चिन्हित होंगी गर्भवती महिलाएं ताकि कुपोषित ना हों बच्चे

चिन्हित होंगी गर्भवती महिलाएं ताकि कुपोषित ना हों बच्चेगाँव कनेक्शन

बलिया। गर्भावस्था में महिलाओं का सही से इलाज न हो पाने के चलते अक्सर वो कुपोषित बच्चे को जन्म देती हैं। इससे उन्हें व नवजातों को कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इससे निपटने के लिए शासन ने विशेष अभियान चलाने का निर्देश दिया है, जिसमें गर्भवती महिलाओं को चिह्नित करने के साथ ही उनके समुचित इलाज की भी व्यवस्था की गई है।

यह अभियान 27 जनवरी से पांच फरवरी तक चलेगा इससे पहले गर्भवती महिलाओं के चिह्नित करने का काम पूरा कर लेना है।

इन चिह्नित महिलाओं को स्वास्थ्य केंद्र पर विधिवत जांच के अलावा दवा भी देने का प्रावधान है। इसके लिए शासन से मुख्य सचिव आलोक रंजन का निर्देश भी यहां के अधिकारियों को प्राप्त हो गया है। इसमें कहा गया है कि मां व शिशु दोनों के स्वास्थ्य के लिए कुपोषण से बचाव व समुचित पोषण अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि कुपोषण की शुरुआत मां के गर्भ से ही हो जाती है। ऐसे में समय रहते गर्भवती महिलाओं की सही समय पर जांच हो जाए तो कुपोषण के लक्षणों का पता चल जाएगा।

इससे मां व बच्चों को कुपोषण से बचाया जा सकता है। इसको लेकर स्वास्थ्य महकमे ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

इन विभागों की भी होगी भागीदारी -

मातृत्व सप्ताह में स्वास्थ्य विभाग के अलावा राज्य पोषण मिशन, आइसीडीएस, खाद्य एवं रसद विभाग, पंचायती राज विभाग व बेसिक शिक्षा विभाग का सहयोग लेना है। इन सबके सहयोग से गाँवों में गर्भवती महिलाओं को चिह्नित करने का कार्य किया जाएगा। सीएमओ डा. पीके सिंह ने बताया कि इसके लिए जिलाधिकारी के निर्देश पर कंट्रोल रूम भी बनाया जाएगा। सभी विभागों के सहयोग से इस अभियान को सफल बनाने की कवायद शुरू कर दी गई है।

अभियान का मुख्य उद्देश्य-

गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण बढ़ाना, सभी गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य एवं पोषण की जांच करना और उन्हें आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराना, जटिलता से ग्रसित महिलाओं की पहचान करना तथा प्राथमिकता के आधार पर उन्हें चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना एवं संदर्भित करना, जिससे उनका सतत फालोअप एवं सुरक्षित प्रसव सुनिश्चित किया जा सके। 

सभी गर्भवती महिलाओं से संपर्क स्थापित कर संस्थागत प्रसव में वृद्धि लाना। ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवसों में मातृ एवं बाल स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता सुनिश्चित करना।

Tags:    India 
Share it
Top