नेतृत्व और तानाशाही के बीच भेद को नहीं समझते ट्रम्प: हिलेरी      

नेतृत्व और तानाशाही के बीच भेद को नहीं समझते ट्रम्प: हिलेरी      अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप के विरोध में कुछ इस तरह लोग कर रहे प्रचार।

वाशिंगटन। डेमोक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि डोनाल्ड ट्रम्प अक्सर नेतृत्व और तानाशाही के बीच भेद को नही समझते। हिलेरी ने रिपब्लिकन पार्टी के अपने प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार पर आरोप लगाया ‘‘रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन जैसे तानाशाहों के प्रति उनका अजीबोगरीब मोह है।''

अमेरिका के अहम चुनावी क्षेत्र ओहायो के एकरॉन में एक चुनावी रैली को संबोधित करने के दौरान रूसी राष्ट्रपति के प्रति ट्रम्प के स्नेह पर तीखा हमला करते हुए कहा हिलेरी ने कहा, ‘‘वह नेतृत्व और तानाशाह के बीच फर्क करने में उलझन में रहते हैं। उन्हें बमुश्किल ही याद रहता है कि हमारे दोस्त कौन हैं और कौन विरोधी। पुतिन जैसे तानाशाह के प्रति उनका अजीब मोह है।'' उन्होंने कहा, ‘‘ओहायो के इस हिस्से में हमारे ऐसे कई लोग रहते हैं जो स्वयं या उनके माता पिता या उनके दादा-दादी या नाना-नानी उत्पीडन के शिकार देशों से आते हैं और हम इसे दोबारा नहीं होने देंगे।'' अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री ने ओहायो में कई रैलियों को संबोधित किया।

ओहायो में अपने एक अन्य चुनावी रैली में हिलेरी ने ट्रम्प के कारोबारी रेकॉर्ड की आलोचना की। उन्होंने कहा, ‘‘फॉर्च्यून 100 की किसी कंपनी के सीईओ ने ट्रम्प का समर्थन नहीं किया है। सोचिए इसके बारे में। जबकि वॉरेन बफेट, माइक ब्लूमबर्ग, मार्क क्यूबन जैसे बेहद सफल लोगों ने मेरा समर्थन किया है।''

Share it
Top