अगर आपका नाम मतदाता सूची में ना हो, तो क्या करें?

मतदाताओं की सुविधा के लिए चुनाव आयोग ने यह व्यवस्था की है कि वह अपना नाम मतदाता सूची में चेक कर लें। इसके लिए चुनाव आयोग ने ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह की व्यवस्था की है।

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 का बिगुल बज चुका है। चुनाव आयोग ने रविवार देर शाम चुनावों की घोषणा की और बताया कि सात चरणों में चुनाव होंगे। ये चुनाव 11 अप्रैल से लेकर 19 मई तक सात चरणों में होंगे। वहीं, 23 मई को इन चुनावों का परिणाम आएगा। चुनाव आयोग ने शुचिता पूर्ण चुनाव कराने के लिए कमर कस ली है।

मतदाताओं की सुविधा के लिए चुनाव आयोग ने यह व्यवस्था की है कि वह अपना नाम मतदाता सूची में चेक कर लें। इसके लिए चुनाव आयोग ने ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह की व्यवस्था की है। मतदाता सूची में आपका नाम है या नहीं, इसे सुनिश्चित करने के लिए आपको चुनाव आयोग की वेबसाइट www.nvsp.in या eci-citizenservices.eci.nic.in पर जाना होगा। यहां पर आप सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपका नाम मतदाता सूची में है या नहीं।

इसके अलावा आप स्थानीय स्तर पर बूथ स्तर के अधिकारी (बीएलओ) के पास जाकर मतदाता सूची में अपने नाम की स्थिति जान सकते हैं। अगर आपका नाम मतदाता सूची में नहीं है तो इसके लिए आपको फॉर्म (6 ए) भरना होगा। वहीं अगर आपके नाम और अन्य विवरणों जैसे- नाम, पता, जन्म तिथि आदि में कुछ गड़बड़ी या गलती है तो आपको फार्म (8) भरना होगा।

आपको बता दें कि नए मतदाताओं के लिए फॉर्म (6ए) और पुराने मतदाताओं के लिए फॉर्म (8) चुनाव आयोग की वेबसाइट www.nvsp.in या eci-citizenservices.eci.nic.in पर उपलब्ध है। इसके अलावा ये फॉर्म ऑफलाइन रूप से भी जिले के निर्वाचन अधिकारी और बूथ स्तर के अधिकारी (बीएलओ) के पास उपलब्ध होते हैं। आप ये फॉर्म भरकर अपना नाम मतदाता सूची में दर्ज करवा सकते हैं या सुधार करवा सकते हैं।

इसके अतिरिक्त अगर आपका नाम मतदाता सूची में है लेकिन आपके पास मतदाता कार्ड नहीं है तो आप अपने अन्य पहचान पत्रों की मदद से भी वोट डाल सकते हैं। इसमें पासपोर्ट, पैन कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, मनरेगा जॉब कार्ड, फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज, बैंक पासबुक और स्वास्थ्य बीमा कार्ड शामिल है।

चुनाव आयोग ने मतदाताओं को भी चुनाव प्रक्रिया के प्रति जागरूक करने के लिए कई अहम कदम उठाए हैं। इसके लिए आयोग ने हेल्पलाइन नंबर और ऐप जारी किया है। 1950, चुनाव आयोग का हेल्पलाइन नंबर है। इस नंबर से पहले आपको अपने क्षेत्र का पिन कोड लगाना होगा। इस पर फोन कर के आप चुनाव संबंधी अपनी किसी भी शंका का समाधान कर सकते हैं। इसके अलावा Voter Helpline, cVIGIL और Pwd जैसे कुछ ऐप हैं जिससे चुनाव संबंधी जानकारियां प्राप्त की जा सकती है। गांव कनेक्शन ने 1950 हेल्पलाइन पर फोन करके मतदाता सूची संबंधी जानकारी ली।


दिल्ली के विज्ञान भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए मुख्यर चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि विभिन्न राज्यों के अधिकारियों, राजनीतिक दलों और सुरक्षा एजेंसियों से बातचीत करने के बाद चुनाव कार्यक्रम तैयार किया गया है। इसके साथ ही आचार संहिता लागू कर दी गई है।

Share it
Top