वर्ष 2016: दुनिया के नक्शे पर फिर लहराया भारत का परचम 

वर्ष 2016: दुनिया के नक्शे पर फिर लहराया भारत का परचम प्रतिष्ठित फोर्ब्स पत्रिका ने इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विश्व के दस सबसे ताकतवर लोगों की सूची में शामिल किया है।

नई दिल्ली (भाषा)। इतिहास के पन्नों में सिमटने जा रहे वर्ष 2016 में भारतीयों ने एक बार फिर अपनी उपलब्धियों से देश को गौरवान्वित किया और साबित कर दिया कि दुनिया को शून्य और दशमलव देने वाले देश में मेधा की कमी नहीं है। फोर्ब्स सूची से लेकर यूएनडीओएफ मिशन, गूगल, आईसीसी आयोग, अमेरिकी कांग्रेस और अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थानों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर मेजर जनरल जयशंकर मेनन, सुषमा स्वराज, विजय साजवाल, पी वी सिंधु, प्रियंका चोपड़ा सहित सभी ने अपनी सशक्त उपस्थिति दशाई है।

प्रतिष्ठित फोर्ब्स पत्रिका ने इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विश्व के दस सबसे ताकतवर लोगों की सूची में शामिल किया है। विश्व के सबसे ताकतवर 74 लोगों की सूची में मोदी नौवें स्थान पर हैं। फोर्ब्स ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री 1.3 अरब की जनसंख्या वाले देश में अब भी बहुत अधिक लोकप्रिय हैं। सूची में रिलायंस इंडस्टरीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी को 38वें स्थान पर रखा गया है। माइक्रोसॉफ्ट के भारतवंशी सीईओ सत्य नडेला को सूची में 51वां स्थान मिला है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और परोपकार का काम करने वाले दंपति अनुपमा और विनीत नायर उन भारतीयों में शामिल हैं जिन्हें अमेरिका की फॉरेन पॉलिसी पत्रिका द्वारा तैयार की गई साल 2016 की ग्लोबल थिंकर्स लिस्ट में जगह दी गई है। स्वराज को ‘डिसीजन मेकर्स' की श्रेणी में डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार रहीं हिलेरी क्लिंटन, संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और अमेरिकी अटॉर्नी जनरल लॉरेटा लिंच समेत अन्य के साथ जगह दी गई है। पत्रिका ने ‘ट्विटर कूटनीति के अनोखे ब्रांड को प्रचलित' करने के लिए सुषमा को बधाई भी दी।

पत्रिका ने संपर्क फाउन्डेशन के सह-संस्थापकों नायर दंपति को ‘द मुगल्स' श्रेणी में ‘ऐसी प्रौद्योगिकी की राह खोलने के लिए रखा है जिससे बच्चे सीख सकें।'' जिन अन्य भारतीयों को सूची में जगह दी गई है उनमें नीतेश कादयान, निखिल कौशिक और ग्रैविकी लैब्स के अनिरुद्ध शर्मा और इम्यूनोलॉजिस्ट गुरशरण प्रसाद तलवार शामिल हैं। तलवार ने एक ऐसा टीका विकसित किया है जो अगले तीन साल में कुष्ठ रोग की दर 65 फीसदी तक घटा सकता है।

फरवरी में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून ने भारतीय सेना के मेजर जनरल जय शंकर मेनन को यूनाइटेड नेशन्स डिसइंगेजमेट आब्जर्वर फोर्स (यूएनडीओएफ) का मिशन प्रमुख और बल कमांडर प्रमुख नियुक्त किया। संयुक्त राष्ट्र का यह महत्वपूर्ण बल गोलन में तैनात है और इसका काम इस्राइल तथा सीरिया के बीच संघर्षविराम बनाए रखना है।

ओलंपिक में पदक जीतने वाली बैडमिंटन स्टार पी वी सिंधू वर्ष 2016 में गूगल पर भारतीयों द्वारा खोजी जाने वाली शीर्ष ट्रेंडिंग हस्तियों में अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बाद दूसरे स्थान पर रहीं। सूची में जगह बनाने वाली अन्य भारतीय हस्तियों में जिमनास्ट दीपा करमाकर चौथे स्थान पर रहीं और क्रिकेटर एम एस धोनी के जीवन पर बनी फिल्म से बॉलीवुड में कदम रखने वाली अभिनेत्री दिशा पटानी को भी सूची में जगह मिली।

सिंधू के साथ ओलंपिक में पदक जीतने वाली एवं पहलवान साक्षी मलिक और बैडमिंटन स्टार किदम्बी श्रीकांत भी भारत से गूगल पर खोजी जाने वाली 10 ट्रेंडिंग हस्तियों में शामिल रहे।

अभिनेत्री प्रियंका चोपडा और फैशन डिजाइनर अनिता डोंगरे इस साल गूगल पर सबसे ज्यादा तलाश की गई हस्तियों में शामिल हैं। गूगल द्वारा जारी एक आधिकारिक सूची में हॉलीवुड अभिनेत्री जेनिफर गार्नर पहले स्थान पर हैं। ‘बेवाच' फिल्म से हॉलीवुड सिनेमा में पर्दापण करने जा रहीं प्रियंका ऑस्कर रेड कार्पेट ड्रेस श्रेणी में सातवें नंबर पर हैं। इसका मतलब यह है कि लोगों ने ऑस्कर समारोह में हिस्सा लेने के दौरान रेड कार्पेट पर चहलकदमी करने वाली जिन हस्तियों को गूगल पर ढूंढा उनमें प्रियंका सातवें क्रम पर आती हैं।

इसी तरह गूगल पर सबसे ज्यादा तलाशी जाने वाली फैशन जगत की हस्तियों में अनिता डोंगरे भी सातवें क्रम पर हैं। अनिता तब चर्चाओं में आ गयीं जब इस साल भारत यात्रा के दौरान ब्रिटिश शाही घराने की सदस्य केट मिडिलटन ने उनका डिजाइन किया एक परिधान पहना था। इस सूची में भारतीय मूल की अमेरिकी डिजाइनर रैचल रॉय पहले स्थान पर हैं।

बीबीसी की पिछले 70 साल की सर्वाधिक प्रभावशाली महिलाओं की सूची में वर्ष 1970 के दशक में ब्रिटेन की एक फैक्टरी में महिला कर्मियों के कम वेतन के खिलाफ मुहिम का नेतृत्व करने वाली गुजरात में जन्मी जयाबेन देसाई को शामिल किया गया है। भारतीय-अमेरिकी विशेषज्ञ विजय साजवाल को अमेरिका वाणिज्य विभाग की असैन्य परमाणु व्यापार परामर्श समिति में फिर से नियुक्त किया गया है। साजवाल श्रीनगर में जन्मे और वहीं पढ़ाई-लिखाई की। वह मिशिगन टेक में स्ट्रक्चरल मैकेनिक्स में पीएचडी के लिये 1970 में अमेरिका गए।

Share it
Share it
Share it
Top