पाकिस्तान को आतंकवाद प्रायोजक देश घोषित करने को पांच लाख ने किए हस्ताक्षर

पाकिस्तान को आतंकवाद प्रायोजक देश घोषित करने को पांच लाख ने किए हस्ताक्षरपाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ।

वाशिंगटन (भाषा)। पाकिस्तान को आतंकवाद का प्रायोजक देश घोषित करने के प्रस्ताव वाली ऑनलाइन व्हाइट हाउस याचिका पर करीब पांच लाख लोगों ने समर्थन जताया है जो ओबामा प्रशासन से इस बारे में जवाब मिलने के लिए जरूरी संख्या से पांच गुना हैं।

याचिका को एक व्यक्ति ने 21 सितंबर को जारी किया था जिसने खुद को आरजी नाम वाला बताया और व्हाइट हाउस से इस संबंध में जवाब मिलने के लिए 30 दिन में एक लाख हस्ताक्षरों की जरूरत है। एक सप्ताह के अंदर ही याचिका पर एक लाख लोगों के समर्थन का आंकड़ा पार हो गया और दो सप्ताह से कम समय में पांच लाख लोगों के दस्तखत आ गए। यह याचिका अब व्हाइट हाउस की वेबसाइट पर मशहूर हो गई है। याचिका के मुताबिक ओबामा प्रशासन 60 दिन में याचिका पर जवाब दे सकता है।

समर्थन में दस लाख हस्ताक्षर का लक्ष्य : अंजू प्रीत

अपने फेसबुक पेज पर याचिका डालने वालीं जार्जटाउन यूनीवर्सिटी की वैज्ञानिक अंजू प्रीत ने कहा, ‘‘हम लोगों की पाकिस्तान को आतंकवाद का प्रायोजक देश घोषित करने के लिए प्रशासन से कहने'' वाली याचिका के समर्थकों ने दस लाख हस्ताक्षरों का लक्ष्य निर्धारित किया है। हम इससे पहले नहीं रुकेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘अब सक्रियता दिखाने का समय है, व्हाइट हाउस के साथ याचिका पर हस्ताक्षर करने में हम सब हाथ मिलाएं।''

आतंकवाद पर कांग्रेस की उप समिति के अध्यक्ष टेड पो ने कांग्रेस के एक और साथी सदस्य डाना रोहराबेकर के साथ मिलकर याचिका एचआर 6069 पेश की थी। याचिका पर 21 अक्तूबर तक दस्तखत किए जा सकते हैं।

पाकिस्तान को आतंकी राष्ट्र घोषित करने वाला निजी विधेयक पेश करेंगे सांसद राजीव चंद्रशेखर

नई दिल्ली। उरी आतंकी हमले की पृष्ठभूमि में राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में एक निजी विधेयक पेश करेंगे जिसमें पाकिस्तान जैसे आतंक को प्रायोजित करने वाले देशों को आतंकवादी देश घोषित करने का प्रावधान होगा। राजीव चंद्रशेखर ने कहा, ‘‘ अब वक्त आ गया है कि संसद ऐसे एक विधेयक को मंजूरी दे जिसमें आतंक को प्रायोजित करने वाले देशों को आतंकवादी राष्ट्र घोषित किया जाए। ऐसा इसलिए जरुरी है क्योंकि अब अंतरराष्ट्रीय समुदाय भी पाकिस्तान के आतंक समर्थित एजेंडे के खिलाफ है। ''

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को लिखा खत

राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को लिखे पत्र में चंद्रशेखर ने कहा, ‘‘ मैं सदन में एक निजी विधेयक पेश करना चाहता हूं जिसे आतंकवाद को प्रायोजित करने वाला राष्ट्र विधेयक, 2016 नाम दिया गया है। इस निजी विधेयक को संसद के शीतकालीन सत्र में पेश करना चाहता हूं जिसका मसौदा इस पत्र के साथ संलग्न है।'' आठ पन्नों के विधेयक के मसौदे में चंद्रशेखर ने कहा कि कुछ देशों को आतंकवाद का प्रायोजक राष्ट्र घोषित किया जाए और ऐसे देशों के साथ आर्थिक एवं कारोबारी संबंधों को समाप्त किया जाना चाहिए। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय आतंक के एजेंटों को प्रायोजित करता है और उन्हें पनाह देता है और ऐसे तत्व भारत के लोगों और इलाकों में निशाना बनाते हैं. ऐसी गतिविधियों से अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर निपटने की तत्कालिक जरुरत है।

कर्नाटक से राज्यसभा सांसद और बिजनेसमेन राजीव चंद्रशेखर।

देशहित में होगी पहल : चंद्रशेखर

संसद राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि संसद में अगर ऐसा कोई विधेयक पारित होता है तब यह भारत और देश के लोगों के हितों की रक्षा करने की दिशा में सर्वश्रेष्ठ पहल होगी। इस प्रस्तावित निजी विधेयक के मसौदे में पाकिस्तान जैसे आतंक को प्रायोजित करने वाले राष्ट्रों को वित्तीय मदद रोकने की बात कही है. इसमें भारत के किसी व्यक्ति, इकाई या कारपोरेट क्षेत्र के पाकिस्तान के साथ कारोबार पर रोक लगाने की बात कही गई है। इसमें भारत के भौगोलिक सीमा क्षेत्र से पाकिस्तान के विमानों के उडान भरने पर रोक लगाने की बात भी कही गई है।

हाल ही में अमेरिकी हाउस आफ रिप्रेंजेटेटिव में रिपब्लिकन पार्टी के सदस्य ने पाकिस्तान को आतंक का प्रायोजक देश के रूप में पेश करने संबंधी विधेयक पेश किया ।



Share it
Top