बरसात ने फीका किया सब्जियों का स्वाद

बरसात ने फीका किया सब्जियों का स्वाद

लखनऊ। सिद्धार्थ सोनकर (55 वर्ष) सब्जियों के कारोबारी हैं। हाल ही में उन्होंने करनाल से फूलगोभी की 25 किलों की पेटी मंगवाई थी, जिसमें करीब 16 किलों गोभी खराब निकली। मानसून की वजह से सब्जी की थोक मंडी में दूसरे प्रदेशों से आने वाली सब्जियों की क्वालिटी खराब हो रही है, जिससे न केवल मंडी के व्यापारियों को नुकसान झेलना पड़ रहा है बल्कि सब्जियों की कमी के चलते दाम भी बढ़ते जा रहे हैं।

सीतापुर रोड पर नवीन गल्ला मंडी में 10 वर्षों से सब्जियों का व्यापार कर रहे सिद्धार्थ सोनकर बताते हैं,“ 900 रुपए की फूलगोभी की पेटी में मुश्किल से 350 रुपए का माल ही ठीक हालत में मिला है। बरसात में सब्जियों को काफी नुकसान हुआ है। माल सड़ने के कारण मंडी में सब्जियों की आना भी कम हुआ है । बारिश के कारण सबसे ज़्यादा नुकसान फूलगोभी, टमाटर, शिमला मिर्च और लोबिया जैसी सब्जियों को हुआ है।’’ बारिश से सिर्फ मंडी के व्यापारियों को ही नहीं बल्कि फुटकर सब्जी विक्रेताओं को भी नुकसान झेलना पड़ रहा है। टेढ़ीपुलिया सब्जी मंडी में फुटकर सब्जी विक्रेता मों शहजादे बताते हैं कि बारिश में बड़ी मुश्किल से मंडी से माल लाते हैं। मंडी में दागी टमाटर आ रहा है,जिसे लोग कम लेते हैं।

बारिश का असर सिर्फ सब्जियों के भाव पर ही नहीं पड़ा है बल्कि प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में बाढ़ के खतरे के कारण सब्जियों के मंडी में आवागमन में भी दिक्कत हो रही है। बंगलुरु से मंडी आई एक ट्रक टमाटर की पेटियों की तरफ इशारा करते हुए व्यापारी शिखर बताते हैं,’’ एक पेटी में 25 से 27 किलो टमाटर आता है ,जिसमें तीन से चार किलो टमाटर सड़ा निकल रहा है।

मंडी समिति की तरफ से कोई भी कोई सहायता नहीं मिल रही है। माल सही हो या खराब सबका टैक्स देना पड़ता है।मंडी में ज़्यादातर आलू और तोरिया बहराइच और बस्ती के रास्ते आती है पर अभी उधर बाढ़ का खतरा है इसलिए माल आने में परेशानी हो रही है।’’

मंडियों में आ रही खराब गुणवत्ता की सब्जियों पर किसान मंडी परिषद के कृषि विदेश व्यापार एवं विपणन विभाग के सह निदेशक डॉ.दिनेश चंद्र बताते हैं,’’ बारिश में सब्जियां जल्द खराब हो जाती हैं। मंडियों में दूर-दराज के क्षेत्रों से सब्जियों को पहुंचने में काफी वक्त लग जाता है, जिससे सब्जियां खराब होने लगती हैं।” फूलगोभी, टमाटर, शिमला मिर्च, लोबिया जैसी सब्जियों को नुकसान

प्रदेश की बड़ी कृषि मंडियों में बनेंगी पेस्टीसाइड टेस्टिंग लैब 

“मंडियों में सब्जियों को ज़्यादा समय तक के लिए गुणवत्तायुक्त बनाए रखने के लिए प्रदेश सरकार मंडियों में आधुनिक पेस्टीसाइड टेस्टिंग लैब बनवाने की नई कार्ययोजना तैयार कर रही है। ये लैब मंडियों में आने वाली सब्जियों की क्वालिटी बनाए रखने में मददगार साबित होंगी और इसमें सबसे अच्छी बात यह है कि अगर कही से भी आया हुआ खराब  या मानकों के अनुसार नहीं होगा ,तो लैब उसे मंडी में रखने की इजाज़त नहीं देगी।” डॉ.दिनेश चंद्र आगे बताते हैं।

Tags:    India 
Share it
Top