समस्या दूर करने के बजाय शिकायत करने वाले को ही जेल भेजने में जुटा प्रशासन

समस्या दूर करने के बजाय शिकायत करने वाले को ही जेल भेजने में जुटा प्रशासनहवा सिंह को न्याय के बदले जेल भेजने में जुटे अधिकारी

अज्येंद्र मलिक (कम्यूनिटी जर्नलिस्ट) 28 वर्ष

शामली। हवा सिंह बीते दो साल से क्षेत्र में पानी की समस्या दूर करने के लिए प्रयासरत हैं। इलाके में बनी पानी की टंकी में किए गए भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले इस पेशेवर मज़दूर ने हर अधिकारी का दरवाजा खटखटाया। मगर उन्हें न्याय नहीं मिला। अलबत्ता पूरा जिला प्रशासन उन्हें जेल भेजने की तैयारी कर रहा है।

यह मामला है थाना बाबरी क्षेत्र के गाँव चूनसा का। यहां हवासिंह पुत्र खेम्मा गाँव की टंकी में हुईं भष्ट्राचार के विरुद्ध और शुद्ध पेयजल की मांग कर रहे हैं। इसे मांग कम और जंग कहें तो ज्यादा बेहतर है। हवा सिंह को प्रशासन ने मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने की तैयारी कर ली है। अपना दर्द बताते हुए हवा सिंह बताते हैं, "मेरे गाँव में स्वजलधारा योजना के अंतर्गत वर्ष 2011-12 में पानी की टंकी का निर्माण हुआ था लेकिन वो आज तक नहीं चल पायी। ऐसा कोई प्रशासनिक अधिकारी नहीं बचा जिसके पास मैं अपनी समस्या लेकर नहीं पहुंचा।" वे बताते हैं, "मैं दो साल से अब तक करीब 23 प्रार्थना पत्र लिख चुका हूं। विभिन्न अफसरों से लगाई गई गुहार में हर किसी ने अपना पल्ला झाझ़ते हुए किनारा कर लिया।"

ऐसे में तंग आकर हवा सिंह ने इस साल 7 जुलाई को तहसील में पत्र देकर उक्त पानी की टंकी से कूदने का ऐलान कर दिया। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस फोर्स पहुंच गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसडीएम भी पहुंच गए। उस समय के बारे में बताते हुए वे कहते हैं, "एसडीएम साहब ने 15 दिन के अंदर टंकी के कार्य को पूरा करने का आश्वासन दिया था। साथ ही, मुझ पर आत्महत्या की इस कोशिश के लिए किसी भी प्रकार की कानूनी कार्रवाई न करने का भी वादा किया था।"

हालांकि, हवा सिंह के मुताबिक, अधिकारियों ने टंकी दुरुस्त करने के बजाय बावजूद धारा 309 के तहत उन्हें समन भेज दिया। उस समन के कारण उन्हें 15 दिसंबर को मुजफ्फरनगर कोर्ट में पेशी भी देनी पड़ी। अब वह वकील की मदद से खुद की गिरफ्तारी के आदेश को रोकने की कोशिश कर रहा है। आलम यह है कि इस अविवाहित मजदूर को अब 24 जनवरी से पहले अपनी जमानत करानी है। जिसके, लिए उसके पास रुपए नहीं हैं। इस बारे में उनके वकील मुकेश त्यागी कहते हैं, "हवा सिंह को 24 जनवरी से पहले जमानत करानी होगी अन्यथा उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उसके खिलाफ वारंट जारी कर दिया जाएगा।"

अंत में हवा सिंह बताते हैं, "काश! अधिकारियों ने टंकी को बनवाने के साथ ही क्षेत्र की जनता को शुद्ध पेयजल पिलवाने का प्रयास किया होता। मगर अफसरों ने उन्हें जेल भेजने में ही सारी कोशिश लगा दी है। समस्या जस की तस बनी हुई है।"

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top