सेना-सरकार के बीच तनातनी की खबर देने वाले पत्रकार के पाकिस्तान छोड़ने पर रोक

सेना-सरकार के बीच तनातनी की खबर देने वाले पत्रकार के पाकिस्तान छोड़ने पर रोकसीरिल अलमीडा

इस्लामाबाद (भाषा)। एक अहम बैठक में सैन्य और असैन्य नेतृत्व के बीच संदिग्ध दरार दिखाई देने की खबर देने वाले एक प्रसिद्ध पत्रकार को पाकिस्तान छोड़ने से रोक दिया गया है। इस बैठक में ताकतवर आईएसआई को कहा गया था कि आतंकी समूहों को उसकी ओर से समर्थन दिए जाने के कारण पाकिस्तान वैश्विक रूप से अलग-थलग पड़ रहा है।

'द डॉन' अखबार के स्तंभकार और संवाददाता सिरिल अलमीडा ने ट्वीट करके कहा कि उन्हें बताया गया है कि उन्हें ‘निकास नियंत्रण सूची' में रखा गया है। यह पाकिस्तान सरकार की सीमा नियंत्रण की व्यवस्था है, जिसके तहत सूची में शामिल लोगों को देश छोड़ने से रोका जाता है। अलमीडा ने ट्वीट किया, ‘‘मुझे बताया गया है और सूचित किया गया है और प्रमाण दिखाया गया है कि मैं निकास नियंत्रण सूची में हूं।'

उन्होंने कहा, ‘‘उलझन में हूं, दुखी हूं। कहीं जाने का कोई इरादा नहीं था। यह मेरा घर है। पाकिस्तान। मैं बहुत रात दुखी हूं। यह मेरी जिंदगी है, मेरा देश है. क्या गलत हो गया?'' अलमीडा ने कहा कि उन्होंने लंबे समय पहले से विदेश यात्रा की योजना बनाई हुई थी। उन्होंने कहा, ‘‘लंबे समय से एक यात्रा पर जाने की योजना थी। अब से कम से कम कई माह पहले की योजना। कई ऐसी चीजें हैं, जिन्हें मैं कभी माफ नहीं कर पाऊंगा।'' सरकार ने इस प्रतिबंध पर आधिकारिक तौर से कोई बयान नहीं दिया है लेकिन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सोमवार को अधिकारियों से कहा था कि वे इस ‘मनगढ़ंत' कहानी को छापने के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ ‘कडी कार्रवाई' करें। इसी बीच अलमीडा का ट्वीट पाकिस्तान में शीर्ष ट्रेंड में आ गया और उन्हें कई वरिष्ठ पत्रकारों का समर्थन मिलने लगा है।

जियो के नजम सेठी ने ट्वीट किया, ‘‘असैन्य-सैन्य प्रतिष्ठान ने सायरिल (डॉन) को मूर्खता के साथ निशाना बनाकर अंतरराष्ट्रीय मीडिया को एक बड़ी खबर दे दी है। मीडिया को सायरिल अलमीडा और डॉन के साथ खडा होना चाहिए।''

Share it
Top