CA की तैयारी के लिए जरूरी हैं ये बातें

CA की तैयारी के लिए जरूरी हैं ये बातेंgaonconnection

लखनऊ। चार्टर्ड अकाउंटेंट यानी सीए एक प्रतिष्ठित पेशा है। द इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (आईसीएआई) एक गवनिर्ंग बॉडी है, जो सीए की परीक्षाएं कराती है। इंस्टीट्यूट की फाइनल परीक्षा पास करने वाले छात्रों को इंडस्ट्री में क्वॉलिफाइड चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) के रूप में अच्छी नौकरी मिल जाती है। इसके बारे में बता रहे हैं लखनऊ के करियर कांउसलर विवेक मिश्रा

सीए करने के लिए आपको तीन परीक्षाएं पास करनी होती है। सीपीटी (एंट्रेंस एग्जाम), आईपीसीसी (इंटरमीडिएट एग्जाम) और फाइनल सीए एग्जाम।

योग्यता 

सीए करने वाले छात्र 12वीं पास करने के बाद सीपीटी की परीक्षा दे सकते हैं। सीपीटी क्लियर हो जाने के बाद छात्र आईपीसी का एग्जाम दे सकता है। इसके लिए उन्हें 9 महीने की तैयारी का वक्त मिलता है। आईपीसीसी एग्जाम में लॉ, ऑडिट, टैक्स आदि पर आधारित सब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते हैं जबकि सीपीटी में ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते हैं। आईपीसीसी परीक्षा क्लियर करने के बाद स्टूडेंट को एक सीए के अंडर में इंटर्न के रूप में काम करना होता है। फाइनल परीक्षा के योग्य होने से पहले छात्र को तीन साल तक यह इंटर्नशिप करनी होती है।

इन बातों को ध्यान में रखकर करें परीक्षा की तैयारी 

 कैसे पढ़ें : नियमित पढ़ाई बहुत जरूरी है। कई बार इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि आप कितना पढ़ते हैं, बल्कि पढ़ते वक्त आप कितना समझ पाते हैं। एक व्यवस्थित तरीके से स्टडी रूटीन को फॉलो करना बहुत जरूरी है।

पाठन सामग्री : आपके पास अच्छा पढ़ाई का जरिया होना बहुत जरूरी है। ट्यूशन और प्रोफेशनल मदद आपकी नॉलेज बढ़ाते हैं। लेकिन इस कोर्स के लिए सेल्फ स्टडी भी उतनी ही जरूरी है। एग्जाम में बेहतर प्रदर्शन के लिए बहुत ज्यादा प्रैक्टिस की जरूरत है।

हर विषय पर ध्यान : छात्र आमतौर पर अपने नापसंद विषय पर ध्यान नहीं देते और अपना सारा समय उस विषय में लगा देते हैं, जो उन्हें रोचक लगता है। सभी विषय पर बराबर ध्यान देना जरूरी है। 

नोट्स बनाना : हर महत्वपूर्ण टॉपिक के लिए नोट्स बनाना और पॉइंटर्स तैयार करने से काफी मदद मिलती है। क्योंकि परीक्षा से एक दिन पहले सब कुछ पढ़ पाना संभव नहीं होता।

पेपर पैटर्न समझें : सीए बनने के लिए जो कैंडिडेट तैयारी करते है उनके लिए मेरी पहली सलाह है कि वे पहले पेपर के पैटर्न को अच्छी तरह से समझने की कोशिश करें। अक्सर लोग कहते हैं कि बहुत कम छात्र ही सीए की परीक्षा पास कर पाते हैं। उसका सबसे बड़ा कारण यही है कि अधिकतर कैंडिडेट पैटर्न को जाने बिना तैयारी में लग जाते हैं। 

अकाउंटिंग/इकोनॉमिक्स पर रखें फोकस

छात्रों को दोनों ही विषयों का एक-एक पेपर हल करना होता है। एक तरह से सफलता का पूरा दारोमदार इन्हीं दोनों विषयों पर टिका होता है। इन विषयों के लिए खास तैयारी की जरूरत होती है। छात्र तैयारी के संदर्भ में चाहे जो फॉर्मूला अपनाएं, पर इतना याद रखें कि ये दोनों प्रश्न पत्र नजरअंदाज न होने पाएं। इस पर अतिरिक्त समय खर्च करें और अपनी आधारभूत जानकारी को बढ़ाएं। 

नेगेटिव मार्किंग से सावधान

सीपीटी में नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान है। गलत उत्तर दिए जाने पर एक चौथाई अंक काट लिए जाएंगे, इसलिए छात्र पहले उन्हीं प्रश्नों का जवाब दें, जो उन्हें अच्छी तरह से पता हों। जिनका जवाब नहीं मालूम है, उन्हें छोड़ कर आगे बढ़ जाएं। बाद में समय बचने पर उन्हें एक बार देख लें। हो सकता है कुछ सवालों का जवाब पता चल जाए।

कोर्स में बदलाव

आज सीए का कोर्स इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, पर्सनेलिटी डेवलपमेंट और कम्युनिकेशन स्किल जैसी कई चीजों से जुड़ गया है। पहले ये सब चीजें नहीं थीं। प्रवेश परीक्षा का भी रूप बदला है। अब इसे ऑनलाइन मोड में भी लाया गया है। पहले के मुकाबले प्रोफेशनलिज्म बढ़ा है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top