें- 40 से 20 मिनट पहले पता चल जाता है किस इलाके में गिर सकती है आसमानी बिजली, ऐसे बचा सकते हैं अपनी जान

आकाशीय बिजली गिरने से गायों की मौत हो गई थी। फोटो साभार

इन बातों का रखें ध्यान

अगर ऐसे संभव नहीं है तो तुरंत पानी, बिजली के तारों, खंभों, हरे पेड़ों और मोबाइल टॉवर आदि से दूर हट जाएं।

आसमान के नीचे हैं तो अपने हाथों को कानों पर रख लें, ताकि बिजली की तेज आवाज़ से कान के पर्दे न फट जाएं।

अपनी दोनों एड़ियों को जोड़कर जमीन पर पर उकड़ू बैठ जाएं।

अगर इस दौरान आप एक से ज्यादा लोग हैं तो एक दूसरे का हाथ पकड़कर बिल्कुल न रहें, बल्कि एक दूसरे से दूरी बनाकर रखें।

छतरी या सरिया जैसी कोई चीज हैं तो अपने से दूर रखें, ऐसी चीजों पर बिजली गिरने की आशंका सबसे ज्यादा होती है।

पुआल आदि के ढेर से दूर रहें, उसमें आग लग सकती है

आकाशीय बिजली की प्रक्रिया कुछ सेंकेड के लिए होती है, लेकिन इसमें इतने ज्यादा बोल्ट का करंट होता है कि आदमी की जान लेने के लिए काफी होता है। क्योंकि इसमें बिजली वाले गुण होते हैं तो ये वहां ज्यादा असर करती है, जहां करेंट का प्रवाह होना संभव होता है। आकाश से गिरी बिजली किसी न किसी माध्यम से जमीन में जाती है, और उस माध्यम में जो जीवित चीजें आती हैं, उनको नुकसान पहुंचता है।

बिहार के छपरा जिले में 26 अप्रैल 2020 को खेत में काम करते वक्त किसानों के ऊपर बिजली गिरी, जिसमें 9 किसानों की मौत हो गई।

क्या है आकाशीय बिजली

कड़क के साथ आसमान से गिरने वाली बिजली को तड़ित कहते हैं। अंग्रेजी में इसे Lightning कहते हैं। आकाश में बादलों के बीच तब टक्कर होती है, यानि घर्षण होने से अचानक इलेक्ट्रोस्टैटिक चार्ज निकलती है, ये तेजी से आसमान से जमीन की तरफ आता है। इस दौरान हमें तेज़ कड़क आवाज़ सुनाई देती है और बिजली की स्पार्किंग की तरह प्रकाश दिखाई देता है। इसी पूरी प्रक्रिया को आकाशीय बिजली कहते हैं। आकाशीय बिजली के गिरने से लोगों की इंसानों के साथ पशु-पक्षियों तक की मौत हो जाती है, हरे पेड़ तक गिर जाते हैं। लेकिन इस प्राकृतिक आपदा से बचाव संभव है।

ये खबर मूलरूप से साल 2018 में प्रकाशित की गई थी

मोबाइल, फेसबुक, इंटरनेट चलाते समय अपनाएं सुरक्षा के ये दस तरीके

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.