पाक की एक और साजिश नाकाम, पीओके से आने वाले सामान के ट्रक से हो रही थी हथियारों की सप्लाई

पाक की एक और साजिश नाकाम, पीओके से आने वाले सामान के ट्रक से हो रही थी हथियारों की सप्लाईजम्मू-कश्मीर में ट्रक से बरामद हथियार और चालक।

जम्मू-कश्मीर। देश को आतंक फैलाने की फैलाने की पाकिस्तान की एक बड़ी साजिश फिर नाकाम हुई है। आतंक भारत और पाक अधिकृत कश्मीर के बीच होने वाले एलओली ट्रेड के जरिए हथियार सप्लाई करने वाले थे। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने क्रास एलओसी ट्रेड के एक ट्रक से भारी मात्रा में हथियार बरामद किए हैं।

जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक बारामुला जिले के उड़ी में पुलिस ने गुप्त जानकारी के बाद चेकिंग अभियान चलाया, इस दौरान एक ट्रक (नंबर- JK03B 1586) से मात्रा में हथियार बरामद किए। बरामद हथियारों में एक चाइनीज पिस्टल, दो पिस्टल की मैगजीन, 14 राउंड पिस्टल की गोलियां, एके मैगनीज, 120 एके राउंड, दो चाइनीज ग्रेनेड, शामिल हैं। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक ट्रक का डिजाइन ऐसा बनाया गया था कि हथियार आसानी से छिपाया जा सके। ये हथियार दक्षिणी कश्मीर में आतंकियों को सप्लाई किए जाने थे।

क्रास एलओसी ट्रेड के तहत पीओओ और जम्मू-कश्मीर में होने वाली चीजों का अदान-प्रदान होता है। ये पहला वाक्या है जब खाने-पीने के सामान से भरे ट्रक में हथियार मिले हैं। आतंकियों की ये साजिश नाकाम जरुर हो गई है लेकिन इसका असर दोनों तरफ के कारोबारियों और आम लोगों पर पड़ सकता है। इससे पहले कई बार नशीले पदार्थों की तस्करी इस कारोबार के जरिए हो चुकी है।

क्या होता है क्रास एलओसी ट्रेड?

क्रास एलओसी ट्रेड भारत और पाक अधिकृत कश्मीर के बीच होने वाला व्यापार है। इस कारोबार की खास बात यहा है कि इसमें पैसों का लेन-देन नहीं होता। पुराने जमाने में समान के बदले समान देने की प्रथा थी वैसे ही इस क्रास एलओसी ट्रेड में होता है, जितने दाम का सामान भारत से पीओके जाते हैं उतने ही दाम के सामान पीओके से भारत आते हैं। क्रास एलओसी ट्रेड में 21 चीजों का व्यापार होता है। इससे पहले भी कई बार ट्रेड के ट्रकों से नशीले पदार्थ बरामद हो चुके हैं। पुंछ स्थित ट्रेड में अनियमितता की एनआईए जांच कर रही है। इनमें सिर्फ उन्हीं चीजों का अदान-प्रदान होता है, जो दोनों इलाकों में पाई जाती हैं।

रिपार्ट- आरपी तिवारी

Share it
Top