चौधरी चरण सिंह के जन्म दिवस पर यूपी के किसानों को सम्मान

vineet bajpaivineet bajpai   23 Dec 2015 5:30 AM GMT

चौधरी चरण सिंह के जन्म दिवस पर यूपी के किसानों को सम्मानगाँव कनेक्शन

लखनऊ। किसानों और कृषक मजदूरों के हित के प्रति सदैव जागरूक रहे गरीबों के शुभ चिंतक एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चौधरी चरण सिंह के जन्म दिवस (23 दिसम्बर) को किसान सम्मान दिवस के रूप में प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है। इस वर्ष इस दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के आवास पर प्रदेश के 30 प्रगतिशील किसानों को सम्मानित किया गया।

राज्य स्तर पर किसान सम्मान योजना में खरीफ की धान, मक्का, अरहर, उर्द व सोयाबीन तथा रबी की गेहूं, चना, मटर, मसूर एवं राई-सरसों की दस फसलों को सम्मिलित करते हुए तथा इनकी प्रति हेक्टेयर उच्च उत्पादकता के आधार पर प्रथम, द्वितीय पुरस्कार को सम्मिलित करते हुए 30 किसानों का चयन करके उन्हें पुरस्कृत किया गया, जिसमें प्रथम पुरस्कार के रूप में 20000 रुपए, द्वितीय पुरस्कार में 15000 रुपए व तृतीय पुरस्कार में 10000 नकद व एक-एक साल देकर सम्मानित किया गया। इसी प्रकार कृषि से सम्बन्धित अन्य विभाग जैसे गन्ना, उद्यान, मत्स्य आदि द्वारा भी किसानों को इस अवसर पर सम्मानित किया गया।

प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किसानों से अपील करते हुये कहा, "आप लोग इसी प्रकार मेहनत करते हुए उत्पादकता में वृद्धि करना अपना मिशन बनायें तथा वर्ष 2015-16 को किसान वर्ष के रूप में सफल बनायें।" उन्होंने कहा, "हम कोशिश करेंगे कि वर्ष 2016-17 को भी किसान वर्ष घोषित किया जाए।"

कृषि सम्मान दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, कृषि मंत्री विनोद कुमार, कृषि राज्य मंत्री राजीवकुमार सिंह व कृषि सलाहकार डॉ. रमेश यादव उपस्थित रहे।

प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किये गये किसान

1- सहारनपुर जि़ले के विकास खण्ड नानौता के महेशपुर गाँव के मदन सिंह को प्रदेश में सर्वाधिक गेहूं उत्पादन के लिये प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया। मदन सिंह ने प्रति हेक्टेयर 92.40 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गेहूं उत्पादन करके प्रथम पुरस्कार हासिल किया।

2- अम्बेडकर नगर जि़ले के बड़ागाँव के निवासी आलोक कुमार वर्मा को प्रदेश में सर्वाधिक चना उत्पादन के लिये प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया। इन्होंने प्रति हेक्टेयर 46.70 कुन्तल चने का उत्पादन किया था।

3- अम्बेडकर नगर जि़ले के विकास खण्ड जलालपुर के उसरहा गाँव के किसान राम मिलन ने प्रदेश में सर्वाधिक 45.60 कुन्तल प्रति हेक्टेयर मटर का उत्पादन कर प्रथम पुरस्कार हासिल किया।

4- बहराइच जि़ले के असमानपुर गाँव के शैलेन्द्र कुमार को प्रदेश में सर्वाधिक 44 कुन्तल प्रतिहेक्टेयर मसूर का उत्पादन करने के लिये प्रथम पुरस्कार दिया गया।

5- बहराइच जनपद के महसी गाँव की कलावती सिंह ने राई-सरसों का उत्तर प्रदेश में सबसे ज़्यादा 37.20 कुन्तल प्रति हेक्टेयर उत्पादन कर प्रथम पुरस्कार हासिल किया।

6- बाराबंकी जि़ले के बंकी ब्लॉक के मलूकपुर गाँव के निवासी अरुण कुमार को प्रदेश में सबसे ज़्यादा 129.80 कुन्तल प्रति हेक्टेयर धान का उत्पादन करने के लिये प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

7- पार्वती देवी को उत्तर प्रदेश सबसे ज़्यादा मक्का 125.40 कुन्तल प्रति हेक्टेयर उत्तपाद करने के लिये प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पार्वती देवी बहराइच जि़ले के चित्तौर ब्लॉक के सोहरवां गाँव की रहने वाली हैं।

8- अलीगढ़ जनपद के खैर ब्लॉक के बझेड़ा गाँव के किसान ओमवीर सिंह को प्रदेश में सर्वाधिक 29 कुन्तल प्रति हेक्टेयर अरहर उत्पादन करने के लिये प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

9- झांसी जि़ले के सरौना गाँव की रानी कुशवाहा ने उर्द की फसल में प्रदेश में सबसे ज़्यादा 39.60 कुन्तल प्रति हेक्टयेर उत्पादन करके प्रथम पुरस्कार अपने नाम किया।

10- झांसी जि़ले बड़ागाँव ब्लॉक के बरगढ़ गाँव के प्रगतिशील किसान गुलाब सिंह यादव को प्रदेश भर में सर्वाधिक सोयाबीन (52.80 कुन्तल प्रति हेक्टेयर) उत्पादन करके प्रथम पुरस्कार अपने नाम किया।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top