नोटबंदी: प्रवर्तन निदेशालय ने दो निजी बैंक अधिकारियों को गिरफ्तार किया

नोटबंदी: प्रवर्तन निदेशालय ने दो निजी बैंक अधिकारियों को गिरफ्तार कियाप्रतीकात्मक फोटो।

नई दिल्ली (भाषा)। प्रवर्तन निदेशालय ने पुराने नोट बदलने में कथित अनियमितता तथा नए नोटों की आपूर्ति कर कालाधन जुटाने के आरोपों के चलते धन शोधन की अपनी जांच के सिलसिले में एक निजी बैंक के दो अधिकारियों को गिरफ्तार किया है।

अधिकारियों ने गिरफ्तार व्यक्तियों की पहचान शोभित सिन्हा और विनीत सिन्हा के तौर पर की है जो यहां स्थित एक्सिस बैंक की कश्मीरी गेट शाखा में प्रबंधक हैं। अधिकारियों के अनुसार, दोनों को सोमवार शाम धनशोधन निरोधक कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया। दोनों को हिरासत के लिए अदालत में पेश किया जाएगा।

साथ ही अधिकारियों ने बताया कि एजेंसी ने लखनऊ में एक जगह से कथित रिश्वत के भुगतान के तौर पर बैंकरों को दी गई सोने की एक छड़ जब्त की है। एक्सिस बैंक ने इस संबंध में एक बयान जारी कर कहा है ‘‘यह बैंक कॉरपोरेट प्रशासन के उच्चतम मानकों का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध है और स्थापित आदर्श आचार संहिता से अपने कर्मचारियों के किसी भी विपथन को कतई बर्दाश्त नहीं करता। इस विशेष मामले में बैंक ने कथित आरोपी कर्मचारी को बर्खास्त कर दिया तथा जांच एजेंसियों के साथ सहयोग किया जा रहा है।''

प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों ने बताया कि दोनों कर्मियों पर काले धन को सफेद करने में लिप्त होने का आरोप है। उन्होंने बताया कि आरोपियों ने 500 रुपये तथा 1000 रुपये के नोट अमान्य किए जाने के बाद कालेधन को सफेद करने के लिए आरटीजीएस और एमईएफटी जैसी बैंक स्थानांतरण प्रणालियों (बैंकिंग ट्रान्सफर सिस्टम्स) का बार बार दुरुपयोग किया। सूत्रों के अनुसार, इस मामले में अनेक लोगों और व्यापारियों के बैंक खाते एजेंसी की जांच के दायरे में हैं।

प्रवर्तन निदेशालय ने दोनों आरोपियों तथा अन्य के खिलाफ दिल्ली पुलिस की प्राथमिकी के आधार पर आपराधिक शिकायत दर्ज की है। यह मामला दिल्ली पुलिस के समक्ष तब आया था जब कुछ समय पहले दो व्यक्तियों को 3.5 करोड़ रुपये मूल्य के नए नोटों के साथ पकड़ा गया था। इस मामले में आयकर विभाग भी हरकत में आया और उसने बैंक की शाखा का सर्वे किया तथा बाद में दोनों आरोपियों के रिहायशी परिसरों की भी तलाशी ली गई।

Share it
Top