चार अरब 22 करोड़ रुपए से संवरेगा उन्नाव

चार अरब 22 करोड़ रुपए से संवरेगा उन्नावgaonconnection

उन्नाव। जिले में विकास की गंगा बहाने के लिए जिला योजना के अन्तर्गत 43 विभागों की विभिन्न योजनाओं के लिए चार अबर 22 करोड़ सात लाख के प्रस्तावों का अनुमोदन हुआ। विकास भवन सभागार में जिले के प्रभारी मंत्री फरीद महफूज किदवई राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार प्राविधिक शिक्षा की अध्यक्षता में जिला योजना की बैठक सम्पन्न हुई। 

जिले का सन्तुलित व समग्र विकास किया जायेगा। निर्माण और विकास कार्यों को अमली जामा पहनाने के लिए जिला योजना समिति में वर्ष 2016-17 के लिए प्रस्तावित चार अरब 22 करोड़ सात लाख के परिव्यय को राज्यमंत्री ने अनुमोदित किया। योजना में जिले के सभी क्षेत्रों के विकास के लिए विभिन्न विभागों द्वारा कराये जाने वाले कार्यों का प्राविधान किया गया है। जिला योजना में सड़कों के निर्माण के लिए लो.नि.वि. के लिए 30 करोड़ से अधिक की धनराशि के परिव्यय को अनुमोदित किया गया है। निजी लघु सिंचाई के लिए 20 करोड़ का अनुमोदन किया गया है इस धनराशि से 100 गहरे नलकूप व एक हजार 250 मध्यम गहरे नलकूप लगाये जाएंगे। 

कृषि विभाग के लिए 32 लाख, लघु और सीमान्त कृषकों को सहायता (लघु सिंचाई नि:शुल्क बोरिंग) के लिए एक हजार 990 लाख, पशुपालन के लिए 300 लाख, वन विभाग के लिए 721 लाख अनुमोदन किया गया। वन विभाग की कार्ययोजना की चर्चा के दौरान राज्यमंत्री ने निर्देश दिये कि कार्ययोजना में यूकेलिप्टस को लगाये जाने का भी प्राविधान कर लिया जाए। समिति की बैठक के दौरान राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका अभियान के लिए 250 लाख, भूमि विकास एवं जल संसाधन के लिए 30 लाख, मनरेगा के लिए 60 करोड़, पंचायती राज के लिए सात करोड़, निजी लघु सिंचाई के लिए 20 करोड़, राजकीय लघु सिंचाई के लिए 82 लाख अतिरिक्त ऊर्जा श्रोत के लिए एक करोड़ 83 लाख, खादी एवं ग्रामोद्योग के लिए पांच लाख, समेत कई अन्य योजनाओं के लिए भारीभरकम राशि का अनुमोदन किया गया है। बैठक में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर विधायक उदयराज यादव, विधायक पंकज गुप्ता, आदि मौजूद थे।

नवाबगंज में जलदोहन का मुद‍्दा उठा

गिरे जलस्तर और उस पर कारखानों द्वारा अप्रत्याशित जल दोहन का मुद्दा भी बैठक में छाया रहा। नवाबगंज क्षेत्र के दो जनप्रतिनिधियों ने प्रभारी मंत्री से एक पानी फैक्ट्री के चलते क्षेत्र में अप्रत्याशित भूगर्भ जल स्तर गिरने की शिकायत की। जिस पर जिलाधिकारी ने बताया कि टीम गठित करा कर मामले की जांच कराई जा रही है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों की ग्राउण्ड वाटर रीडिंग मंगाइ जा रही है। कार्रवाई की जाएगी।

Tags:    India 
Share it
Top