बरसात में स्किन इंफेक्शन से बचें

बरसात में स्किन इंफेक्शन से बचेंgaonconnection

लखनऊ। शरीर अगर साफ सुथरा रहे तो कई बीमारियों से बचाव हो सकता है। बरसात में कई तरह के फंगल इंफेक्शन हो जाते हैं। ये एक फंगल इन्फेक्शन है सिर, पैर, गर्दन या किसी अंदरुनी भाग मे कहीं भी हो सकता है, इसे दाद कहा जाता है। ये लाल या हलके भूरे रंग का गोल आकार का होता है।

दाद के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में लखनऊ के स्किन स्पेशलिस्ट डॉ अमित सक्सेना बता रहे हैं, ''दाद का इन्फेक्शन बहुत ख़राब फंगल इन्फेक्शन होता है। ये बहुत तेज़ी से फेलता है जिस जगह पर हुआ है उसके आस पास की जगह पर भी फैलने लगता है। इसका इन्फेक्शन ज्यादा बढ़ने पर आप शरीर पर उभार और फुसियां भी दिख सकते हैं।''

लक्षण

  • लालपन और खुजली होना ।
  • पस की फुंसियां होना
  • खुजली के साथ उभार दिखना।
  • पैरों पर लक्षण
  • इर्रिटेशन और जलन होना।
  • फटी हुई चमड़ी
  • अंदरुनी भागों पर लक्षण (Groin ringworm symptoms)

बचाव

हमेशा अपने शरीर को साफ़ रखें। शरीर को गिला न रखें हमेशा सुखा रखने की कोशिश करें। एंटी फंगल या मेडिकैटेट साबुन का प्रयोग करें शैम्पू का रोज़ाना इस्तेमाल करें। जहां तक हो सके सूती कपड़े पहने। ज्यादा चुस्त कपड़े ना पहनें। दूसरों के कपड़े ,तौलिया ,बेडशीट, ब्रश का उपयोग ना करें। अगर किसी को ये इन्फेक्शन है तो उनसे दूरी रखें हाथ ना मिलाएं क्योंकि ये इन्फेक्शन फैलता है। अगर आपके घर मे कोई जानवर है और उसे ये इन्फेक्शन है तो उस पर पट्टी कभी ना बांधें और तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं।

घरेलू उपाय

लहसुन का अर्क

लहसुन में प्राकृतिक रूप से एंटी फंगल तत्व होते हैं। जो की कई तरीके के फंगल इन्फेक्शन को ठीक करने में सहायक है। जिसमे से दाद भी एक है। लहसुन को छिल कर उसके छोटे छोटे टुकड़े कर दाद पर रख दीजिए जल्दी आराम मिलेगा।

नारियल का तेल

नारियल का तेल दाद को ठीक करने में बहुत उपयोगी है। ख़ास कर जब आपके सिर की जड़ो में इन्फेक्शन हुआ हो तो ये एक बहुत बेहतरीन तरीका है।

राई के बीज

छोटे-छोटे राई के दाने दाद को ठीक करने में सहायक है। राई को 30 मिनट तक पानी में भिगो कर रख दें। फिर उसका पेस्ट बनाकर दाद की जगह पर लगा लें।

एलोवेरा

एलोवेरा का अर्क हर तरह के फंगल इन्फेक्शन को ठीक कर देता हैं । इसे तोड़कर सीधे दाद पर लगा लीजिए ठंडक मिलेगी। हो सके तो रात भर लगा कर रखें । डेरमिटोलॉजिस्ट डॉक्टर से सलाह लें और उनके द्वारा दी गई दवा लें ।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top