भारत समेत तीन देशों ने सार्क सम्मेलन में जाने से किया इंकार, पाक बोला “दुर्भाग्यपूर्ण”

भारत समेत तीन देशों ने सार्क सम्मेलन में जाने से किया इंकार, पाक बोला “दुर्भाग्यपूर्ण”Pak PMNawaz Sharif and India PM Narendra Modi

नई दिल्ली। पाकिस्तान के इस्लामाबाद में 9 नवंबर को होने वाले सार्क शिखर सम्मलेन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शामिल न होने का फैसला किया है। इस फैसले के बाद तीन और देशों ने भी भारत का समर्थन करते हुए सार्क शिखर सम्मलेन में शामिल नहीं होने का निर्णय लिया। आठ सदस्यीय इस समूह में बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान ने यह कदम उठाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्मलेन में न शामिल होने से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि सार्क सम्मेलन को रद्द किया जा सकता है क्योंकि यह संगठन सर्वसम्मति के आधार पर चलता है।

पाकिस्तान के लिए शर्मिंदगी की होगी बात

केरल के कोझिकोड में हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत पाकिस्तान को दुनिया से अलग-थलग कर देगा। ऐसे में सार्क सम्मलेन में प्रधानमंत्री के न जाने का फैसला इसी नजर से देखा जा रहा है। बताया जा रहा है कि सार्क सम्मलेन में भारत के शामिल न होने से सम्मेलन का ज्यादा महत्व नहीं रह जाएगा। वहीं तीन देशों के सम्मेलन में शामिल न होने के फैसले से सम्मेलन रद्द हो सकता है। अगर इस्लामाबाद में सार्क सम्मेलन 9 नवंबर को रद्द होता है तो पाकिस्तान के लिए यह शर्मिंदगी की बात होगी।

विदेश मंत्रालय ने जारी किया बयान

विदेश मंत्रालय की ओर से एक बयान जारी किया गया है। सार्क शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे नेपाल को जारी बयान में कहा गया है कि सीमापर से आतंकवादी हमले बढ़ रहे हैँ। यह काम दक्षिण एशिया के एक ही देश की ओर से किया जा रहा है। इस देश ने ऐसा माहौल बना दिया है जिससे सम्मेलन सफल नहीं हो सकता है। कहा गया है कि मौजूदा परिदृश्य में भारत सरकार इस्लामाबाद में प्रस्तावित सम्मेलन में शामिल होने में असमर्थ है। भारत ने कहा है कि उसका मानना है कि यह सब आतंकवाद मुक्त माहौल में ही संभव हो सकता है।

पाकिस्तान ने कहा, दुर्भाग्यपूर्ण

भारत के सार्क शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लेने के निर्णय को पाकिस्तान ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। पाक विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा है कि हमें इस संदर्भ में कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है, लेकिन भारत की घोषणा दुर्भाग्यपूर्ण है। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि ‘जहां तक भारत के बहाने का सवाल है तो पूरी दुनिया जानती है कि भारत पाकिस्तान में आतंकवाद को सहायता और वित्तीय मदद दे रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के अधिकारी कुलभूषण यादव का कबूलनामा जिंदा सबूत है और कई दूसरे सबूत भी हैं।

Share it
Share it
Share it
Top